गुजरात में जनता के साथ जनार्दन भी हुए महत्वपूर्ण

गुजरात , , शुक्रवार , 03-11-2017


gujaratassemblyelection-rahulgandhi-election

कलीम सिद्दीकी

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस बहुत आशान्वित है। चुनाव अभियान में निकले राहुल गांधी कांग्रेस में नई उर्जा का संचार कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात में गुजराती मीडिया भी मान रही है कि गुजरात में राहुल का जादू चल रहा है।राहुल गांधी के व्यक्तित्व में राजनीतिक परिपक्वता देखने को मिल रही है।गुजरात में धर्म के महत्व को देखते हुए राहुल भी मंदिर और धार्मिक स्थलों का भ्रमण करने से नहीं चूंक रहे हैं। राहुल गांधी मंदिरों में दर्शन और पूजा अर्चना करने में नरेंद्र मोदी का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया है। अपने भाषणों में भी वे धार्मिक कहानियों और उपदेशों का सहारा लेते हैं। गुजरात कांग्रेस की ‘‘नवसर्जन यात्रा’’ बलसाड जिले के नाना पोढ़ा गांव पहुंची तो राहुल गांधी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा-

 ‘‘कांग्रेस पार्टी पांडवों की सेना है जबकि बीजेपी कौरवों की सेना है। कौरवों के पास अधिक हथियार और बड़ी सेना थी जबकि पांडवों के पास मात्र सच्चाई थी। हमारे पास भी सिर्फ सच्चाई है, हिंदुस्तान में सच्चाई की जीत होती है, यहां भी सच्चाई ही जीतेगी।’’

दक्षिण गुजरात आदिवासी बहुल क्षेत्र है। राहुल ने कहा कि मोदीजी ने 5 लाख आदिवासी युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी, कहा था आप सब को घर दिया जायेगा,बेहतर शिक्षा, बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने का वादा किया था। लेकिन यह सब झूठा वादा साबित हुआ।  

राहुल गांधी ने छोटे और मध्यवर्गीय व्यपारियों से भी संवाद करते हुए प्रधान मंत्री पर निशाना साधतेे हुए कहा कि मोदीजी बहुत बोलते हैं। लेकिन ‘‘गब्बर सिंह टैक्स’’ पर कुछ नहीं बोलते। राहुल ने मोदी जी की कार्यशैली पर अंगुली उठाते हुए कहा कि जिससे स्पर्धा करने की बात की जा रही है वह-

चीन 24 घंटे में 50,000 रोजगार पैदा करता है। हिंदुस्तान 24 घंटे में मात्र 450 रोजगार पैदा करता है। मोदीजी 2 करोड़ रोजगार पैदा करने का वादा करके आये थे लेकिन मात्र 450 रोजगार ही पैदा कर पा रहे हैं।

राहुल ने दावा किया कि पिछले साठ वर्षों में आज सबसे अधिक बेरोजगारी है। राहुल ने गुजरात के छोटे और मंझोले व्यपारियों को गुजरात की शक्ति बताते हुए कहाकि जीएसटी और नोटबंदी ने इनकी कमर तोड़ डाली है।

वलसाड में राहुल गांधी की रैली

 

  • गुजरात में आदिवासियों की 6.5 लाख एकड़ जमीन हड़प कर 5 से 10 उद्योगपतियों को दे दिया
  • गुजरात में आदिवासी भूमिहीनयुवा बेरोजगारकिसान लाचारस्वास्थ्य और शिक्षा महंगी है

 

ने का आरोप राहुल ने गुजरात सरकार पर आदिवासियों की 6.5 लाख एकड़ जमीन हड़प कर 5 से 10 उद्योगपतियों को देने का आरोप लगाया।अधिग्रहीत साठ फीसदी जमीन किसी उपयोग में नहीं है फिर भी बीजेपी सरकार आदिवासियों की जमीन लौटा नहीं रही है। गुजरात में आदिवासी भूमिहीन, युवा बेरोजगार, किसान लाचार, स्वास्थ्य और शिक्षा महंगी है।अधिकार मांगने पर जनता पर अत्याचार हो रहा है,यही गुजरात का सत्य है।

गुरुवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी भी गांधी नगर स्थित अक्षरधाम मंदिर में मुख्य मेहमान थे। स्वामी नारायण संप्रदाय के बोचासनवासी अक्षर पुरूषोत्तम संस्थान के मंदिर अक्षरधाम की रजत जयंती समारोह का मौका था। इस मौके पर प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रमुख स्वामी आजादी की 75 वीं वर्षगांठ 2022 तक सहकार देने का वादा किया था। परन्तु आज वह हमारे बीच नहीं है। मैं महंत स्वामी महाराज से कहता हूं कि वह अपने हरि भक्तों को देश और समाज के लिए संकल्प लेने की प्रेरणा दें। प्रधानमंत्री ने प्रमुख स्वामी को याद करते हुए कहा प्रमुख स्वामी महाराज ने मात्र स्वामी नारायण संप्रदाय को फैलाया ही नहीं बल्कि 1200 मंदिर बनाने के साथ सामाजिक चेतना का केंद्र भी खड़ा किया। प्रधानमंत्री का उद्देश्य अपने भाषण से इस संप्रदाय का सहयोग हासिल करना था। हालांकि स्वामी नारायण के लोग पहले से ही बीजेपी के साथ हैं।

जिग्नेश मेवाणी, हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर का झुकाव और सहयोग हासिल करने के बाद अब कांग्रेस की नजर चौथे आन्दोलनकारी प्रवीन राम पर है।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अशोक गहलोत और प्रमुख भरत सोलंकी ने सूरत के ताज गेट वे होटल में प्रवीन राम के साथ बैठक में बेरोजगारी सहित कई अन्य समस्याओं पर चर्चा हुई। प्रवीन राम ने कहा,‘‘यदि कांग्रेस पार्टी हमारी मांगों को स्वीकार करती है तो हम कांग्रेस को समर्थन देने के लिए तैयार हैं, अन्यथा किसी के पक्ष में समर्थन का ऐलान नहीं किया जायेगा। आप को बताते चलें कि प्रवीन राम गुजरात में बेरोजगारी और फिक्स पगार के खिलाफ लम्बे समय से आन्दोलन कर रहे हैं।गुजरात सरकार को भी इनके आगे झुक कर इनकी कुछ मांगों को मानना पड़ा था। प्रवीन राम के अनुसार 5 लाख से अधिक युवाओं ने बीजेपी के खिलाफ लिखित शपथपत्र दिया है इन्होंने मेडिकल की दुकानों से हो रहे काले कारनामों के खिलाफ मुहिम चलाई थी,जिस पर प्रशासन को मजबूर होना पड़ा और राज्य के कई दावा स्टोर के लाइसेंस रद्द किये गए थे।   










Leave your comment











Ahmad Imam :: - 11-03-2017
Jas karni tas bhog jaisi khawat such hoti dekhaiye de rahi hai.