फीस वृद्धि के खिलाफ समरविल स्कूल के सामने अभिभावकों का प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश , , शुक्रवार , 08-03-2019


fees-hike-somerville-guardian-student-protest

चरण सिंह

नई दिल्ली/नोएडा। एनसीआर में अच्छी शिक्षा के नाम पर कुकुरमुत्ते की तरह खुले स्कूलों में अभिभावकों को जमकर लूटा जा रहा है। स्थिति यह हो गई है कि आये दिन किसी न किसी बात को लेकर फीस बढ़ा दी जा रही है। नोएडा में स्कूल प्रबंधनों की मनमानी के खिलाफ अभिभावकों ने आंदोलन छेड़ दिया है। आज सेक्टर 22 स्थित समरविल स्कूल पर अभिभावकों का गुस्सा फूट पड़ा। 

सुबह आठ बजे सैकड़ों की संख्या में अभिभावक स्कूल के मेन गेट पर पहुंचे और प्रदर्शन किया। अभिभावक स्कूल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। अभिभावकों का कहना था कि स्कूल प्रबंधन ने अचानक ऐनुअल चार्ज 10 हजार से बढ़ाकर 20 हजार कर दिया है। हर साल डेवलपमेंट चार्ज बढ़ा देते हैं। 

अभिभावकों का एक प्रतिनिधिमंडल स्कूल की प्रधानाचार्य अरुल राज से मिला और उनको अभिभावकों द्वारा हस्ताक्षरित ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में शामिल लोगों के मुताबिक अरुल राज का कहना था कि स्कूल ने फीस बढ़ोत्तरी सरकार के नियमों के तहत की है। और उसमें किसी तरह का उल्लंघन नहीं किया गया है। लिहाजा अगर अभिभावकों को कोई बात करनी है तो उन्हें सरकार से बात करनी चाहिए। यह सुनकर अभिभावक और नाराज हो गए। उनका कहना था कि न कोई अतिरिक्त सुविधा है और न ही किसी तरह की कोई व्यवस्था लेकिन फीस वृद्धि के मामले में समरविल दूसरे स्कूलों के भी कान काट रहा है।

प्रदर्शन में हिस्सा लेने आयीं अल्पना ने कहा कि प्रबंधन ने एनुअल चार्जेज डबल कर दिए हैं। ऐसे में अभिभावकों को 10 हजार की जगह 20 हाजर रुपये जमा करने होंगे। यह अभिभावकों पर ज्यादती है।

एक दूसरे अभिभावक यतीन्द्र ने कहा कि समरविल स्कूल अन्य स्कूलों की तुलना में अधिक फीस लेता है। यह अभिभावकों के साथ अन्याय है। हम लोग इसके खिलाफ लड़ेंगे।

राजीव ने कहा कि सरकार के गलत निर्णय का स्कूल प्रबंधन फायदा उठा रहा है। अभिभावकों के शोषण में जितना दोषी स्कूल प्रबंधन है उतनी ही सरकार भी है। फीस के नाम पर अभिभावकों को लूटा जा रहा है।

प्रदर्शन में मुख्य रूप से यतीन्द्र कासना, राजीव गर्ग, मनोज कटारिया, विकास बंसल, मनोज शर्मा, रणवीर सिंह, अल्पना साह आदि समेत सैकड़ों लोग शामिल थे।

अभिवावकों का कहना था कि इस महंगाई के दौर में स्कूलों की इस लूट खसोट की नीति के चलते वे कैसे अपने बच्चों को पढ़ाएं। स्कूल प्रबंधन लगातार उन पर अनावश्यक लोड डाल दे रहा है। उन्होंने कहा कि वे लोग स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ ही डीएम से मिलकर समरमिल स्कूल प्रबंधन की शिकायत करेंगे। प्रदर्शनकारियों में महिलाओं की संख्या ज्यादा थी।

लंबे समय से नोएडा के स्कूल प्रबंधनों की मनमानी के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे आरटीआई एक्टिविस्ट और समाजवादी नेता ओमपाल राणा का कहना है कि जब प्रदेश सरकार ने स्कूलों की फीस निर्धारित कर दी है तो ये स्कूल क्यों फीस बढ़ा दे रहे हैं। ये स्कूल नहीं लूट केन्द्र बने हुए हैं।

राणा ने सवालिया लहजे में कहा कि जिले के डीएम क्या कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभिभावकों को सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर धरना देना चाहिए। हम लोग भी उनके कंधे से कंधा मिलाकर आंदोलन में शामिल होंगे। शिक्षा के बढ़ते व्यवसायीकरण पर चिंता जताते हुए राणा ने कहा कि यह गंभीर मामला है। बच्चों के भविष्य से जो खिलवाड़ किया जा रहा है। उसके खिलाफ मोर्चा खुलना ही चाहिए।

 








Tagfeeshike somerville guardian student protest

Leave your comment