कर्नाटक में “लोकतंत्र की हत्या” के खिलाफ यशवंत सिन्हा ने संभाली विरोध की कमान,बैठे धरने पर

राजनीति , नई दिल्ली, बृहस्पतिवार , 17-05-2018


karnatak-yashwant-sinha-dharna-murder-democracy

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा कर्नाटक में अंसवैधानिक तरीके से बनायी गयी येदुरप्पा सरकार के खिलाफ राष्ट्रपति भवन के सामने विजय चौक पर धरने पर बैठे। उन्होंने लोगों से उसमें शामिल होने की अपील भी की।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि “बीजेपी द्वारा कर्नाटक में असंवैधानिक तरीके से जो सरकार बनाई गयी है उसके खिलाफ मैं राष्ट्रपति भवन के सामने धरने पर बैठा हूं आप सभी से अनुरोध है कि लोकतंत्र बचाने के लिए मेरे साथ आइये।

”इसके पहले एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा था कि आज जो कर्नाटक में हो रहा है वो लोकसभा चुनाव के बाद दिल्ली में जो होगा उसका रिहर्सल है।

नेशनल फोरम के बैनर तले हुए इस धरने में उनके साथ दिल्ली के विधायक पंकज पुष्कर भी मौजूद थे। उसके बाद आरजेडी के नेता मनोज झा भी उसमें शामिल हुए। साथ ही कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी के नेता भी शरीक हुए। जिनके नेताओं में भक्त चरण दास, घनश्याम तिवारी और आशुतोष, दिलीप पांडेय प्रमुख हैं। 

उन्होंने कहा कि वो इसलिए धरने पर बैठे हैं क्योंकि देश में लोकतंत्र की हत्या हो रही है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में गवर्नर ने संवैधानिक मुखिया की जगह बीजेपी नेता के तौर पर काम किया है।

उन्होंने कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट न्याय देता है तो ठीक है वरना उनका विरोध जारी रहेगा। 

यशवंत सिन्हा ने सत्ता के प्रति अतिशय लालच के लिए बीजेपी पर जमकर हमाल बोला। उन्होंने कहा कि मौजूदा बीजेपी के लिए एक मशहूर कहावत है- अगर उनके पास संख्या है तो वो सरकार बनाएंगे और अगर नंबर नहीं पाते हैं फिर भी वो सरकार बनाएंगे।

मोदी सरकार जिस तरह से संविधान से खिलवाड़ कर रही है ये उचित नहीं है। उन्होंने चेतावनी दी कि इसी तरह की स्थिति 2019 में खड़ी हो सकती है।

उन्होंने कहा कि “आप ने देखा पिछले संसद सत्र में क्या हुआ। एक अविश्वास प्रस्ताव सदन के पटल पर आया ही नहीं। अगर बीजेपी 2019 में संख्या नहीं हासिल करती है तो यहां तक कि ये संसद में अपना बहुमत भी नहीं साबित करेगी और सरकार चलाएगी।”




Tagkarnatak yashwwant dharna murder democracy

Leave your comment