चित्रगुप्त को लुभा न पाए अटल के मुखौटे

आड़ा-तिरछा , , रविवार , 26-08-2018


atal-asthikalash-swarg-chitragupta-kerala

वीना

स्वर्ग और नरक के दरवाज़ों के बीच चित्रगुप्त अपनी आराम कुर्सी पर विराजमान हैं। टेबल पर लैपटॉप और मोबाइल मौजूद हैं। साथ ही पुराने बहीखाते भी नज़र आ रहे हैं। चित्रगुप्त लैपटॉप पाकर बड़े खुश हैं। पहले स्वर्ग-नरक के जितने उम्मीदवार वो महीने में निपटाते थे अब एक दिन में हिसाब-किताब कर उनकी जगह पहुंचा देते हैं।

चित्रगुप्त मानते हैं कि उनका काम इतना महत्वपूर्ण है कि उसमें भूलकर भी कोई भूल नहीं होनी चाहिये। सो एहतियातन कर्मों का लेखा-जोखा रखने वाली पुरानी बही भी हर समय मौजूद रहती है। क्या है कि भारत से ऐसे-ऐसे नेता रूपी प्राणी आने लगे हैं कि अब पट्ठे, चित्रगुप्त को चूना लगाने से बाज़ नहीं आते। अक्सर चकमा देकर अपने पाप डिलीट करने की फ़िराक़ में रहते हैं।

कई तो इतने बेशर्म-बेवकूफ हैं कि पकड़े जाने पर चित्रगुप्त पर ही अपनी फर्ज़ी डिगरी का रौब झाड़ने लगते हैं। उस चित्रगुप्त को, जिसके पास पूरी डिटेल मौजूद है कि उन अनपढ़ महाशय ने कब, कहां से, किससे, कितने रोकड़े में डिग्री ख़रीदी है!

सैकड़ों को निपटाकर चित्रगुप्त ने पल भर के लिए आराम कुर्सी से कमर टिकाकर आंखें बंद की ही थी कि लाइन में आपा-धापी का शोर सुनाई दिया। अमूमन पृथ्वीवासी डरे-सहमे, ख़ामोश खड़े अपनी बारी का इंतज़ार किया करते हैं। यहां तक कि धोखे़बाज़-चालबाज़ नेतागण भी। 

चित्रगुप्त समझने की कोशिश कर ही रहे थे कि तभी लाइन में खड़े लोगों को जबरन धकेलता धोती-कुर्ता, जैकेट पहने एक बूढ़ा ठीक चित्रगुप्त के सामने पहले नंबर पर आ डटा। जैकेट की बगल में दोनों हाथों के अंगूठे टांगकर रौब से बोला - ‘‘रार नई ठानूंगा...हार नहीं मानूंगा...नाम तो सुना ही होगा..!’’

चित्रगुप्त ने माथा पीटते हुए कहा - ‘‘लो और एक नेतारूपी बला आ धमकी। आज का दिन बरबाद करके ही छोड़ेगा।’’ चित्रगुप्त ने ऊपर से नीचे तक देखा और पूछा - ‘‘कौन जनाब हैं आप? और लाइन क्यों तोड़ी? जानते हो लाइन तोड़ने की सज़ा के बतौर तुम्हारे खाते से 10 पुण्य घटा दिए जाएंगे?’’

‘‘आपने अटल बिहारी वाजपेयी को नहीं पहचाना!’’ अटल ने हैरान होते हुए कहा। ‘‘आजकल हिंदुस्तान के कोने-कोने में मेरे नाम की ही तो चर्चा है। मेरे अस्थि कलश और तस्वीर ढोते टैम्पू के अलावा और कुछ दिखाई देता है आपको भारतभूमि पर? मैं हूं अजातशत्रु, अटल बिहारी वाजपेयी।’’

‘‘मैं लोगों को शक्लों से नहीं उनकी फाइल देखकर पहचानता हूं। और अभी तुम्हारा नंबर नहीं आया है। सो मेरे लिए अभी तुम कोई नहीं हो। वैसे, जहां तक मुझे पता है अजातशत्रु का मतलब होता है जिसका कोई शत्रु न हो। हज़ार-दो हज़ार दुश्मन तो तुम अभी मेरे सामने बना आए। लाइन तोड़कर। रार नई ठानूंगा...हार नहीं मानूंगा... करते हुए।’’ चित्रगुप्त ने चुटकी लेते हुए कहा।

‘‘लाइन हो या आज़ाद देश की कमान। इनकी फितरत है बिना कुछ किए-धरे हर चीज़ पर कब्ज़ा जमाने की।’’ दूसरी तरफ से किसी महिला की आवाज़ आई। चित्रगुप्त ने उधर देखा और पूछा - ‘‘ओह! अच्छा हुआ गौरी लंकेश, कलबुर्गी जी और पानसरे जी आप लोग इधर आ गए! आप जानते हैं इन महाशय को?’’

‘‘जी हां, हम सब इन्हें जानते हैं। भगत सिंह बचपने में खेतों में बंदूके बोने चला था अंग्रेज़ों को भगाने के लिए। और इन जनाब ने बंदूकें, त्रिशूल-तलवार, वंदे मातरम, भारत माता की जय के नारे और अंध भक्त बोए हैं देशभक्तों को, देश की मासूम जनता को ख़त्म करने के लिए। जो भी इनकी करतूतों से परदा हटाता है, अपने हक़ की मांग करता है ये उन पर अपने त्रिशूल-तलवार, बंदूकधारी अंधभक्तों को छोड़ देते हैं।’’ कलबुर्गी ने अटल के चेहरे पर नज़र टिकाते हुए कहा। 

‘‘पर ये तो ख़ुद को अजातशत्रु कह रहे हैं!’’ चित्रगुप्त बोले।

‘‘हमारे कुछ भी कहने-बताने से बेहतर होगा कि आप अपने रिकॉर्ड निकाल कर 5 दिसंबर 1992 की रात में लखनऊ में की गई इनकी सभा को देख-सुन लें। अबकी बार पानसरे बोले।’’ 

चित्रगुप्त ने अपने लैपटॉप पर सर्च किया तो अटल बोलते नज़र आए – “नुकीले पत्थर निकले हैं, उन पर तो कोई नहीं बैठ सकता। ज़मीन को समतल करना पड़ेगा। बैठने लायक बनाना पड़ेगा। मेरी अयोध्या जाने की इच्छा थी मगर मुझे कहा गया तुम दिल्ली जाओ। और मैं आदेश का पालन करता हूं। मुझे नहीं पता अयोध्या में क्या होगा।“ मस्ती में मदमाते अटल को देख-सुन चित्रगुप्त अटल की ओर मुड़े।

अटल ने तुरंत सफाई दी - ‘‘ताला राजीव गांधी ने खुलवाया था। रामलला के मंदिर का शिलान्यास भी उन्होंने ही किया था। विश्व हिंदू परिषद को कहा था कि वहां जाकर मंदिर निर्माण करो। मैं तो बस कारसेवकों को यही बता रहा था।’’

‘‘क्या सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद गिराने के लिए कहा था?’’ चित्रगुप्त ने नज़रे गड़ाते हुए वाजपेयी से पूछा।

‘‘मैंने ऐसा कब कहा।’’ अटल ने जैकेट की बगल में अंगूठे ठूसे हुए ठीक वैसी ही बेशर्मी से कहा जैसे 5 दिसंबर 1992 को लखनऊ में कहा था।

‘‘तो फिर वो कौन से पत्थर थे जो तुम्हारे और कारसेवकों की तशरीफ़ों में चुभ रहे थे? वो क्या था जिसे तुम समतल करवा रहे थे?’’

‘‘अ...मैं...मैं...तो ऐसे ही मज़ाक-मज़ाक में...हे...हे...हे... यही मेरी भाषण शैली है। मेरी इसी अदा पर तो लोग मरते थे। वैसे तो मैं एक कोमल हृदय कवि हूं। स…ब जानते हैं।’’  अटल ने हकला कर चित्रगुप्त की तीख़ी नज़रों से बचते हुए कहा।

याद रखो, तुम अपने इस अंदाज़ से धर्म की भांग चढ़ाए पृथ्वी वासियों को मूर्ख बना सकते हो। चित्रगुप्त के रिकार्ड में हेराफेरी नहीं कर सकते। तुम्हारे लड़कपन से लेकर बुढ़ापे तक की ये दोगली शैली बही में सही-सही दर्ज है।

वो तुम ही थे जो भारत छोड़ो आंदोलन के समय लीलाधर वाजपेयी और अपने गांव वालों को फसवा कर ख़ुद बच निकले थे। 

वो तुम ही थे जो 1983 में असम में अपने ही देश के बंगाली मुसलमानों को विदेशी बताकर उनके टुकड़े-टुकड़े कर फेंकने की सलाह असमियों को देकर आए थे। और तुम्हारे इसी भड़काऊ भाषण के बाद वहां दंगों में 2 हज़ार से ज़्यादा लोग क़त्ल कर दिए गए। और फिर दिल्ली आकर तुम बगुला भगत बन कर इन दंगों की निंदा करने बैठ गए थे। 

और वो भी तुम ही थे जो 2002 के गुजरात दंगों में हज़ारों मासूम बच्चों-औरतों, मर्दों की हत्याएं होते देखते रहे। पहले आंसू बहाकर मोदी को राजधर्म की शिक्षा देते हो और फिर गोवा में कहते हो मुसलमान मिलकर रहना नहीं जानते। शांति नहीं चाहते। गोधरा किसने किया का सवाल उछाल कर ख़ुद को और मोदी को मासूम बता जाते हो। सब लिखा है यहां।‘‘ चित्रगुप्त ने बही ठोकते हुए कहा। 

‘‘देखो, इन कलबुर्गी जैसे विधर्मियों ने तुम्हारा दिमाग़ ख़राब कर दिया है। मैं हिंदू राष्ट्र का महान सिपाही हूं’’ अटल ने झल्लाते हुए चकरी की तरह हाथ घुमाकर कहा।

‘‘मैं यहां धर्म-विधर्म नहीं पाप-पुण्य का लेखा-जोखा देखता हूं। इनमें से एक भी तुम्हारी तरह दोगला नहीं। जिसने जो कहा, वही किया। तुम्हारे हिंदू आंतकवाद ने असमय इनकी जान ली। फिर भी ये शांत हैं। और एक तुम हो, पूरी उम्र मजे़ में गुज़ार कर आए हो फिर भी चैन नहीं। यहां मेरे सामने, केरल के बाढ़ पीड़ितों को धक्का देकर पीछे करने में तुम्हें शर्म नहीं आई! 

वैसे मैं तुम्हें एक जानकारी और दे दूं। प्राकृतिक आपदा में जो आम लोग अपनी जान गंवा कर यहां आएंगे उन्हें बिना बही खाता देखे सीधा स्वर्ग में एंट्री देने का प्रावधान कर दिया है हमने। ठीक इसी तरह दंगों में, युद्धों में जो मासूम मारे जाएंगे वो भी सीधा स्वर्ग जाएंगे।’’

‘‘मतलब?’’ अटल ने पूछा

‘‘मतलब अडानी-अंबानी, टाटा-बिड़ला, ट्रंप-फ्रंप, तुम और तुम्हारे चेलों आदि के लिए जो इंसानों को रौंदने में, प्रकृति का गला घोंटने में मसरूफ़ हैं उनका स्थान नरक में निश्चित है।’’ चित्रगुप्त ने आराम से समझाया।

‘‘हिंदू मान्यता के अनुसार पवित्र नदी में अस्थि विसर्जन से सारे पाप समाप्त हो जाते हैं। क्या तुम ये नहीं जानते ? गंगा नदी में अस्थि प्रवाहित होने से ही मैं पाप मुक्त हो जाऊंगा। फिर यहां तो पचासों नदियों में मेरी राख बहेगी।’’ अटल ने इतराते हुए कहा। 

‘‘सॉरी अटल! ये लाइफ़ लाइन भी तुम अपनी मूर्खताओं के कारण गवां चुके हो।’’ चित्रगुप्त अटल को देखकर फिर मुस्कराए।

‘‘वो कैसे!’’ अब अटल के होश उड़ गए।

चित्रगुप्त बोले- ‘‘किसी पवित्र नदी में अस्थि विसर्जन होने से पाप में मुक्ति मिलती थी। तुमने और तुम्हारे चहेते उद्योगपतियों ने जिन नदियों को ज़हरीले गंदे नालों में तब्दील कर दिया है उनमें नहीं। इन नदियों से गुज़र कर तो तुम्हें यहां कोई नरक में भी घुसने नहीं देगा।“ 

कोई दाव न चलता देख अटल ने चित्रगुप्त के कान के पास जाकर कहा - ‘‘सुनो चित्रगुप्त, क्या तुम भूल गए कि मेरे पूर्वजों ने ही तुम्हारी कल्पना की थी। तुम्हें स्वर्ग-नरक का अधिकारी बनाया था। अरे मूरख! मैं ब्राह्मण हूं...सर्वश्रेष्ठ ब्राह्मण। हमें सब माफ़ है। क्या जानते नहीं? क्या तुम मनुस्मृति की प्रति अपने पास नहीं रखते? देखो, ज़्यादा न्यायप्रिय मत बनो। मैं थक गया हूं। जल्दी से मेरे लिए स्वर्ग में एलॉट किया गया स्वीट खुलवाओ। कुछ लज़ीज़ मुर्गा-मछली पकवाओ। नहा-धोकर, खा-पीकर थोड़ा आराम कर लूं, फिर तुम्हारे कान खींचूंगा। हमारी बिल्ली, हमी को म्याऊं!’’ अटल ने अब चित्रगुप्त को चेतावनी दी।

अटल की इस चेतावनी पर चित्रगुप्त टेढ़ा मुस्कराए और बोले - ‘‘ ब्राह्मण अटल बिहारी वाजपेयी जी, अपने पृथ्वी के बहीखातों में आप क्या लिखते हैं क्या नहीं हमें उससे मतलब नहीं। आप पहली बार मरे हैं, इसलिए आपको पता नहीं। हमारे यहां ‘‘वसुधैव कुटुम्बकम’’ नियम लागू है।’’ 

चित्रगुप्त ने अपने मोबाइल पर एक नंबर मिलाया और बोला -  ‘‘स्टीव जॉब्स, कोई वायरस स्कैन है ऐसा जिससे इस अटल वायरस को हमेशा के लिए डिलीट किया जा सके या कै़द कर रखा जा सके। 

‘‘स्टीव जॉब्स का हमारे हिंदू खेमें में क्या काम? वो तो ईसाई है!’’ अटल ने यूं मुंह बनाकर कहा जैसे सोनिया गांधी सामने आ गईं हों।

‘‘कूल मैन..!’’ चित्रगुप्त ने कहा।

‘‘विदेशी भाषा हमारे स्वर्ग में? हिंदी हमारी मातृभाषा है, चित्रगुप्त। हिंदी में बात करो।’’ अटल ने आदेश देने के अंदाज़ में कहा।

“अच्छा! साथ अंग्रेज़ों का देते हो, और भाषा हिंदी चाहिये। वैसे तुम्हारी अटल हिंदी यूनिवर्सिटी की ख़बर देख रहा था। बंद हो रही है बेचारी। अंग्रेज़ जैसे अपनी भाषा पर काम करते हैं कभी किया तुमने? बस जुमले फेंको घर जाओ। तुम्हारी हिंदी कंप्यूटर का क नहीं जानती। बात करते हो। बहुत हो गई हिंदूगीरी। अब चलो, जहां से लाइन तोड़कर आए थे वापस वहीं, केरल के बाढ़-पीड़ितों के पीछे जाकर खड़े हो जाओ।

(वीना फिल्मकार, पत्रकार और व्यंग्यकार हैं।)








Tagatal asthikalash swarg chitragupta kerala

Leave your comment











Tusarkanta Satapathy :: - 08-26-2018
The ENGLISH LANGUAGE TRANSLATED VERSION below was delivered by HIS HIGHNESS THE GOVERNOR OF ODISHA in a function on 14-08-2018 Which was published in Odia language in Odia Language Daily Newspaper "SAMBAD" dt 15-08-2018. "The acts of Lord SRIKRISHNA in DWAPAR YUG had brought glory for India in the whole world. Chhatrapati SHIVAJI possessed all those qualities.Now after 300 yrs, Prime Minister Modiji is following all such steps" . ( There was no mention of GOLWALKARJI, HEGDEWARJI, SAVARKARJI, DINDAYALJI,VAJPAYEEJI and ADVANIJI in that News item) I am at a loss to ascertain as to Why the Lord allows A DHARMA to prevail needing his incarnation. Below are some quotes based on complete falsehood by the Same Modiji who is following the footsteps of LORD SRIKRISHNA and Chhatrapati SHIVAJI Maharaja. 1)TAXASILA IN BIHAR- (Truth)Actually in Pakisthan 2)Bhagat Singha etc were in ANDAMAN jail (Truth)-LAHORE JAIL 3).BIHARIs had defeated SIKANDAR. (Truth).He never touched Bihar border. 4) Madanlal Dhingra had killed British Colonel in London as directed by Shyam Prasad Mukharjee. (Truth).Mukharjee was 8 months old then only. 5)Dr Mukharjee died in 1930 in Geneva..(Truth)Died in JK in 1953. 6)Dr.Mukharajee had close coat with Swamy Dayananda and Vivekanandaji. (Truth).Both had died before Dr. MUKHARJEE was born. 7)China spends 20% of its GDP in education. .3.90% only 8 ..Konark was built 2000 yrs back..(Truth).Built in 13th Century 9) India has 600 voters .(Truth)Approximately 80 crs. 10) Karnatak has 7 lac villages. (Truth) India has about 6.50 lakh villages 11)Nehru as P.M. and Krishna MENON as Defence minister had insulted army chief Thimaya during 1948.Kashmir attack by Pakisthan.(Truth).Neither MENON was Defence minister nor Thimaya was Army chief then. 12) During 1962 China invasion, Army chief Carriapa was insulted by.then P.M Nehru..(Truth)Cariapa retired in 1953. 13)Baba Gorakhanath, Santha Kabir and Guru Nanak had discussed spiritual matters amongst themselves. .(Truth)Baba Gorakhanath was born 400 yrs before the other two. 14) Former P.M Vajpayee was a passenger on India's first Metro when Delhi Metro flagged off in 2002...(Truth) Yrs back, first metro started in the then Calcutta. 15)Before Gujurat Assembly Election , former P.M Dr.Singh, retired Army Chief etc met Pakisthan Ambassador in New Delhi and made a plan against India.( Truth) No such plan at all. 16)Modiji started Direct Benefit Transfer Scheme..(Truth) Started during UPA II in 2013. 17)Manishankar Aiyar compared Congress Party to Mughal Dynasty (Truth) Aiyar was comparing Mughal Dynasty and Congress President election. 18)During ID, supply of Electricity in UP than during DEEWALI. .(Truth) Less..13500 mw in ID and 15400.mw in DEEWALI 19)ISI involved in KANPUR train derailment (Truth.).UP POLICE DGP AND RAILWAY POLICE DG ..NO SUCH PROOF. 20)Before UP election, Modiji had said "UP is 1st in Crimes and attacks on Dalits..(Truth..NCRB data says..Rajsthan) 21)Modiji introduced Insurance scheme to protect weather related uncertainties . (Truth) Lunched in KHARIF 2003. 22) Rahul Gandhi in a rally on 01.03.2017 spoke "Coconut juice and Potato Factory". (Truth) He spoke of PINEAPPLE JUICE and POTATO CHIPS FACTORY. 23)125 cr families gave up Gas subsidy out of 25 cr families in India. Is 125 is out of 25 possible .IF 125 cr families , then what is the population of India? 24) Indira Gandhi had signed SIMALA AGREEMENT in 1972, with the then Pakisthan P.M Benjir Bhutto though her father Zulfikar Bhutto was the P.M. 25) No Congressman had met Bhagat Singh in Lahore jail though in August 1929, Nehru had met him there and had complained to British Authorities on very bad conditions in that jail. 26) Press Information Bureau had photoshoped Modiji's CHENNAI FLOOD VERIFICATION from chopper showing favourable photos which was false. 27) Modiji govt had shown SPAIN -MOROCCO boarder lighting system as our boarder lighting system done under his rule. 28) I get up at 5.30 am to listen RABINDRA SANGEET broadcast then by KOLKATA RADIO STATION though it gets broadcast at 7.30 am. 29)Vajpayeeji , in 2002 (then P.M)had travelled in 1st Metro Rail of India in Delhi though first metro rail had ran on 24..10.1984 in the then Calcutta, now renamed as KOLKATA. 30)UNO has praised India for having saved 3 lakh children due to SWACHHA BHARAT Scheme though UNO statement is "IF SWACHHA BHARAT Scheme is carried out successfully till October 2019, 3 lac children can be saved. 31)Image of Indian Passport has gone up in the world. But as per study by GLOBAL PASSPORT POWER INDEX ,it is ranked at 65th place which does not allow VISA ON ARRIVAL facility.Singapur is 1st and China is 55th. 32) Export from India to foreign countries has doubled. BUT in reality, in comparison to 2016, it has come down by 3.2 % in 2017. 33) Simply by covering a drain with an Utensil and from there connecting the burner with a pipe will supply gas for tea preparation ,Whereas it requires so many other appliances. 34)Gobar Gas filled in a tractor tube attached to a Water pump can run the pump which is totally false .It requires so many other appliances. bar Gas filled in a tractor tube attached to a Water pump can run the pump which is totally false .It requires so many other appliances. And all these are told by a Modern day HITLER with all qualities of the Original Hitler like; 1)Not married (wife abandoning ) 2)He believed that people of a certain religion were enemies of his country 3)He and his supports couldn't tolerate any criticism against him. 4)He used to paint and sell colours as a child(Tea) 5)After he came to power,all media forums were devoted to him 6)He crushed all Labour movements 7)He called his rivals anti-nationals, traitors 8)Joining Nazi party as an ordinary worker, he went to top finishing all his rivals 9)He had come to power promising to solve all the problems shortly ( 60 months) 10)Could not solve any problem but destroyed Germany 11)He came to power with slogan."Good days-Achhedin- are coming. 12) ON winning parliament seat, cried profusely after reaching there. 13)He loved good dresses. 14) Master of making sounds like truth 15)Always said..I.me.self 16)Loved giving radio speeches 1)Was starting speeches with Brothers as Sisters (Mitron.Baheno and Bhaion) 18)He loved getting photographed. I do not know IF the then Hitler had implemented so many schemes which he himself had objected to when not in power at center , but I know that at his behest, his minister Goebels had said A LIE REPEATED HUNDRED TIMES BECOMES TRUTH following which present time's BHAKTAS are saying; 1)Cow emits oxygen 2) Humayun is father of Babar 3)Mankind has not evolved out of Monkey race 4) Dalits are piglets of drains 5) We had DELHI size planes Etc Etc.