आततायियों ने शादी के रिसेप्शन को भी नहीं बख्शा, बीफ खाने का आरोप लगाकर किया हमला

मुद्दा , नई दिल्ली, बृहस्पतिवार , 19-04-2018


jharkhand-mob-lynching-beef-attack-police

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। झारखंड के कोडरमा जिले में आयोजित शादी के एक रिसेप्शन पर बीफ का मीट खिलाए जाने का आरोप लगाते हुए एक भीड़ ने हमला बोल दिया। आतततायी भीड़ ने दूल्हे के पिता की बर्बर तरीके से पिटाई की। और दूसरे लोगों को भी उसने नहीं बख्शा। इसके साथ ही इलाके के दर्जनों घरों को भी क्षति पहुंचायी गयी। ये सब कुछ पुलिस और प्रशासन की मौजूदगी में हुआ। बताया जा रहा है कि समारोह में बीफ परोसे जाने की शिकायत के बाद पुलिस मामले की जांच के लिए मौके पर पहुंची थी। घटना मंगलवार की है। पुलिस ने आधा दर्जन हमालवारों को गिरफ्तार कर लिया है।

“कारवां डेली” की रिपोर्ट के मुताबिक कोडरमा जिले के दोमचांच पुलिस स्टेशन के तहत आने वाले गांव नवाडीह में सोमवार को एक शादी का रिसेप्शन था। बताया जा रहा है कि मंगलवार की सुबह कुछ गांव वालों ने इस्राइल अंसारी के घर के पीछे के खेत में प्रतिबंधित मांस की कथित हड्डियां देखी। उसके बाद स्थानीय पुलिस की एक टीम मौके पर जांच करने पहुंच गयी। लेकिन अभी पुलिस जांच कर ही रही थी कि तभी 100 की संख्या में लोगों की एक भीड़ ने एक खास समुदाय के लोगों के घरों को तहस-नहस करना शुरू कर दिया। स्थानीय पेपर प्रभात खबर में ये सारी बातें प्रकाशित हुई हैं।

भीड़ ने तकरीबन 30 घरों को अपने हमले का निशाना बनाया। उन लोगों ने 17 मोटरसाइकिलें, एक बोलेरो, एक कार और दो टंपो जला दिए। इसके अलावा एक धार्मिक स्थल पर भी हमला हुआ और उसमें रखी धार्मिक किताब को जला दिया गया।

इसमें इस्राइल अंसारी और जुम्मन मियां को बहुत ज्यादा चोट आयी है। अंसारी को गंभीर चोट आयी है और उन्हें रांची स्थित राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में रिफर कर दिया गया है।

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस मामले में पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। और उन पर धारा 144 के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया है।

जिलाधिकारी भुवनेश प्रताप सिंह और एसपी शिवानी तिवारी ने इलाके का दौरा किया और पीड़ित परिवारों से मुलाकात की। कोडरमा की एसपी शिवानी तिवारी ने पीटीआई को बताया कि “इस मामले में हमने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। हालत अब नियंत्रण में है।” उन्होंने कहा कि कानून और व्यवस्था को बनाए रखने के लिए आस-पास पर्याप्त सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया गया है।

ये पूछे जाने पर कि क्या प्रतिबंधित मांस शादी के रिसेप्शन में वितरित किया गया था एसपी ने कहा कि “हमने उसके नमूने को फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है और रिपोर्ट आने के बाद ही उसकी पुष्टि कर सकते हैं।”

पिछले चार सालों में बीजेपी शासित हरियाणा, राजस्थान, असम और झारखंड में दर्जनों इस तरह के मॉब लिंचिंग के मामले सामने आए हैं। इनमें ढेर सारे अकेले झारखंड में हुए हैं।

जून 2017 में मांस के व्यापारी अलीमुद्दीन अंसारी की एक बर्बर भीड़ ने रामगढ़ में बुरी तरीके से पिटाई कर दी थी। जिसमें उनकी मौत हो गयी थी। पिछले महीने एक फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 11 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनायी थी। जिसमें बीजेपी का एक जिला स्तर का नेता भी शामिल था।

 






Leave your comment