विदेश मंत्रालय को कोई भनक भी नहीं लगी और अरब में दो भारतीयों के सिर कलम कर दिए गए

ख़ास रपट , नई दिल्ली, बृहस्पतिवार , 18-04-2019


foreign-affairs-saudi-arab-death-sentence-sushma-swaraj

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। भारतीय विदेश मंत्रालय ने अब इस बात की पुष्टि कर दी है कि दो भारतीयों के सऊदी अरब में सिर कलम कर दिए गए हैं। हैरत करने वाली बात यह है कि दोनों को फांसी पर लटकाने के बाद सऊदी अरब स्थित भारतीय दूतावास को सूचना दी गयी। होशियारपुर के रहने वाले सतविंदर कुमार और लुधियाना के निवासी हरजीत सिंह को 28 फरवरी को सऊदी अथारिटी ने फांसी पर लटका दिया था।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक इस बर्बर और अमानवीय घटना पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विदेश मंत्रालय की जमकर मजम्मत की है। उन्होंने पूरे मामले को छुपाए रखने के लिए मंत्रालय की कड़े शब्दों में भर्त्सना की है। गौरतलब है कि सतविंदर की पत्नी ने जब याचिका दायर की उसके बाद ही मंत्रालय ने इस बात को स्वीकार किया।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि दोनों नागरिकों की फांसी के संदर्भ में और विवरण हासिल करने के लिए वो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात करेंगे। बताया जा रहा है कि इनको सजा एक हत्या के सिलसिले में दी गयी है।

हरिजीत की फोटो के साथ उनके माता-पिता।

सऊदी व्यवस्था के मुताबिक दोनों के परिजन केवल मृत्यु प्रमाण पत्र हासिल कर सकेंगे। न तो उन्हें अपने सगों का शव मिलेगा न ही उसका कोई अवशेष। विदेश मंत्रालय ने यह बात सतविंदर की पत्नी सीमा रानी को बताया।

सतविंदर के परिवार के मुताबिक उन्हें 2 मार्च को सऊद अरब से किसी का फोन आय़ा था जिसमें उसने उनकी सजा के बारे में बताया। हालांकि जब सीमा रानी ने मंत्रालय से संपर्क किया तो उसने इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की। कोई भी स्पष्ट उत्तर न पाने पर उन्होंने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। जिसके बाद कोर्ट ने 8 अप्रैल को केंद्र सरकार को नोटिस भेज दिया। और उससे सऊदी अरब में सतविंदर को मौत की सजा के बार में पूछा।

उसके बाद मंगलवार को सीमा रानी को विदेश मंत्रालय की ओर से भेजा गया एक पत्र हासिल हुआ। यह कंसुलर के निदेशक प्रकाश चंद के हस्ताक्षर वाला पत्र था । इसमें लिखा गया था कि “रियाद स्थिति हमारे दूतावास ने फैक्स के जरिये सऊदी विदेश मंत्रालय की ओर से लिखा गया 28 फरवरी 2019 तारीख का एक मौखिक नोट हासिल किया जिसमें स्वर्गीय सतविंदर सिंह और हरजीत सिंह की 28 फरवरी 2019 को फांसी के बारे में बताया गया था।”

विदेश मंत्रालय ने बताया कि 3 मार्च को भारतीय दूतावास ने सऊदी अरब के अधिकारियों से दोनों के शवों संबंधी सूचना मुहैया कराने की गुजारिश की थी। “....सऊदी विदेश मंत्रालय की तरफ से दूतावास को कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी उसके बाद 14 मार्च को एक रिमांडर भेजा गया और अभी भी उसके जवाब की प्रतीक्षा की जा रही है।”

सतविंदर और उनकी पत्नी सीमा रानी।

इसमें आगे कहा गया है कि “औपचारिक रूप से यह माना जाता है कि सऊदी व्यवस्था के तहत जिनको फांसी की सजा होती है उनके शव को संबंधित देश या फिर उसके परिजनों को नहीं सौंपा जाता है।”

अधिकारियों के मुताबिक सतविंदर और हरजीत को 9 दिसंबर, 2015 को एक दूसरे भारतीय आरिफ इमामुद्दीन की हत्या के कथित आरोप में गिरफ्तार किया गया था।








Tagforeignaffairs saudiarab death sentence sushmaswaraj

Leave your comment