वीडियो:दलितों के आंदोलन और विपक्ष के दबाव के आगे झुकी सरकार, एससी-एसटी बिल लोकसभा से पारित

मुद्दा , , मंगलवार , 07-08-2018


dalit-sc-st-bill-parliament-opposition-movement-supreme-court

जनचौक ब्यूरो

(कल एससी-एसटी उत्पीड़न विरोधी बिल लोकसभा से पारित हो गया। सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में इस कानून के कई प्रावधानों को बदल दिया था। जिससे कानून बहुत कमजोर हो गया था। फैसला आने के साथ ही देश भर में इसका विरोध शुरू हो गया था। इसी कड़ी में 2 अप्रैल को देशव्यापी बंद हुआ जिसे अभूतपूर्व सफलता मिली। इसके साथ ही दलितों-पिछड़ों और समाज के प्रगतिशील तबकों ने एक बार फिर 9 अगस्त को बंद का ऐलान किया था। इस बीच सरकार के घटक दलों ने भी इसको मुद्दा बनाना शुरू कर दिया था। और सरकार पर दबाव डालकर पुराने कानून को फिर से वापस लाने की वो कवायद में जुट गए थे। लिहाजा देश और समाज में आंदोलनों और घटक दलों के दबाव के साथ ही आगामी आम चुनावों को देखते हुए सरकार ने पुराने कानून को बहाल करने का फैसला ले लिया। और सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के बदलावों को रद्द करते हुए मूल कानून को बिल बना कर लोकसभा से पास करा लिया गया। बताया जा रहा है कि कानून को मजबूती देने के लिए इसमें कुछ और प्रावधान जोड़े गए हैं। इस मौके पर संसद में हुई बहस के दौरान कुछ सांसदों ने बेहतरीन तरीके से अपनी बात रखी। उनमें सपा सांसद धर्मेंद्र यादव और स्वास्थ्य राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल प्रमुख हैं। पेश है लोकसभा में दिया गया उनका पूरा भाषण-संपादक)।










Leave your comment