जब कैमरों ने पकड़ ली जमीन और कलम ने कहा- अब और नहीं!

आंदोलन , नई दिल्ली, शनिवार , 24-03-2018


delhi-police-protest-journalist-attack-inquiry-jnu-student-women

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। जेएनयू के छात्रों के विरोध मार्च के दौरान हुए पुलिस हमले के विरोध में पत्रकारों ने शनिवार को दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने पदर्शन किया। पत्रकार शुक्रवार को मीडियाकर्मियों पर हमले और छेड़छाड़ करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे।

शुक्रवार को दो पत्रकारों ने अलग-अलग शिकायत दर्ज करायी है जिसमें एक हमला और दूसरी छेड़छाड़ की है। इन लोगों के साथ ये घटनाएं तभी घटीं जब शुक्रवार को जेएनयू के शिक्षकों और छात्रों की ओर से निकाले गए एक मार्च को ये कवर कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस न केवल वाटर कैनन चलायी बल्कि उसने भीषण लाठीचार्ज भी किया। इस कार्रवाई में उन लोगों ने पत्रकारों को भी नहीं बख्शा। इसमें कई महिला पत्रकारों के साथ पुलिस बेहद बदतमीजी से पेश आयी।

एक साझे बयान में प्रेस क्लब आफ इंडिया, इंडियन वीमेंस प्रेस कार्प्स, प्रेस एसोसिएशन और फेडरेशन आफ प्रेस क्लब आफ इंडिया ने अफसरों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की है। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस कमिश्नर से इस दिशा में तत्काल कदम उठाने की मांग की है।

विरोध-प्रदर्शन कर रहे एक पत्रकार ने कहा कि “कल जो हुआ वो न केवल अचंभित करने वाला है बल्कि डरावना भी है। ये शहर में कानून और व्यवस्था को लागू करने वाली पुलिस के जवानों की अनुशासन में कमी को दिखाता है.....महिला रिपोर्टरों की तो बहुत बुरी स्थिति थी।”

एक वीडियो सामने आया है जिसमें रैली के दौरान एक महिला रिपोर्टर के साथ दो पुलिसवाले बहुत बुरा व्यवहार कर रहे हैं। इसके अलावा हिंदुस्तान टाइम्स के फोटोग्राफर के साथ पुलिसकर्मियों का एक समूह बेहद गलत तरीके से पेश आ रहा है। घटना के कई घंटे बाद भी महिला पत्रकार को उसका कैमरा नहीं मिल सका।

पत्रकारों की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि “लगातार ये बताने के बावजूद कि वो पत्रकार हैं यहां तक अपने आई कार्ड दिखाने पर भी उन्हें नहीं बख्शा गया।”

आज प्रदर्शन के दौरान पत्रकारों ने पुलिस मुख्यालय के सामने जमीन पर ही अपना कैमरा रख दिया और उन्होंने विरोध स्वरूप वहां से हटने से इंकार कर दिया।

दिल्ली पुलिस प्रवक्ता मधुर वर्मा ने कहा कि पुलिसकर्मियों की मंशा मीडिया को उसके काम में बांधा पहुंचाने की नहीं थी।“ महिला पुलिस कर्मियों ने फोटो जर्नलिस्ट को भूल से प्रदर्शनकारी समझ लिया।” न्यूज 18 में छपी खबर के मुताबिक पुलिस प्रवक्ता ने पूरी घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस पूरे मामले की जांच करेगी।

दिल्ली पुलिस के हमले में घायल एक छात्रा।

इस बीच महिला आयोग ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

इसके पहले शुक्रवार को पुलिस ने जेएनयू के प्रदर्शनकारियों के साथ और भी बुरे तरीके से पेश आयी। प्रदर्शन में शामिल कई लड़कियों और महिलाओं के साथ जवानों के छेड़छाड़ के आरोप लगे हैं। कई छात्राओं के कपड़े पुलिसकर्मी खींचते हुए दिख रहे हैं। इस तरह की कई फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। प्रदर्शनकारियों को तितर-वितर करने के लिए पुलिसकर्मियों ने जमकर लाठियां बरसायीं। 

खास बात ये है कि सारे प्रदर्शनकारी शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे। न तो किसी तरह की हिंसा और न ही वैसी कोई आशंका दिख रही थी। बावजूद इसके पुलिसकर्मियों ने अचनक लाठीचार्ज कर दिया। जिसमें सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को गंभीर चोटें आयी हैं।     






Leave your comment











Vimlesh :: - 03-24-2018
Why cant we recruit educated police men? Boundless stupity.