निर्दोष बरी होने के बाद भी वासिफ को आतंकी बताने वाले दैनिक जागरण के खिलाफ चलेगा मुकदमा

विवाद , नई दिल्ली, शुक्रवार , 13-04-2018


wasif-jagran-terrorist-case-supreme-court-pil-prashant

जनचौक ब्यूरो

निर्दोष बरी होने के बावजूद वासिफ हैदर को आतंकी लिखने वाले दैनिक जागरण के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने मुकदमा चलाने का फैसला किया है। हैदर ने अखबार के खिलाफ मानहानि का मुकदमा कोर्ट में दायर किया था। जिसे सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है। 3 अप्रैल को न्यायमूर्ति चेलमेश्वर की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की पीठ ने उत्तर भारत के बड़े हिंदी दैनिक अखबार दैनिक जागरण के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति दे दी। कानपुर के रहने वाले वासिफ हैदर को गलत तरीके से आतंकी गतिविधियों में फंसाया गया था। लंबी कानूनी लड़ाई के बाद वह न्यायालय द्वारा सभी आरोपों से निर्दोष घोषित किए गए और उन्हें बाइज़्ज़त बरी कर दिया गया था।

बरी होने के बावजूद यह अखबार उन्हें आतंकी लिखता रहा। जिसके खिलाफ वासिफ ने न्यायालय से गुहार लगाई थी। वासिफ ने अखबार के संपादक के साथ-साथ प्रकाशक के खिलाफ भी मुकदमा चलाने के लिए एक मामला दायर किया था।

जनचौक से बातचीत में वासिफ ने बताया कि उन्होंने कोर्ट में ये मामला जनवरी 2015 में दायर किया था। उसके बाद 30 मार्च 2015 को कोर्ट ने दैनिक जागरण को नोटिस भेजकर जवबा मांगा थी जिसे देने में उसे डेढ़ साल लग गए। उसके बाद 3 अप्रैल को सुनवाई हुई। जिसमें कोर्ट ने इसके शीघ्र निस्तारण के आदेश दिए हैं। गौरतलब है कि वासिफ ने इसमें भारत सरकार को भी पक्ष बनाया है।

समाचार पत्र दैनिक जागरण ने बार-बार वासिफ हैदर को ‘आतंकी वासिफ’ लिखा। एक साल की अवधि में उनके खिलाफ झूठी कहानियां लिखीं। कहानियों में कभी बनारस विस्फोट तो कभी उत्तर प्रदेश में कहीं भी विस्फोट होने में प्रमुखता से उनकी भूमिका बताई जाती। साथ ही साथ उन्हें अन्य आतंकवादी गतिविधियों से भी जोड़ा जाता।

अखबार द्वारा लिखी कोई भी कहानी तथ्यों या पुलिस जांच पर आधारित नहीं थी। एडवोकेट प्रशांत भूषण ने अदालत के सामने संबंधित मामले में तर्क दिया कि यह मुद्दा सिर्फ किसी एक के निर्दोष होने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह मामला कई मामलों में दोहराया गया एक बना बनाया पैटर्न है। इसे इसी रूप में देखा जाना चाहिए। इसलिए अदालत को इस पर समग्र रूप से विचार करना चाहिए।

प्रशांत भूषण की टीम के सदस्य एडवोकेट गोविंद ने कहा कि ” सवाल यह है कि एक अखबार या मीडिया हाउस किसी व्यक्ति विशेष को एक आतंकवादी के रूप में कैसे प्रचारित कर सकता है, सिर्फ इसलिए क्योंकि उस व्यक्ति पर एक दफा आतंकवाद का झूठा आरोप लग चुका था। इस मसले पर कानून की धारा 499 और 500 से स्पष्ट है”।

इस मामले से सद्भाव और जनता का अच्छा होना दोनों गायब हैं क्योंकि समाचार पत्र का रुख स्पष्ट रूप से दुर्भावनापूर्ण हैं। वासिफ हैदर एक शिक्षित युवा (बीएससी स्नातक) थे, जो वर्ष 2001 में बैक्टन डिकिन्सन कंपनी में क्षेत्रीय बिक्री प्रबंधक के रूप में काम कर रहे थे।

उस वक़्त उनका इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी), दिल्ली पुलिस, स्पेशल सेल और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीमों द्वारा अपहरण कर लिया गया था। उत्तर प्रदेश की लंबी और कठिन कानूनी और निष्पक्ष प्रक्रिया के दौरान उन्हें तीसरे डिग्री की यातना, अवैध नज़रबंदी और मनोवैज्ञानिक उत्पीड़न सहना पड़ा।

उन पर कुल 11 अलग-अलग आरोप लगाए गए थे। जिसमें वह बारी बारी रिहा हुए। वर्ष 2009 में, जेल में आठ साल रहने के बाद वासिफ हैदर को सभी आरोपों से मुक्त कर दिया गया था। राइटर एंड इन्नोसेंस नेटवर्क की सदस्य मनीषा सेठी ने कहा कि ‘मीडिया का काम जनमत निर्माण का होता है। जो अपने आप में बहुत मज़बूत काम है। यह नागरिकों को निष्पक्ष सुनवाई का अधिकार देता है और उनके अधिकारों का हनन होने से रोकता है। लेकिन इस मामले में और ऐसे कई मामलों में यह बिल्कुल गलत साबित हुआ।

निर्दोष होने के बाद भी, निर्दोष लोगों को आतंकी लिखा गया। आतंक के मामले में बाइज़्ज़त बरी हुए लोगों की रिपोर्टिंग ही बहुत कम होती है। निर्दोष लोग ऐसे मीडिया हाउस की आंखों में दोषी की तरह ही होते हैं। भले ही वे कानून की दृष्टि में निर्दोष हों। इस मामले में, अखबार के एक बेहद दुर्भावनापूर्ण इरादे दिखाई देते हैं। अदालतों को निश्चित रूप से इसके बारे में संज्ञान लेना चाहिए।

(यह लेख मूल रूप से अंग्रेज़ी वेबसाईट LIVELAW.IN में छपा है, जिसका हिंदी अनुवाद लेखक एवं DEMOCRACIA.IN की एडिटोरियल डायरेक्टर मनीषा भल्ला ने किया है)

 








Tagwasif jagran supremecourt prashant terror

Leave your comment