बीजेपी को हटाने के संकल्प के साथ बिहार में जारी है माले की जनाधिकार यात्रा

एक नज़र इधर भी , नई दिल्ली/पटना, रविवार , 29-04-2018


bjp-cpiml-bihar-janadhikar-yatra-dipankar

जनचौक ब्यूरो

पटना। बिहार में 26 अप्रैल से जनाधिकार यात्रा चल रही है। भाकपा-माले के नेतृत्व में शुरू हुए “भाजपा भगाओ-बिहार बचाओ” इस जनाभियान में गांव-गांव जाकर ‘‘दंगा मुक्त बिहार का संकल्प’’ लिया जा रहा है। यात्रा में दिनोंदिन लोगों की भागीदारी बढ़ रही है। गुजरात के चर्चित दलित युवा नेता व विधायक जिग्नेश मेवाणी ने जनाधिकार यात्रा का स्वागत करते हुए अपने संदेश में विश्वास व्यक्त किया है कि फासीवादी ताकतों को हम इतिहास के कूड़ेदान में उठाकर फेंक देंगे।

हरी झंडी दिखाकर यात्रा की शुरुआत करते हुए भाकपा-माले के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा कि भाजपा ने देश व बिहार को जिस संकट में डाल दिया है, वहां अब उसको भगाने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा है। वह देश में उन्माद-उत्पात का पर्याय बन गई है और देश व उसकी जनता पर चैतरफा हमला कर रही है। 

उन्होंने कहा कि आधार कार्ड के नाम पर गरीबों को राशन नहीं दिया जा रहा है और लोग भूखे मरने को विवश हैं। बेरोजगारी की दर लगातार बढ़ रही है, लेकिन प्रधानमंत्री बेरोजगारों को पकौड़ा बेचने की सलाह दे रहे हैं। बिहार से लेकर पंजाब तक आज किसान आत्महत्यांए कर रहे हैं। बैंकों की स्थिति नोटबंदी के दिनों से भी बुरी है। विजय माल्या और नीरव मोदी जैसे लोग आम जतना का पैसा लेकर विदेश भाग गए हैं। बैंक खाली पड़े हैं। लोगों को अपने ही पैसे के लिए लाइन में लगना पड़ रहा है। महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं और बच्चियों के साथ बलात्कार करने वालों का भाजपा बचाव कर रही है। महिलाओं व दलितों पर हमले लगातार बढ़ रहे हैं।

भाकपा-माले के वरिष्ठ नेता स्वदेश भट्टाचार्य ने कहा है कि भाजपा एक तरफ देश को हिंदू-मुसलमान के नाम पर बांटने की कोशिश कर रही है, देश में दंगा-फसाद फैलाकर जनता के उठ रहे आक्रोश को दिगभ्रमित कर देना चाहती है, तो दूसरी ओर अमरीकी-ब्रिटिश आकाओं के निर्देश पर चल रही है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि इसके खिलाफ जनता सड़कों पर आए और बिहार व देश से भाजपा को भगाने के अभियान में एकजुट हो। देश जिस कठिन दौर से गुजर रहा है, उसमें बिहार नया रास्ता दिखलाएगा और चोर दरवाजे से बिहार की सत्ता हथियाने वाले डाकुओं को भगाना होगा तथा लोकतंत्र के लिए अमन-भाईचारा का राज कायम करने के लिए आगे आना होगा।

पदयात्रा के तहत दीपंकर भट्टाचार्य ने अरवल के लक्ष्मणपुर बाथे में शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि एक समय बिहार में बाथे, बथानी, मियांपुर जैसे बर्बर जनसंहार रचाए गए। लेकिन दुर्भाग्य यह है कि आज पूरे देश में दलित-गरीबों, महिलाओ, किसानों, अकलियातों, छात्र-नौजवानों पर बर्बर किस्म के हमले हो रहे हैं।

सीपीआईएमएल की यात्रा।

गवाहों को मार दिया जा रहा है और हत्यारों को बरी कर दिया जा रहा है। 2002 गुजरात जनसंहार में जिन चंद लोगों को सजा मिली थी, उनमें एक मोदी मंत्रिमंडल की सदस्य माया कोडनानी थीं। लेकिन हमने देखा कि कुछ दिन पहले कोर्ट ने उनको भी बरी कर दिया।  

यह वही लक्ष्मणपुर बाथे है, जहां 1 दिसम्बर 1997 की काली रात को संघ-भाजपा संरक्षित हत्यारे गिरोह ‘रणवीर सेना’ ने हमला कर 3 से 12 साल की 6 बच्चियों, 15 से 75 साल तक की 26 महिलाओं,1 से 10 साल तक के 9 बच्चों और 15 से 60 साल तक के 18 पुरुषों की बर्बरतापूर्वक हत्या कर दी थी। तत्कालीन राष्ट्रपति के. आर. नारायणन ने तब इस नृशंसता को ‘राष्ट्रीय शर्म’ की संज्ञा दी थी। न्याय के लिए बाथे के जनसंहार पीड़ितों के न्याय की लंबी लड़ाई में अभियुक्तों को उम्रकैद और फांसी की सजा तक पहुंचाया। लेकिन नीतीश राज में जब मामला पटना हाईकोर्ट पहुंचा तो सजा पाए तमाम रणवीर सरगने सजामुक्त-बाईज्जत बरी कर दिए गए। बाथे के पहले नगरी, बथानी टोला, शंकरबीघा, नारायणपुर व मिंयांपुर आदि जनसंहारों के मामले में भी यही हुआ। यानि उच्च न्यायालय से सारे अभियुक्त बाइज्जत बरी हो गए।

अखिल भारतीय खेत एवं ग्रामीण मजदूर सभा के राष्ट्रीय महासचिव धीरेन्द्र झा ने कहा कि देश के मजदूर-किसानों की तंगहाली बढ़ी है,दलितों-महिलाओं-अक्लियतों पर हमले तेज हुए हैं। वहीं अम्बानी-अडाणी और लुटेरों-भगोड़ों की सम्पत्ति हजारों गुना बढ़ी है। मोदी सरकार देश के बैंक को लुटाओ और भगाओ की नीति पर चल रही है। ‘पोलो मैदान से गांधी मैदान’ तक होने वाली इस पदयात्रा में शामिल होने के लिए बिहार के विभिन्न इलाकों से बुद्धिजीवी जुटे थे। दरभंगा से चलकर माधोपुर, बोचहां, मुजफ्फरपुर, कुढ़नी, सराय और हाजीपुर होते हुए मजदूर दिवस 1 मई को पटना के गांधी मैदान में आयोजित ‘जनाधिकार महासम्मेलन’ में शामिल होंगे। विक्रमगंज से निकलने वाली यात्रा का नेतृत्व पूर्व विधायक अरूण सिंह कर रहे हैं। यात्रा में हजारों की संख्या में मजदूर-किसान, महिलायें शामिल हैं। 










Leave your comment