जोशी ने लिखा कानपुर के मतदाताओं को पत्र, कहा- पार्टी मना कर रही है चुनाव लड़ने से

राजनीति , नई दिल्ली, मंगलवार , 26-03-2019


joshi-advani-election-embrassment-rss-shah-modi-letter-kanpur

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और कानपुर से सांसद मुरली मनोहर जोशी ने कानपुर के अपने मतदाताओं को पत्र लिखकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। उन्होंने पत्र में कहा है कि पार्टी ने उनसे अगला चुनाव नहीं लड़ने के लिए कहा है।

उन्होंने पत्र में लिखा है कि बीजेपी महासचिव रामलाल ने उनसे कहा कि वह कानपुर या फिर किसी और चुनाव क्षेत्र से चुनाव न लड़ें। कानपुर के मतदाताओं के नाम संबोधित इस पत्र की शुरुआत “प्रिय कानपुर के मतदाताओं” से हुई है। उसमें आगे लिखा गया है कि “भारतीय जनता पार्टी के महासचिव (संगठन) श्री रामलाल ने मुझे आज सूचित किया कि मुझे आने वाला लोकसभा चुनाव कानपुर या फिर किसी भी और जगह से नहीं लड़ना चाहिए।”

आपको बता दें कि मुरली मनोहर जोशी ने 2014 का लोकसभा चुनाव कानपुर से ही जीता था। और उन्हें वहां 57 फीसदी वोट मिले थे। अभी तक माना जा रहा था कि जोशी इस मामले को सार्वजनिक नहीं करेंगे। लेकिन उनके इस पत्र के बाद मामला बिल्कुल सार्वजनिक हो गया है। 

इसके पहले पार्टी ने बुजुर्ग नेता लाल कृष्ण आडवाणी का भी टिकट काट दिया था। और गांधीनगर से उनकी जगह बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को प्रत्याशी बनाया है। फैसले से नाराज होने के बावजूद आडवाणी ने अपना मुंह नहीं खोला और पूरे मामले पर चुप्पी साधे रहे। लेकिन जोशी के मामले में ऐसा नहीं हुआ। जोशी वैसे भी संघ के बेहद करीबी माने जाते हैं। और बताया जा रहा है कि जब बीजेपी नेतृत्व ने इस बात का फैसला लिया तो संघ ने उसे इसकी आशंका पहले ही जता दी थी।

इतना ही नहीं सूत्रों की मानें तो राम लाल ने जब जोशी के सामने यह बात कही तो उन्होंने उसी समय मोदी और शाह पर तंज कसा और कहा कि वो किस बात से डर रहे हैं। यही बात वो खुद क्यों नहीं कह सकते थे।

दअरसल खुद न जाकर दूसरे के जरिये संदेश भेजे जाने को जोशी अपने अपमान के तौर पर देख रहे हैं। जोशी की यह नाराजगी यूपी में पार्टी को भारी पड़ सकती है। खासकर ब्राह्मण मतदाताओं पर इसका उल्टा असर पड़ सकता है।








Tagjoshi kanpur letter shah modi

Leave your comment