“ये ऊंचे स्तर पर तय हो चुका है....मोदी, अमित शाह और गवर्नर के स्तर पर”

ख़ास रपट , नई दिल्ली, रविवार , 10-02-2019


modi-shah-supreme-court-governor-yedurappa-kumarswamy-tape-sharangauda

जनचौक ब्यूरो

(कर्नाटक में किस तरह से खुलेआम विधायकों की घोड़ामंडी लगी हुई है उसका खुलासा मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की ओर से जारी एक टेप में हुआ है। शुक्रवार को जारी इस टेप में बीजेपी नेता बीएस येदुरप्पा जेडीएस के एक विधायक के बेटे से खुलेआम सौदेबाजी कर रहे हैं। 10 करोड़ रुपये देने से लेकर मंत्री बनाने और चुनावी खर्चों को उठाने के साथ ही हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट को उच्च स्तर पर मैनेज करने जैसी बातें इसमें शामिल हैं। यहां तक कि स्पीकर को भी 50 करोड़ रुपये में खरीदने की इसमें स्वीकारोक्ति है। ये घटना साबित करती है कि भारत में लोकतंत्र कहां पहुंच गया है और आने वाले दिनों में उसके ऊपर किस तरह का खतरा है। और ये मामला किसी कर्नाटक या फिर येदुरप्पा तक सीमित नहीं है बल्कि सब कुछ पीएम मोदी और अमित शाह की निगरानी और दिशा निर्देशन में हो रहा है। क्या कोई इसका संज्ञान लेने वाला है? दिन-रात भारत माता और वंदेमातरम की रट लगाने वाली जमात किस तरह से मिलकर और पूरी योजना के तहत उसका चीर हरण कर रही है ये घटना उसकी खुली बयानी है। यहां पेश है येदुरप्पा और उनके सहयोगी नाइक की कांग्रेस के विधायक नगनगौड़ा के बेटे शारंगौड़ा से पूरी बातचीत- संपादक)

बीएसवाई (बीएस येदुरप्पा): तुम क्या करते हो?

शारंगौड़ा: मैं पूरावक्ती राजनीति में हूं।

बीएसवाई: तुम्हारे पिता की क्या उम्र है? 

शारन: 72 साल।

बीएसवाई: अगर सब कुछ ठीक चलता है तो क्या तुम चुनाव लड़ोगे?

शारन: सर अभी तक मैंने इसके बारे में कुछ तय नहीं किया है। ये परिस्थितियों पर निर्भर करेगा।

बीएसवाई: चिंता मत करो। चार दिनों में सब कुछ ठीक हो जाएगा। हमारी सरकार बन जाएगी। तुम एक मंत्री बन सकते हो और फिर जिंदगी आगे बढ़ जाएगी। ज्यादा मच सोचो। हमारा वहां कोई नहीं है (कलबुर्गी और यादगीर जिलों में)। वहां से तुम्हें मंत्री बनाने में हमारे लिए कोई समस्या नहीं होगी।

शारन: मुझे काम के पूरा होने को लेकर (गठबंधन सरकार को गिराने का काम) आशंका है अगर मैं अकेले बीजेपी की ओर जाता हूं तो।

बीएसवाई: तुम बांबे (मुंबई) आओ। तुम खुद अपनी आंखों से देखोगे। डॉ. सुधाकर ने भी कल बांबे में हमे ज्वाइन कर लिया है। कल के विधानसभा सत्र (शुक्रवार) के बाद दो और शामिल होने जा रहे हैं। अगर तुम आते हो तो संख्या 13-14 हो जाएगी। उसके बाद हमें केवल एक विधायक की जरूरत होगी। उसके बाद मैं किसी को भी मंत्री की कुर्सी नहीं देने जा रहा हूं। ये ईश्वर द्वारा भेजा गया अवसर है। हम लोगों को ज्वाइन करो। मैं तुम्हारे साथ अपने बेटे जैसा व्यवहार करूंगा। सब कुछ मेरे ऊपर छोड़ दो और रवाना हो जाओ (मुंबई के लिए)। मैं तुम्हारे चुनाव खर्चे के लिए फंड दूंगा और तुम्हें मंत्री बनाऊंगा।

नाइक: इन सब चीजों के बारे में हम विजयन्ना (बीएसवाई के बेटे बीवाई विजयेंद्र) से बात करेंगे।

बीएसवाई: विजयेंद्र भी वहीं है (मुंबई)। 99 फीसदी हम लोगों का नंबर 14-15 तक जल्द पहुंच जाएगा।

शारन: लोग कहते हैं कि अगर बीजेपी की तरफ चले गए तो मेरे पिता की सदस्यता चली जाएगी। इस उम्र में उन्हें परेशान करने को लेकर मैं चिंतित हूं।

बीएसवाई: कौन ह्विप और सदस्यता रद्द होने की धमकियों की परवाह करता है। पिछले तीन दिनों से सिद्धरमैया चला रहा है। क्या किसी ने परवाह की? कल, हमारी संख्या 11 (के आंकड़े) को छू लेगी। उन्हें कुछ नहीं होने जा रहा है।

नाइक: शरानु, ये अपने दिमाग में रखो। एक लिंगायत को मुख्यमंत्री बनाकर हम एक इतिहास बनाएंगे। कुमारस्वामी और सिद्धरमैया कौन हैं? वो तुम्हारे समुदाय से नहीं हैं। इसका श्रेय तुम्हें जीवन भर मिलेगा।

शारन: जिस चीज को लेकर मैं चिंतित हूं लोग कह रहे हैं कि बीजेपी शासन के दौरान के 16 विधायकों की तरह हम भी अयोग्य करार दे दिए जाएंगे।

नाइक: वो एक अलग मुद्दा है। आज से आगे येदुरप्पा सभी चीजों की जिम्मेदारी लेंगे। वो वादा निभाने वाले शख्स हैं।

शारन: मैं उन्हें जानता हूं।

बीएसवाई: एक बार मैं वादा कर देता हूं फिर उससे पीछे लौटने का सवाल नहीं होता। तुम कल बांबे आओ। तुम अपनी आंखों से देखोगे। 

शारन: लेकिन कल विधायक दल की बैठक है।

नाइक: अपने पिताजी को उसमें भागीदारी करने दो। तुम बांबे आओ। अगर तुम तैयार हो जाते हो तो अपने पिता को इस्तीफे के लिए मना लेना।

शारन: हमारा क्षेत्र कांग्रेस का गढ़ है। अगर हम बीजेपी में आते हैं तो आपको हमारे चुनाव का ख्याल रखना होगा।

नाइक: ये तुम्हारा भाग्य है कि इस तरह का अवसर तुम्हारे रास्ते में आया है। तुम मंत्री बनने के लिए अपने दिमाग को तैयार करो। तुम्हें चुनाव में जिताना हमारी जिम्मेदारी है।

बीएसवाई: हम कांग्रेस और जेडीएस से 20 विधायक लेने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें से 12 को मंत्री बनाया जाएगा और बाकी 8 को बोर्ड और कारपोरेशन का हेड। जो भी मंत्री बनता है उसे 10 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

शारन: चुनाव खर्चों को लेकर क्या है?

बीएसवाई: मैं तुम्हे नहीं बता रहा हूं कि हम 10 करोड़ रुपये दे रहे हैं। चिंता मत करो। मुझ पर भरोसा रखो। मैं तुम्हारे साथ अपने बेटे विजयेंद्र की तरह व्यवहार करूंगा। तुम कल ही मुंबई के लिए रवाना हो जाओ।

नाइक: तुम्हें अपने जीवन में किसी व्यक्ति पर भरोसा करना चाहिए ठीक है? साहेब्रु (बीएसवाई) में विश्वास करो। वो तुम्हारे पिता जैसे हैं। येदुरप्पा के अलावा तुम्हें राजनीति में कोई ऐसा शख्स नहीं मिलेगा।

शारन: आज उन्होंने सभी विधायकों को नोटिस जारी की है।

नाइक: इन नोटिसों के बारे में तुम चिंता मत करो।

बीएसवाई: तुम बांबे आओ। वहां पहले से ही 11 विधायक हैं उनके साथ कुछ नहीं होने जा रहा है। अगर तुम सोचते हो कि सब कुछ ठीक है तब अपने पिता से इस्तीफा देने के लिए कहना।

नाइक: तुम बंगलुरू आओ। मैं तुम्हें कल शाम को ही बंगलुरू ले जाऊंगा। मैं इस बात को सुनिश्चित करूंगा कि तुम्हें वहीं पेमेंट हो जाए।

शारन: सर, हम एक मध्यवर्गीय परिवार से आते हैं। इस बात में कोई शक नहीं कि राजनीति में हमने नाम कमाया है लेकिन हम लोगों ने पैसे नहीं बनाए। कल अगर मैं चुनाव लड़ता हूं तो वहां कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।

बीएसवाई: जैसे ही हम बीजेपी में शामिल होने का फैसला करते हैं मैं तुमको मंत्री बनाने की घोषणा कर दूंगा। हम तुम्हें 10 करोड़ दे देंगे। तुम्हारे चुनाव खर्चे के लिए हम व्यवस्था कर देंगे। उस समय तक तुम मंत्री हो जाओगे और तुम्हें अपना रास्ता मिल जाएगा। तुम्हें विधायक बनाना हमारी जिम्मेदारी है। अपने पिता के इस्तीफे की जिम्मेदारी तुम्हारी है।

नाइक: तुम अपने राजनीतिक कैरियर के बारे में सोचो। तुम अगले तीस सालों तक राजनीति में रह सकते हो। इतनी कम उम्र में मंत्री बनना कोई मजाक नहीं है। तुम इतिहास बनाओगे।

बीएसवाई: हम तुम्हें मंत्री बनाएंगे। ये हमारा वादा है। सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद दस दिन आराम करो। उसके बाद हम सब हल कर देंगे।

नाइक: मैं उनसे इसके बारे में बात करूंगा।

बीएसवाई: विजयन्ना पहले से ही वहां है। इसे वहां जाना है और उसमें शामिल हो जाना है।

नाइक: तुम्हार भविष्य बहुत अच्छा है।

आडियो टेप-2

नाइक: तुम जो भी चाहते हो। उसके बारे में तुम साहेब्रू (बीएसवाई) से बोलो। अगर वो तय हो जाता है तो फिर मैं उनसे बात करूंगा। मेरे मुताबिक नंबर पहले ही 10 तक पहुंच गया है। कल तीन और आ जाएंगे। हमारा लक्ष्य 15 विधायकों को जुटाना और फिर उनसे इस्तीफा दिलाना है। इस्तीफे स्वीकार करने के लिए स्पीकर रमेश कुमार को पैसे पहले ही दिए जा चुके हैं।

शारन: क्या ये सही बात है?

नाइक: हां, 50 करोड़।

शारन: लेकिन लोग कहते हैं कि वो कांग्रेस के पक्ष में हैं।

नाइक: वो तुरंत ही इस्तीफा स्वीकार करेंगे। मैं तुम्हें बताऊंगा कि कैसे उन लोगों ने इसे मैनेज किया। अगर वो इस्तीफा स्वीकार नहीं करते हैं तो वो इसे संवैधानिक संकट में बदल देंगे और फिर गवर्नर रूल ला देंगे। उसके बाद वो (बीजेपी) इस्तीफे की स्वीकारोक्ति को कोर्ट की रूलिंग के जरिये सुनिश्चित करेगी। उसके बाद वो सरकार के गठन की दिशा में बढ़ेंगे। ये ऊंचे स्तर पर तय हो चुका है....मोदी, अमित शाह औऱ गवर्नर के स्तर पर।

शारन: ये तभी होगा जब वो इसमें शामिल होंगे!

नाइक: अगर स्पीकर की तरफ से किसी तरह की समस्या आती है तो अमित शाह ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के स्तर पर बातचीत कर ली है......सब कुछ पहले ही हो गया है।     

(टाइम्स ऑफ इंडिया से साभार लेकर उसका हिंदी में अनुवाद किया गया है।)

 








Tagmodishah yedurappa mla tape sharangauda

Leave your comment