टूट गयी उत्तर और दक्षिण के बीच की सांस्कृतिक कड़ी

श्रद्धांजलि , नई दिल्ली, सोमवार , 10-06-2019


girish-karnad-death-award-condolenece-karnatak

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। मशहूर एक्टर, फिल्ममेकर और कन्नड़ लेखक गिरीश कर्नाड का निधन हो गया है। वे 81 वर्ष के थे। बताया जा रहा है कि कर्नाड लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उनके निधन की खबर के साथ ही देश में शोक की लहर पैदा हो गयी है। 

कर्नाड को ढेर सारे पुरस्कार मिले थे। जिसमें 1974 में पद्म श्री, 1994 में पद्म भूषण, 1994 में ही साहित्य अकादमी तथा 1998 में साहित्य क्षेत्र के सबसे बड़े पुरस्कार ज्ञानपीठ शामिल हैं। उन्हें कई फिल्मों के लिए नेशनल अवार्ड भी मिले थे। “कानुरू हेगादाथी” और “वामशा वृक्शा” उन्हीं में शामिल हैं। 

टेलीविजन पर प्रसारित बहुचर्चित नाट्य श्रृंखला आरके नारायन के मालगुडीजडेज में उन्होंने स्वामी के पिता की भूमिका निभायी थी। और 90 के दशक में उन्होंने दूरदर्शन पर टर्निंग प्वाइंट नाम के एक शो को होस्ट भी किया था।

कर्नाड मौजूदा बीजेपी सरकार के मुखर आलोचक थे। और अक्सर उनको इस सरकार के खिलाफ होने वाले विरोध-प्रदर्शनों में देखा जा सकता था। बहुत सारे कलाकारों में वह भी शामिल थे जिन्होंने चुनाव में नफरत के खिलाफ वोट देने की अपील की थी।   

सोशल मीडिया श्रद्धांजलियों का तांता लग गया है। लोग अपने इस प्यारे कलाकार को दिल की गहराइयों से अंतिम सलाम कह रहे हैं। 










Leave your comment