छत्तीसगढ़ में जानलेवा साबित हो रहा है “रमन का मोबाइल”

त्रासदी , , बुधवार , 12-09-2018


chhattishgarh-cmramansingh-suchanakrantiyojana-reliancegio-micromaxmobile

तामेश्वर सिन्हा

रायपुर। छत्तीसगढ़ की रमन सरकार ने कुछ दिनों पहले जनता को मुफ्त में मोबाइल फोन बांटे थे। बंटने के कुछ दिनों बाद से ही वे मोबाइल ब्लास्ट हो रहे हैं जिसके चलते कई लोग जख्मी भी हुए हैं। छत्तीसगढ़ में संचार क्रांति योजना के तहत दिए गए मोबाइल फोन के गर्म होकर फटने की खबरें लगातार अलग-अलग जिलों से आ रही हैं। मुफ्त में वितरित किए गए मोबाइल फोन को लोग अब विस्फोटक मोबाइल कह रहे हैं। 

छत्तीसगढ़ सरकार ने चुनाव के कुछ महीने पहले संचार क्रांति योजना के तहत APLऔर BPLपरिवारों की लगभग 55 लाख महिलाओं को स्मार्टफोन बांटने का ऐलान किया है। जिनके जरूरतमंद सदस्यों को स्मार्टफोन दिया जाएगा। करीब 3 लाख छात्र-छात्राओं को भी इस योजना से जोड़ा गया है। सरकार ने माइक्रोमैक्स भारत 2+ स्काई मोबाइल, बाजार में जिसकी कीमत 4499 रुपये है, को 2509.92 रुपये में खरीदा है। राज्य सरकार ने इसके लिए रिलायंस जियो कंपनी से करार भी किया है। जनता को बांटे गए इन मोबाइल फोनों का छह महीनों तक बिल भी नहीं आएगा।

लेकिन सरकार द्वारा बीते महीने बांटे गए मोबाइल फोन ब्लास्ट हो रहे हैं। कुछ फोन तो चल भी नहीं रहे हैं। हाल के मोबाइल ब्लास्ट की घटनाओं पर नजर डालें तो-

प्रतापपुर विकास खण्ड के ग्राम पंचायत बैकोना की निवासी सुहानो बाई, गांव के ही माध्यमिक शाला में रसोईया का काम करती हैं, इनको संचार क्रांति योजना के तहत कुछ दिन पहले ही माइक्रोमैक्स मोबाइल फ़ोन प्राप्त हुआ था। बुधवार की रात मोबाइल को चार्जिंग में घर में लकड़ी प्लाई से बने रैक में रख दिया तभी रात 12-1 बजे के आसपास उसे अचानक तेज गर्मी का एहसास हुआ, जब नींद से जगीं तो देखा कि पूरे कमरे में धुआं भरा हुआ था। पीड़ित के अनुसार उस दौरान ब्लास्ट होने की आवाज भी आई थी।

इससे पहले प्रतापपुर विकास खंड में ही ग्राम पंचायत चाचीडांड की रहने वाली कमलेश्वरी बाई को मोबाइल मिला था जो अपने बेटे बिशुन सिंह के कमरे में रख कर घर के बाहर बच्चों के साथ बैठी थीं।  तभी उसने बेटे के कमरे से अचानक धुआं निकलते देखा और कुछ समझने का प्रयत्न करती कि तभी ब्लास्ट होने की जोरदार आवाज आई। 

तीसरी घटना जांजगीर जिले के अकलतरा वार्ड क्र. 15 में रहने वाले सुरेश खरे पिता प्रकाश खरे की है। उनको स्काई योजना के तहत मिली मोबाइल बुधवार की सुबह फट गई। मोबाइल से धुआं निकलते देख उसे घर से बाहर बाड़ी में रखने से हादसा टल गया। इसी तरह कवर्धा जिले के पंडरिया में वार्ड क्रमांक 09 के पूर्व पार्षद श्यामू धुलिया ने बताया कि 11 अगस्त को एक महिला को नगर पंचायत के माध्यम से शासन की ओर से संचार क्रांति के तहत मोबाइल दिया गया था। मोबाइल को 20 अगस्त को चालू किया। 21 अगस्त को सुबह 11.30 बजे इसी मोबाइल से महिला अपने दामाद से बात कर रही थी तभी अचानक मोबाइल काफी गर्म हो गया और धुआं निकलने लगा।

जांजगीर चांपा के वार्ड नंबर 10 में हसदेव नदी के पास रहने वाली जुमरातन बाई को संचार क्रांति योजना के तहत मोबाइल मिला था। 14 अगस्त की शाम करीब 5 बजे जुमरातन मोबाइल को चार्जर में लगाकर काम कर रही थी। इस दौरान मोबाइल अचानक ब्लास्ट हो गया। इसकी सूचना जुमरातन ने आसपास के लोगों को दी। मोबाइल फटने की जैसे ही जानकारी मिली, आनन-फानन में प्रशासन ने अधिकारियों की टीम को रवाना किया। इसके अलावा प्रदेश के विभिन्न जिलों से संचार क्रांति के तहत मुफ्त में बांटे गए मोबाइल फोन के गर्म होकर फटने की लगातार खबरें आ रही हैं । 

राज्य की जनता अब मुफ्त में बांटे जा रहे फोन से परहेज कर रही है। सब लोग सरकारी मोबाइल फोन चलाने से बच रहे हैं। सरकार ने बिना किसी सुरक्षा मापदंड परखे लाखों की संख्या में माइक्रो मैक्स कंपनी का मोबाइल फोन खरीद लिया। यह फोन चार्ज करते समय गरम हो जा रहा है। 

फोन ब्लास्ट मामले पर कांग्रेस का कहना है कि घटिया किस्म का मोबाइल बांट कर वाह वाही लूटने वाली रमन सरकार को जनता से माफी मांगनी चाहिए। विपक्ष ने रिलायंस जियो, माइक्रोमैक्स और चिप्स के अधिकारियों के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग भी की है। चुनावी वर्ष में प्रदेश की भोली-भाली जनता को 55 लाख घटिया किस्म के मोबाइल बांटकर रमन सरकार वाहवाही लेना चाह रही है लेकिन उनका तो विकास धमाके के साथ फट रहा है। वहीं छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के अधिकारियों ने संचार क्रांति योजना के तहत वितरित स्मार्टफोन को पूरी तरह सुरक्षित बता रहे हैं। 

           (तामेश्वर सिन्हा छत्तीसगढ़ के चर्चित पत्रकार हैं और आजकल बस्तर में रहते हैं।)








Tagchhattishgarh cmramansingh suchanakrantiyojana reliancegio micromaxmobile

Leave your comment