महबूबा के सरकार बनाने के दावे के बाद गवर्नर ने किया जम्मू-कश्मीर विधानसभा को भंग

बड़ी ख़बर , नई दिल्ली, बुधवार , 21-11-2018


mahbooba-nc-jk-congress-dessolve-satyapal-malik

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने राज्य की विधानसभा को भंग कर दिया है। इसके पहले आज दिन में राज्यपाल को पत्र लिखकर पीडीपी की मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सरकार बनाने का दावा पेश किया था। 

उन्होंने पत्र में नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस का समर्थन मिलने की बात कही थी। अपने पत्र में उन्होंने कहा था कि उनके पास 25 विधायक हैं और एनसी के पास 15 और कांग्रेस के 12 विधायक हैं। इस तरह से 87 सदस्यों की विधानसभा में उनकी सामूहिक संख्या 56 हो जाती है।

अपने पत्र में उन्होंने कहा था कि “आपको मीडिया रिपोर्ट से ये सूचना मिल गयी होगी कि राज्य में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस और एनसी दोनों ने हमारी पार्टी को समर्थन करने का फैसला लिया है। नेशनल कांफ्रेंस के पास 15 विधायक हैं और कांग्रेस के पास ये संख्या 12 है। इसको लेकर हमारी सामूहिक संख्या 56 हो जाती है। क्योंकि मैं मौजूदा समय में श्रीनगर में हूं, ऐसे में हमारे लिए आप से तत्काल मिलना संभव नहीं होगा। ये मैं आपको सूचना देने के लिए लिख रही हूं कि आपकी सुविधा के मुताबिक हम जल्द ही राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।”

बाद में एक ट्वीट में महबूबा मुफ्ती ने कहा कि राजभवन की फैक्स मशीन काम नहीं कर रही है। राजवभव को पत्र भेजने का प्रयास कर रही हूं। आश्चर्यजनक रूप से फैक्स रिसीव नहीं कर रहा है। माननीय गवर्नर से फोन से संपर्क करने की कोशिश की। लेकिन उपलब्ध नहीं थे। आशा है आप इसे देखेंगे।

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा कि मेल के जरिये भी पत्र भेज रही हूं।

उसके कुछ ही देर बाद राजभवन की ओर से एक पत्र जारी हुआ जिसमें विधानसभा को भंग करने का सूचना दी गयी थी। उसमें लिखा गया था कि गवर्नर संविधान की अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए जम्मू-कश्मीर की विधानसभा को भंग कर रहे हैं।

गवर्नर के सचिवालय की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर के गवर्नर श्री सत्यपाल मलिक जम्मू-कश्मीर के संविधान  के सेक्शन 53 के सब सेक्शन 2 के क्लाज बी के तहत मिले अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए एक आदेश पारित किया है। आदेश का टेक्स्ट नीचे दिया गया है-

“जम्मू-कश्मीर के संविधान के सेक्शन 53 के सब सेक्शन 2 के क्लाज बी के तहत मिले अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए सेक्शन 92 के सब सेक्शन 1 के तहत मिले अधिकारों के आइने में 20 जून 2018 के घोषणा नंबर पी-1/18 के तहत मैं जम्मू-कश्मीर की विधानसभा को भंग करता हूं”।

इसके पहले व्यवसायी से नेता बने पीडीपी नेता अल्ताफ बुखारी ने श्रीनगर में बताया कि सभी तीनों दलों ने मिलकर गठबंधन सरकार बनाने का भी फैसला किया है।








Tagmahbooba nccongress dessolve jkassembly satyapal

Leave your comment