भगवा वितान की छाया में विश्व पुस्तक मेला

कार्यक्रम , , मंगलवार , 08-01-2019


worldbookfair-itpo-pragatimaidan-newdelhi-pustakmela

जनचौक ब्यूरो

नरेंद्र मोदी के शासन में देश की संवैधानिक संस्थाओं के काम-काज में हस्तक्षेप करने और संस्थाओं के मूल चरित्र में क्षरण की दुहाई दी जाती रही है। भगवा राजनीति का शिकार अब मेले-ठेले भी बनने लगे हैं। भगवा वितान का दायरा अब विस्तृत होकर यह तय करने लगा है कि मेला में किसकी दुकान लगेगी और लोगों की दिनचर्या क्या होगी। लगभग पांच दशकों से दिल्ली में लगने वाला पुस्तक मेला भगवा राजनीति का शिकार हो गया है। विश्व पुस्तक मेला को “ज्ञानकुंभ” और पुस्तकों को “ज्ञानगंगा” की संज्ञा दी जाती है। साल दर साल ज्ञानकुंभ को आयोजित करने का मकसद देश के युवाओं को ज्ञानशील, तर्कशील और विवेकवान नागरिक बनाना है। इसके साथ ही आधुनिक ज्ञान-विज्ञान, दर्शन एवं साहित्य से अवगत कराना है। 

इस बार विश्व पुस्तक मेले पर भी राजनीति के “भगवा बादल” मंडराने लगे हैं। जिसके कारण प्रगति मैदान में न तो पुस्तक प्रेमियों का हुजूम दिख रहा है औऱ न ही विश्व पुस्तक मेले की वह बहुरंगी छटा, जिसके लिए यह प्रसिद्ध है। दरअसल, सरकार के इशारे पर यह “खास पुस्तकों और प्रकाशकों” का मेला बन गया। ज्ञान-विज्ञान और भाषायी पुस्तकों के छोटे प्रकाशन मेले से नदारद हैं। उनके स्थान पर बड़े प्रकाशक और धार्मिक समूहों के प्रकाशन काबिज हो गए हैं। इस बार विश्व पुस्तक मेला अंधविश्वास बढ़ाने वाले साहित्य और धार्मिक पुस्तकों से अटा पड़ा है। विश्लेषणात्मक और तर्कशील सोच की सीख देने वाले पुस्तकों के प्रकाशक मेले से बाहर हैं। पुस्तक मेले की इस छटा के कारण पुस्तक मेले में गए कई लोग किताबों के साथ ही निराशा भी लेकर आये। 

सन 1972 से दिल्ली में विश्व पुस्तक मेला का आयोजन किया जा रहा है। इस कड़ी में यह 27वां पुस्तक मेला है। दिल्ली के प्रगति मैदान में 5 जनवरी से शुरू हुआ “नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला” 13 जनवरी तक चलेगा। पुस्तक मेला में 700 प्रकाशक आये हैं और 1350 के करीब बुक स्टॉल लगाए गए हैं। पड़ोसी देश पाकिस्तान, चीन, श्रीलंका, नेपाल समेत करीब 20 देशों के प्रकाशक हिस्सा ले रहे हैं। लेकिन इस बार समयांतर, ग्रंथशिल्पी और जनमीडिया जैसे जनपक्षधर प्रकाशकों को मेले में जगह नहीं मिल सका है। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का सदस्य शारजाह “अतिथि देश” के तौर पर हिस्सा ले रहा है। भारत व्यापार संवर्धन संगठन (आईटीपीओ) और नेशनल बुक ट्रस्ट के सहयोग से आयोजित हो रहे पुस्तक मेले की थीम “दिव्यांगजन की पठन आवश्यकताएं” रखी गई है। नेशनल बुक ट्रस्ट (एनबीटी) के अध्यक्ष बलदेव भाई शर्मा कहते हैं कि विश्व पुस्तक मेला-2019 के थीम पैवेलियन में विशेष तौर पर ब्रेल किताबें, ऑडियो किताबें, प्रिंट-ब्रेल किताबें, लोगों व बच्चों व दिव्यांग लोगों के लिए प्रदर्शित किया जा रहा है। एक अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग फिल्म महोत्सव “वी केयर” में 27 देशों की फिल्में भी दिखाई जा रही हैं।  

विश्व पुस्तक मेला का उद्घाटन करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि-

“ज्यादा से ज्यादा से लोगों में पढ़ने की संस्कृति का विस्तार होना चाहिए क्योंकि इससे विश्लेषणात्मक सोच जैसे मूल्यों की सीख मिलती है और विभिन्न विचारों के प्रति सम्मान की भावना विकसित होती है। पढ़ने की संस्कृति नए आयाम प्रदान करती है और इससे जीवन को एक लक्ष्य मिलता है। पुस्तकें दुनिया के ढेर सारे भिन्न अनुभवों से हमें रूबरू कराती हैं। मुझे खुशी है कि हमारे देश में पढ़ने की संस्कृति बढ़ रही है और हमारा जीवन पढ़ाई के जरिए एक लक्ष्य पा रहा है।”

लेकिन ऐसा लगता है कि मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कथन विश्व पुस्तक मेला पर लागू नहीं होता है। क्योंकि मेले में ज्ञान,अनुभव और दूसरे विचारों के प्रति सम्मान भाव पैदा करने वाले तत्वों को उपेक्षित किया गया है।  

दशकों से पुस्तक प्रेमियों, युवाओं और छात्रों को आकर्षित करने वाले कई प्रकाशन इस बार पुस्तक मेले में नहीं हैं। क्या ये महज संयोग है या छात्रों-युवाओं के जेहन को प्रगतिशील, तर्कशील और विवेकवान बनाने वाली पुस्तकों को साजिशन बाहर कर दिया गया। इसका जवाब समयांतर पत्रिका के संपादक पंकज बिष्ट के जवाब से मिल सकता है। पंकज बिष्ट कहते हैं कि- 

“मैं पिछले पंद्रह साल से विश्व पुस्तक मेला में समयांतर प्रकाशन का स्टैंड लगाता रहा हूं। लेकिन इस बार मुझे जगह नहीं दी गयी। छोटे प्रकाशकों को जो जगह मिलती थी उसे धार्मिक और हिंदुत्व प्रचार सामग्री छापने वालों को दे दिया गया। इकोनॉमी क्लास (छोटे प्रकाशनों और पत्र-पत्रिकाओं) को पहले 6 से 7 हजार में जगह मिल जाती थी इस बार उसे बढ़ा कर 13 हजार कर दिया गया। नेशनल बुक ट्रस्ट ने 15 अक्टूबर से जगह आवंटित करना शुरू किया और महज पांच सात दिनों के अंदर ही कुल जगह आवंटित कर दी गयी। जब हमने जगह के लिए कोशिश करनी शुरू की तो पता चला कि सारा आवंटन हो चुका है।” 

नेशनल बुक ट्रस्ट के अधिकारी छोटे प्रकाशकों के साथ भेदभाव के आरोप को खारिज करते हैं। उनका कहना है कि, “आईटीपीओ में निर्माण कार्य चल रहा है जिससे पहले की अपेक्षा बहुत कम जगह उपलब्ध हो पायी है। हमारे पास पहले जितने हॉल होते थे इस बार उतना नहीं मिल पाया है। पिछली बार जहां विश्व पुस्तक मेला 35000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में आयोजित था वहीं इस बार 22000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल ही उपलब्ध हो सका है। इस बार हमें सीमित स्थान उपलब्ध हुआ है।”

एनबीटी के अधिकारी भले ही किसी तरह के भेदभाव न बरतने की सफाई पेश करें लेकिन मामला मात्र जगह की उपलब्धता भर का नहीं है। “इस्लाम कंपलीट सिस्टम फॉर लाइफ” एक दशक से पुस्तक मेले में अपना स्टॉल लगाता रहा है। लेकिन कड़ी मशक्कत के बाद उसे महज छोटा सा स्थान ही मिल सका। इस प्रकाशन से जुड़े इमरान अहमद कहते हैं कि बहुत कोशिश के बाद मुझे कोने में यह जगह मिली। इससे बहुत नुकसान हो रहा है। ग्राहक कम आ रहे हैं। 

वरिष्ठ पत्रकार रामशरण जोशी इस बार पुस्तक मेला को फीका बताते हैं। कारण पूछने पर कहते हैं कि-

“मैं दो दशक से पुस्तक मेले को देख रहा हूं लेकिन इस बार पुस्तक मेला की रंगत उड़ी हुई है। विश्व पुस्तक मेला लघु पुस्तक मेला दिखाई देता है। भाषायी प्रकाशनों की काफी कटाई-छटाई हो चुकी है। पूरे मेले पर केसरिया रंग चढ़ा हुआ है। धार्मिक पुस्तकों का जरुरत से ज्यादा बोलबाला है और छोटे प्रकाशक नहीं के बराबर हैं। यही नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखी गयी पुस्तकों का विशेष प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। वाणी, राजकमल, संवाद, प्रभात, पेंग्विन, रूपा और अन्य तमाम प्रकाशकों के स्टॉल पर भी पाठकों के लिए खास व्यवस्था की गई है। और कुछ बड़े प्रकाशकों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है लेकिन यदि यही हाल रहा तो भविष्य में पुस्तक और पाठक संस्कृति को गहरा आघात लगेगा।” 

जन मीडिया स्टडी ग्रुप के अनिल चमड़िया कहते हैं कि-

“दिल्ली का विश्व पुस्तक मेला एक धर्मनिरपेक्ष देश का पुस्तक मेला है। मेले में शरजाह की उपस्थिति और भागीदारी तो ठीक है लेकिन पहली बार मेले का शुभारंभ गणेश की प्रतिमा स्थापित करके किया गया। यह देश के धर्मनिरपेक्ष चरित्र पर हमला है। इस बार पहले दिन से ही पूरा मेला अव्यवस्था का शिकार दिखता है। कंपकपा देले वाली ठंड पड़ रही है, पहले मेले के अंदर सस्ती चाय और कॉफी की मशीन लगी रहती थी। इस बार उसे इतना महंगा कर दिया गया कि मशीनें नहीं लगीं। इससे मेले में आने वाले लोगों को चाय और कॉफी नहीं मिल पा रही है। पहली बार स्टैंड खत्म करके छोटे प्रकाशकों को मेले से बाहर कर दिया गया। और बड़े प्रकाशकों को सब्सिडी दी गयी है जैसे पूरा मेला उन्हीं के लिए आयोजित किया गया हो।”

तमाम अन्य प्रकाशकों की तरह इस बार जन मीडिया और स्टडी ग्रुप का भी स्टाल नहीं लगा। इस पर अनिल चमड़िया कहते हैं कि पिछले पांच वर्षों से जन मीडिया विश्व पुस्तक मेले में स्टैंड लगाता रहा है। लेकिन इस बार हमारी तरह तमाम छोटे प्रकाशक मेले से बाहर हो गए। मेले को आयोजित करने में जहां नियम-कानूनों को तोड़ा गया वहीं पर पुस्तक मेले का प्रचार-प्रसार भी नहीं किया गया। यह विश्व पुस्तक मेला है लेकिन इस बार रविवार को भी भीड़ नहीं आयी। दिल्ली और देश के अधिकांश लोगों को पता ही नहीं है कि विश्व पुस्तक मेला-2019 शुरु हो गया है।

शारजाह के शाही परिवार के सदस्य शेख फहीम बिन सुल्तान अल कासिमी ने विश्व पुस्तक मेले के उद्घाटन कार्यक्रम में कहा कि मजबूत अंतर-सांस्कृतिक रिश्तों को बढ़ाने के लिए ऐसे कार्यक्रम अहम हैं। हम इस साझेदारी का निर्माण आर्थिक, वैज्ञानिक, शैक्षिक और सांस्कृतिक मोर्चे पर जारी रखना चाहते हैं। हमारा कारोबार और सांस्कृतिक आदान-प्रदान का लंबा इतिहास रहा है जो सैकड़ों सालों से है। यूएई के राष्ट्रपति ने 2019 को सहिष्णुता वर्ष घोषित किया है। यह सभी देशों में बहुसंस्कृतिवाद, सभ्यता और समृद्धि को बढ़ावा देगा। लेकिन विश्व पुस्तक मेला में जिस तरह से एक खास धर्म के प्रकाशकों को महत्व दिया गया और शेष को किनारे कर दिया गया वह किसी भी तरह बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक और बहुधार्मिक एकता का संदेश नहीं देता है। 








Tagworldbookfair itpo-pragtimaidan newdelhipustakmela samyantar-janmedia nbt

Leave your comment