आसिफा केस: माना राजावत झूठ बोल रही हैं! तो क्या जांच टीम में शामिल इंस्पेक्टर श्वेतांबरी भी हैं झूठी?

पते की बात , , सोमवार , 16-04-2018


asifa-kathua-rape-murder-jammu-rajawat-shwetambari

गिरीश मालवीय

कठुआ मामले में पीड़ित पक्ष की वकील दीपिका सिंह राजावत कह रही हैं 'आज मैं खुद नहीं जानती और मैं होश में नहीं हूं। मेरा रेप हो सकता है, मेरी हत्या हो सकती है और शायद मुझे कोर्ट में प्रैक्टिस न करने दी जाए। उन्होंने मुझे एकदम अलग कर दिया है और मैं नहीं जानती कि अब मैं यहां कैसे रहूंगी।'

"आप मेरी दुर्दशा की कल्पना कर सकते हैं लेकिन मैं न्याय के साथ खड़ी हूं और हम सब आठ साल की बच्ची के लिए न्याय चाहते हैं"

मैंने देखा कि फेसबुक पर, मीडिया में बहुत से दानिशमंद आकर कह रहे हैं कि इस मामले को गलत तरीके से धार्मिक रंग दिया जा रहा है। इस मामले में साम्प्रदायिकता की राजनीति कर हिन्दुओं को बदनाम किया जा रहा है तो इस हिन्दू वकील मैडम को धमकियां कौन दे रहा है? कौन उनका हिंदू विरोधी कहते हुए बहिष्कार कर रहा है?

चलिए वकील तो झूठ बोल रहे होंगे। ये तथाकथित हिन्दुओं को बदनाम करने की कोशिश में शामिल हो सकते हैं। लेकिन क्या जम्मू-कश्मीकर पुलिस की अपराध शाखा की ओर से गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) में शामिल श्वेरतांबरी शर्मा भी झूठ बोल रही हैं?

श्वेताम्बरी शर्मा एकमात्र महिला पुलिस अधिकारी के तौर पर इस जांच दल में शामिल हैं। शर्मा ने न्यूज वेबसाइट 'दि क्विंट' से बातचीत करते हुए बताया कि जांच की शुरुआत में हमें जिन लोगों पर इस कांड में शामिल होने का शक था उनके परिजनों और वकीलों ने हमारे काम में अड़ंगा लगाने और इस जांच को प्रभावित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। हमें परेशान करने के लिए उन्होंने अपनी सारी ताकत लगा दी लेकिन हम अपने स्टैंड पर कायम रहे।

श्वेताम्बरी कहती हैं कि जब जांच को प्रभावित करने में आरोपी और उनके समर्थक फेल हो गए तो उन्होंने लाठी का सहारा लेकर हमें डराने की कोशिश की। यहां तक की हमारे खिलाफ रैलियां निकाली गईं और स्लोगन भी बनाए गए। लेकिन बड़े ही धैर्य पूर्वक हम अपना काम करते रहे।

श्वेताम्बरी ने बताया कि आरोपियों की जमानत पर सुनवाई के दौरान कोर्ट के बाहर 10-20 की संख्या में मौजूद वकीलों ने हंगामा किया। हम लोगों ने इस बारे एसएचओ से एफआईआर रिपोर्ट दर्ज कराने को कहा लेकिन उन्होंने मना कर दिया।

अब ये श्वेताम्बरी शर्मा भी झूठ बोल रही है? दरअसल न दीपिका राजावत झूठ बोल रही हैं न श्वेताम्बरी शर्मा। झूठ कौन बोल रहा है ? कौन तिरंगा लेकर रैली निकाल रहा है? धर्म की आड़ लेकर कौन अपनी राजनीतिक रोटियां बेशर्मी से सेंक रहा है ? किस पार्टी के मंत्री भड़काऊ बयान किसके कहने पर दे रहे हैं ? सब दिख रहा है।

(गिरीश मालवीय सोशल मीडिया पर तमाम विषयों पर लिखते रहते हैं। आप आजकल इंदौर में रहते हैं।)




Tagasifa rape rajawat shwetambari kathua

Leave your comment