मोदी जी के “पकौड़ा रोजगार” की कहानी, पकौड़े वाले की जुबानी

विशेष , पड़ताल, सोमवार , 12-02-2018


employment-crisis-truth-of-pakoda-job

सुनील कुमार

आजकल पकौड़े बेचने की चर्चा काफी हो रही है। छात्र विरोध स्वरूप पकौड़े का स्टाल लगा रहे हैं। इस तरह की चर्चा की शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री के उस बयान से हुई जिसमें उन्होंने कहा कि कोई पकौड़ा बेचकर 200 रुपये कमा लेता है, वह भी रोजगार है। आखिर मोदी को इस तरह का बयान क्यों देना पड़ा? 

हम सभी जानते हैं कि भारत के ‘प्रधान सेवक उर्फ फकीर उर्फ मजदूर उर्फ चौकीदार’, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब भारत के प्रधानमंत्री बनने के लिए चुनाव मैदान में थे तो अपनी चुनावी सभाओं में घोषणा करते थे कि अगर उनकी सरकार बनती है तो वे हर साल 2 करोड़ लोगों को रोजगार देंगे। लेकिन मोदी काल में रोजगार प्रदान करने की दर मनमोहन सरकार के दोनों कार्यकाल से भी कम रही है। 2013 में मनमोहन सरकार 19 लाख रोजगार उत्पन्न कर पाई थी वहीं 2015 में मोदी सरकार मात्र 1.35 लाख रोजगार ही उत्पन्न कर सकी है।

रोजगार उत्पन्न नहीं होने के कारण देश में बेरोजगार युवाओं की कतार लम्बी होती जा रही है। ऐसे प्रश्नों से बचने के लिए मोदी ने पकौड़े बेचने व चाय बेचने को भी रोजगार की श्रेणी में रख दिया है। मोदी जी कहने लगे कि ‘स्टार्ट अप’ करो ताकि लोगों को रोजगार मिले। इसी तरह की मनमोहनी बात सुना-सुना कर मोदी जी लोगों को असली मुद्दों से भटकाते रहे हैं।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राज्यसभा में अपने पहले भाषण के दौरान कांग्रेस पर बरसते हुए (भाजपा के लोग बात नहीं रखते दूसरे पर बरसते हैं) पकौड़े बेचने के बयान पर कहा- ‘‘कोई बेरोजगार पकौड़ा बना रहा है तो उसकी दूसरी पीढ़ी आगे आएगी। एक चाय वाला प्रधानमंत्री बन कर इस सदन में बैठा है।’’ हम लोगों को पता करना चाहिए कि 2014 के बाद कितने चाय वालों के अच्छे दिन आ गए हैं। 

 

हमने मोदी जी के बयान के बाद एक पकौड़े बेचने वाले से बात की, जो दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर उद्योग विहार में 15 जनवरी, 2018 से पकोड़े बेच रहा है। अगर मोदी जी जनता से बहुत सरलता से मिलते तो हम यह सोच सकते थे कि उनके 19 जनवरी, 2018 के साक्षात्कार में पकौड़े वाले रोजगार का आइडिया शायद इसी व्यक्ति से मिला हो।

 

मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के रहने वाले सिद्धशरण साहू कई साल पहले गांव छोड़कर दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र में कभी परिवार के साथ तो कभी अकेले, परिवार का पेट पालने के लिए निकले। सिद्धशरण साहू का कच्चा मकान था वह भी दो साल पहले बारिश में गिर चुका है। उनकी पत्नी भी उनके साथ कभी कंस्ट्रक्शन में साथ-साथ मजदूरी करती है तो कभी एक्सपोर्ट लाइन में हेल्पर का काम करती है। इसी तरह के रोजगार की तलाश में साहू के दो बच्चों की पढ़ाई भी नहीं हो पाई। 

आखिर 2013 में सिद्धशरण साहू ने सभी अनुभवों के बाद तय किया कि वह उद्योग विहार में ही काम करेंगे। उन्होंने हरियाणा के डुंडाहेड़ा गांव को अपना बसेरा़ बनाया। काम के अनुभव के बल पर सिद्धशरण साहू एक्सपोर्ट में चेकर बन गए और कई कम्पनियों में काम करने लगे। वहीं उनकी पत्नी इमरती बाई एक्सपोर्ट में धागा कटिंग का काम करने लगी। 

घर और कम्पनी में काम के दबाव के कारण इमरती बाई ने काम छोड़ दिया। दबाव के कारण इमरती बाई के स्वभाव में चिड़चिड़ापन आने लगा था। साहू चेकर का काम करते रहे लेकिन एक साल पहले नोटबंदी के समय उनका भी काम छूट गया। इसके बाद वे उद्योग विहार फेस 1 में सिक्युरिटी गार्ड का काम करने लगे, जिसके लिए उन्हें 9,334 रुपये ईएसआई और पीएफ काट कर मिलता था। साहू की पहले तो आठ घंटे की ड्यूटी थी, बाद में उसे बदल कर 12 घंटे का कर दिया गया और तनख्वाह वही रही। इसी बीच उनकी सिक्युरिटी एजेंसी का नाम भी चेंज हो गया। उनका पीएफ कटने के बावजूद कभी भी उनकी सिक्युरिटी एजेंसी ने उनको पीएफ एकाउंट नहीं दिया और न ही काम छोड़ने के बाद उनका पीएफ फॉर्म भरा जा रहा है। 

साहू फिर से कम्पनी में लग गए, लेकिन उनकी नौकरी छूट गई। साहू बताते हैं कि काफी कोशिश के बाद भी नौकरी नहीं मिली, क्योंकि जीएसटी के बाद काम कम हो गया है।


सिद्धशरण साहू काम नहीं मिलने के बाद ठेले (रेहड़ी) पर चाय, समोसे, पकौड़े बेचने लगे। दुकान लगाने के लिए दस-बारह हजार रुपये खर्च कर रेहड़ी, बर्तन, गैस का छोटा सिलेण्डर, चूल्हा और दुकानदारी के लिए सामान खरीदा। सिद्धशरण सुबह 5 बजे जाग कर दुकानदारी के लिए सारा सामान तैयार करते थे। सुबह अपने ठेहा (दुकान लगाने की जगह) पर 9 बजे पहुंच जाते थे और वहां शाम 7 बजे तक रहते थे। 7 बजे घर आने के बाद दूसरे दिन की दुकानदारी के लिए बाजार जाते थे और बाजार से लौटने के बाद लहसून, धनिया की चटनी तैयार करते थे। इस तरह से रोज रात के 9-10 बज जाया करता था। इन कामों में उनकी पत्नी और बच्चे भी हाथ बंटाते थे। 

दिन में 16-17 घंटे परिश्रम कर 15 दिन दुकान लगाए, जिसमें 2,000 रुपये घाटा उठाना पड़ा। इसके बाद वे उद्योग विहार फेस 1 में 24 कम्पनी के पास रोड के किनारे रेहड़ी लगाने लगे। रोड के किनारे रेहड़ी लगाने के लिए भी सिद्धशरण से कंपनी के मालिक के सिक्युरिटी सुपरवाईजर के द्वारा 2,500 रुपये एडवांस में लिया गया। इसके अलावा लोकल दादा, पुलिस और गुड़गांव अथॉरिटी को पैसे देने पड़ते हैं (सिद्धशरण के पास अभी तो यह लोग नहीं आए हैं क्योंकि दुकान नई है, लेकिन दूसरे दुकानदार इन लोगों को पैसा देते हैं)। 

 

यहां की दुकानदारी से 300-400 रुपये की रोजना बचत होने लगी। इस बचत के लिए सिद्धशरण साहू को सुबह 5 से रात के 10 बजे तक काम करना पड़ता है और पत्नी का पहले से अधिक समय लगने लगा। सिद्धशरण साहू से 20 दिन बाद सिक्युरिटी सुपरवाईजर ने कहा - ‘‘मालिक 4000 रुपये प्रति माह मांग रहा है, इतना पैसा दोगे तो दुकान लगाओ नहीं तो अपनी रेहड़ी हटा लो।’’ 

 

सि़द्धशरण साहू बताते हैं कि 15 फरवरी तक के लिए एडवांस पैसे दे रखे हैं तबतक दुकान लगाएंगे, उसके बाद वह अपनी दुकान बंद कर देंगे। 

वे सोचते हैं कि अब जब शहर में नौकरी नहीं है, रेहड़ी लगा कर पकौड़े, समोसे नहीं बेच सकते तो गांव जाकर मजदूरी करेंगे। इधर यहां सड़क पर रेहड़ी लगाने के भी पैसे लेने वाली कम्पनी आज के ‘देश प्रेम’ में अभिभूत होकर कम्पनी के ऊपर तिरंगा फहरा रही है।

 

मोदी जी ने बहुत आसानी से यह बता दिया कि पकौड़ा बेचने वाला 200 रुपये कमा लेता है, लेकिन उनको यह पता नहीं कि इस 200 रुपये में से भी कितना बंदर बांटा होता है। सिद्धशरण साहू ने नौकरी नहीं मिलने पर अपना स्टार्ट अप किया, जो अब उन्हें गांव की तरफ लौटने पर मजबूर कर रहा है। 

गांव से उजड़ कर शहर आने वाले सिद्धशरण को क्या वापस गांव जाने पर काम मिल पाएगा? क्या केवल तिरंगा फहराने से ही देश भक्ति आ जाती है?  सिद्धशरण की मजबूरी का फायदा उठाने वाले जैसे कितने झूठे देश प्रेम में अभिभूत होकर सरकारी जमीन का भी किराया वसूल रहे होंगे।

(सुनील कुमार पत्रकार हैं और दिल्ली में रहते हैं।)






Leave your comment