टीएमसी का जादू बरकरार, विपक्ष में भाजपा भी तैयार

प. बंगाल , कोलकाता, शुक्रवार , 02-02-2018


tmc-election-loksabha-victory-bjp-cpm-congress

जनचौक ब्यूरो

कोलकाता। 469 दिनों के लिए पश्चिम बंगाल के उलुबेड़िया लोकसभा सीट से लाखों मतों से सांसद चुनी गईं टीएमसी की साजदा अहमद। साजदा अहमद मरहूम पूर्व केंद्रीय मंत्री सुल्तान अहमद की बेवा है। 4 सितंबर' 17 को सुल्तान अहमद का निधन हो जाने के कारण उलुबेड़िया लोकसभा सीट का 29 जनवरी'18 को उपचुनाव हुआ। साथ ही नोआपाड़ा विधानसभा सीट पर भी उपचुनाव हुआ था। कांग्रेस के विधायक मधुसूदन घोष का निधन अगस्त'17 में हो जाने के कारण यह सीट रिक्त थी। 

उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने हावड़ा जिले की उलबेड़िया लोकसभा सीट पर जहां भारी मतों से फिर जीत हासिल की, वहीं पार्टी ने नोआपाड़ा विधानसभा सीट कांग्रेस से छीन ली। तृणमूल कांग्रेस की साजदा अहमद ने उलबेड़िया में अपने निकटत्तम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के अनुपम मल्लिक को चार लाख 74 हजार से ज्यादा मतों से पराजित किया। जबकि सुल्तान अहमद दो लाख से अधिक मतों से 2014 में विजयी रहे थे। वहीं नोआपाड़ा विधानसभा सीट पर तृणमूल कांग्रेस के ही सुनील सिंह ने  भाजपा के संदीप बनर्जी को 63 हजार 18 वोटों से परास्त किया। दोनों ही सीटों पर भाजपा दूसरे, माकपा तीसरे और कांग्रेस चौथे स्थान पर रही। 
एक फ़रवरी की सुबह वोटों की गिनती शुरू होने के साथ ही तृणमूल समर्थकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया था। कार्यकर्ता पहले से ही हरा अबीर लेकर गाजे-बाजे के साथ खुशी से झूम रहे थे। जैसे ही वोटों की गिनती शुरू हुई तृणमूल कांग्रेस ने बढ़त बनाना शुरू कर दी। तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता खुशी से झूम रहे थे तो भाजपा के समर्थक मुस्करा रहे थे। लेकिन कांग्रेस और वामपंथियों के चेहरों पर मायूसी थी। 

वामपंथियों को उम्मीद थी कि बदली परिस्थिति में वो किसी भी तरह से दूसरे नंबर पर रह जाते हैं तो उनके लिए राहत की बात होगी। उलबेड़िया में तो वामपंथी शुरू में ही अपनी हैसियत को भांप गये थे। लेकिन नोआपाड़ा में टक्कर भाजपा और माकपा के बीच होती रही। कभी भाजपा माकपा से आगे निकल जा रही थी तो कभी माकपा भाजपा को पीछे छोड़ते हुए नंबर दो की हैसियत में पहुंच जा रही थी। आखिरी गणना के बाद भाजपा के समर्थकों के चेहरों पर मुस्कराहट दिखी। दरअसल उसने माकपा और कांग्रेस को पछाड़ते हुए प्रमुख विपक्षी दल के रूप में अपनी दमदार मौजूदगी बरकरार रखी। 

मतगणना के बाद जो नतीजे सामने आये उसमें  नोआपाड़ा विधानसभा सीट पर तृणमूल कांग्रेस के सुनील सिंह को एक लाख 1 हजार 729 वोट, भाजपा के संदीप बनर्जी को 38 हजार 711 वोट, माकपा के गार्गी चटर्जी को 35 हजार 497 वोट और कांग्रेस के गौतम बोस को 10 हजार 527 वोट मिले। उलबेड़िया लोकसभा सीट पर तृणमूल कांग्रेस की साजदा अहमद को 7 लाख 67 हजार 556 वोट, भाजपा के अनुपम मल्लिक को दो लाख 93 हजार 46 वोट, कांग्रेस के शेख मुदस्सर हुसैन वारसी को 23 हजार 109 वोट और माकपा के शबीरूद्दीन मोल्ला को एक लाख 38 हजार 892 वोट मिले।









Leave your comment