पीएम के लखनऊ दौरे पर छात्र नेता पूजा के अपहरण के बाद पुलिस की एनकाउंटर की धमकी!

इंसाफ की मांग , नई दिल्ली/लखनऊ, रविवार , 29-07-2018


pooja-shukla-pm-modi-up-police-encounter

जनचौक ब्यूरो

(कल पीएम नरेंद्र मोदी लखनऊ के दौरे पर थे। लेकिन इस दौरे में प्रशासन के जेहन में पीएम से ज्यादा छात्र नेता पूजा शुक्ला घूम रही थी। लिहाजा उसने इस समस्या से निपटने के लिए अजीबोगरीब रास्ता अख्तियार किया। लखनऊ पुलिस ने पूजा का अचानक उनके घर से अपरहण कर लिया और फिर दिन भर उन्हें इधर-उधर घुमाती रही। इस दौरान उनके साथ गाली-गलौज से लेकर हर तरह की बदतमीजी की गयी। पढ़िए पूजा की कलम से खुद उनके अपहरण की दास्तान-संपादक।) 

साथियो मैं अब बिल्कुल ठीक हूँ,

कल अचानक पुलिस की दबिश होती है और फ्लैट से निकल कर मैं सड़क पर ऑटो लेने के लिए जा रही होती हूँ तब अचानक से कुछ 8 या 9 पुलिस वाले साथ में एक महिला पुलिस दौड़ते हुए आ रहे होते हैं मुझे एक मिनट के लिए समझ में नहीं आता कि वो किस लिए आ रहे हैं। तभी आते ही मेरा सबसे पहले गालियां देते हुए बैग और फ़ोन छीना जाता है। फ़ोन न देने पर एक थप्पड़ मुझे मारा और बदतमीजी करते हुए बैग और फ़ोन छीन लिया। उसके बाद मुझे जबरन जीप में डाल दिया और अज्ञात स्थान पर ले जाने लगे। रास्ते मे एक जीप और महिला पुलिस को बुलाया गया। मुझे अजीब सा डर लग रहा था 3 जीप पुलिस और मैं अकेली रास्ते भर जिस तरह की गालियां दी गयीं जो जो कहा गया वो मुझे अचंभित कर देने वाला था। सत्ता का स्तर इतना गिर चुका है। 

मैं लगातार कहती रही मुझे मेरे घर वालों से बात करने दीजिये। मुझे एक कॉल कर लेने दीजिये लेकिन जवाब सिर्फ गालियां थीं। मेरे सामने फोन उठा के पत्रकारों, दोस्तों, यहां तक कि मेरे पापा को गुमराह किया गया, किसी को बोला मैं हॉस्पिटल में हूं, किसी को मैं घर पर सो रही हूं, किसी को कि मैं मॉल में शॉपिंग कर रही हूं, यहां तक कि वो मेरे सामने खुद को मेरी मां बता के बात कर रही थी, पहले काफी दूर ले गए। मुझे अज्ञात स्थान पर काफी देर तक खड़ा रखा। तब मैंने वहां वाशरूम जाने का बहाना लिया तो मुझे वो फन मॉल ले आये। वाशरूम में घुस के हमने एक लड़की का मोबाइल ले कर अपने एक साथी को बताया कि मुझे अज्ञात स्थान पर ले कर जा रहे हैं। 

मेरे घर पर बता दो। तब तक पुलिस वाली आ गयी उन्होंने फ़ोन छीना और गालियां देने लगी। उसके बाद फिर मुझे वह दोबारा से जीप में बैठा के सिर्फ अज्ञात स्थान पर काफी देर तक खड़ा रखा, कुछ सवाल करने पर जवाब से सिर्फ गालियां, तुमने सबकी जिंदगी बर्बाद कर दी है। इतना प्रेशर आ रहा है छोड़ राजीनीति तुम्हें लम्बा अंदर भेजा जाएगा। लड़की हो लड़कियों की तरह रहो। एनकाउंटर  से लेकर नजीब तक सब वाकया दिमाग में थे, तभी 9 बजे पता चलता है पीएम साहब गए। तब मुझे कहा जाता है चलो तुमको मॉल छोड़ दें या चौराहे पर या यहीं। 

हमारा ब्लड प्रेसर लो था, मैंने कहा मैं कहीं नहीं उतरूंगी गाड़ी पर मुझे जहां से लाये हो वहीं ले चलो, गाड़ियां मुझे छोड़ने आयीं, मेरी दी को सूचित किया गया वो नीचे आयीं तभी उन्होंने और उनके साथ के लोगों ने पूछा कि किससे पूछ के आप ले गए? आप के सारे आला अधिकारियों को कोई संज्ञान कैसे नहीं है? वो सब लोग इतनी जल्दी में अपनी जीप में बैठे और चले गए। बस इतना लोग पीछे से बोल रहे थे यहां तक छोड़ ही दे रहे हैं यही गनीमत है। रात का 10 बजने वाला था। पुलिस के द्वारा किया गया यह अपहरण था, डराने, धमकाने की कोशिश। लेकिन पुलिस को इस अपरहण का जवाब देना होगा।








Tagpoojashukla pmmodi uppolice encounter arrest

Leave your comment











Srikant arora :: - 07-30-2018
असहमति लोकतंत्र की सफलता हेतु एक मानक। व्यवस्था को उसको सुनना चाहिये, माने या न माने यह गौण है। किंतु उसका विचार बिना सुने , दमन औचित्यपूर्ण नहीं है।

Sushil Kumar Singh :: - 07-29-2018
The most organised criminal gang is our police.