नोटबंदी की बरसी पर सूरत के व्यापारियों के बीच रहे राहुल

गुजरात की जंग , सूरत/अहमदाबाद, बृहस्पतिवार , 09-11-2017


notebandi-rahul-surat-traders-meeting

कलीम सिद्दीकी

सूरत/अहमदाबाद। कांग्रेस ने नोटबंदी के खिलाफ देशभर में काला दिवस मनाने का ऐलान किया था। इस मौके पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपना पूरा समय सूरत में व्यापारियों के बीच बिताया। इस दौरान राहुल गांधी ने सूरत के व्यापारियों से मुलाक़ात कर जीएसटी और नोटबंदी के बाद उद्योग पर पड़ने वाले असर को समझने की कोशिश की। बुधवार को राहुल गांधी ने लगातार हीरा और टेक्सटाइल व्यवसायियों से मिलते रहे। पॉवर लूम खातों के कारीगरों और कारखाना मालिकों को सुना। 10 घंटे की मुलाक़ात के बाद राहुल गांधी ने मीडिया को बताया कि लोग जीएसटी और नोटबंदी से त्रस्त हैं। प्रधानमंत्री को जीएसटी और नोटबंदी के लिए देश से माफ़ी मांगनी चाहिए। गौरतलब है कि जीएसटी का सबसे ज्यादा विरोध सूरत के कपड़ा व्यापारियों ने किया था। हालांकि सरकार ने उनके करों में कुछ छूट जरूर दी। लेकिन व्यापारी अभी भी उससे संतुष्ट नहीं हैं।

राहुल गांधी सूरत के एक परिवार के साथ।

रात में संजीव कुमार आडिटोरियम में टेक्सटाइल, रत्न कलाकार, जेम एंड ज्वेलरी, एग्रीकल्चर, केमिकल आदि उद्योग से जुड़े लोगों के मन की बात सुनी। चुनाव प्रचार में राहुल गांधी खुद कुछ कहने के बजाय जनता से उसकी समस्याओं को समझने की कोशिश कर रहे हैं। लोगों ने अपने प्रश्न भी रखे। एक व्यापारी ने राहुल गांधी से कहा कि गुजरात में कांग्रेस की सरकार नहीं बन पा रही है उसके लिए कांग्रेस की गुटबाजी ज़िम्मेदार है। यदि गुटबाजी ख़त्म हो तो सरकार बन सकती है। जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि गुटबाजी समाप्त करने के लिए अशोक गहलोत जी को प्रभारी बनाया गया है। 

राहुल गांधी वराछा रोड पर पैदल चल कर कई पॉवर लूम और हीरे के कारखाने के लोगों से मुलाक़ात की। मुलाक़ात के दरमियान कारखाना मालिकों ने राहुल गांधी को बताया कि नोटबंदी और जीएसटी ने उनके पैर तोड़ दिए हैं। राहुल गांधी ने मुलाक़ात के बाद कहा कि जीएसटी में पांच लेयर टैक्स हैं जिन्होंने व्यपारियों को तबाही के कगार पर खड़ा कर दिया है। 5 लेयर टैक्स नहीं चलेगा। कांग्रेस ने जेटली जी और मोदी जी से स्पष्ट कहा है कि यह मात्र कांग्रेस बीजेपी की बात नहीं है। देश की आम जनता की बात है। इसमें सुधार ज़रूरी है। जीएसटी इस प्रकार से लागू नहीं किया जाये। जीएसटी टैक्स 18% से अधिक न किया जाये। राहुल ने कहा कि उन्होंने पहले ही इसकी चेतावनी दी थी और वही हुआ भी। 






Leave your comment