सीपीएम त्रिपुरा का मुखपत्र "डेली देशेरकथा" आज से होगा प्रकाशित, त्रिपुरा हाईकोर्ट ने हटाई पाबंदी

बड़ी ख़बर , नई दिल्ली, बुधवार , 10-10-2018


cpm-tripura-desherkatha-stay-ban-bjp-district

जनचौक ब्यूरो

अगरतला। त्रिपुरा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ने सीपीआईएम के त्रिपुरा राज्य के 'मुखपत्र' डेली देशेरकथा के प्रकाशन के रोक के आदेश पर स्टे लगा दिया है। त्रिपुरा वेस्ट डिस्ट्रिक्ट के डीएम ने 1 अक्तूबर की रात करीब साढ़े 11 बजे इस अखबार का प्रशासन बैन करने का आदेश अखबार के दफ्तर में भेजा था।

अखबार के संस्थापक सम्पादक गौतम दास ने बुधवार को इस बारे में पत्रकारों को जानकारी दी और फेसबुक पर भी पोस्ट लगाई कि डेली देशेर कथा का बृहस्पतिवार का अंक प्रकाशित होगा। उन्होने प्रेस की आज़ादी पर हमले का विरोध करने के लिए लोकतांत्रिक शक्तियों का आभार जताया।

गौरतलब है कि डेली देशेरकथा सीपीआईएम का करीब 40 सालों से प्रकाशित होता रहा दैनिक है। पार्टी इस अखबार को ट्रस्ट को सौंपकर तकनीकी तौर पर इससे अलग ही चुकी है। प्रदेश में भाजपा गठबंधन सरकार बनने के बाद से सीपीआईएम के साथ इस अखबार को भी निशाना बनाया जा रहा है। 1 अक्तूबर की देर रात डीएम ने रजिस्ट्रेशन संबंधी तकनीकी वजहों को आधार बनाकर इस अखबार को बंद करा दिया था। इस विवादास्पद फैसले को सीपीआईएम ने राजनीति से प्रेरित बताते हुए भाजपा सरकार की आलोचना की थी। हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को इस मामले में अपना पक्ष रखने के लिए चार सप्ताह का समय दिया है।


 










Leave your comment