लंदन पहुंचा तूतिकोरिन का गुस्सा, लेबर सांसद ने की वेदांता को स्टॉक एक्सचेंज से हटाने की मांग

देश-दुनिया , नईदिल्ली/लंदन, शनिवार , 26-05-2018


tutikorin-protest-death-vedanta-labour-london

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली/लंदन। ब्रिटेन के मुख्य विपक्षी दल लेबर पार्टी ने तमिलनाडु के तूतिकोरिन में 13 लोगों की हत्या के लिए जिम्मेदार वेदांता रिसोर्सेज को लंदन के स्टाक एक्सचेंज की सूची से हटाने की मांग की है। इस बीच तमिलनाडु के इस नरसंहार के खिलाफ लंदन की सड़कों पर आज जमकर प्रदर्शन हुआ।

लेबर पार्टी के शैडो चांसलर जॉन मैकडोनेल ने कहा कि “तमिलनाडु में 13 प्रदर्शनकारियों की हत्या की खबर चौंकाने वाली और कार्रवाई की मांग करती है।”

मैकडोनेल ने कहा कि “इस सप्ताह हुए प्रदर्शनकारियों के नरसंहार के बाद अब रेगुलेटर को कार्रवाई के लिए कदम उठाना चाहिए। ये प्रमुख बहुराष्ट्रीय कंपनी है जो सालों से अवैध खनन के काम में लगी हुई है और बड़े पैमाने पर लोगों को विस्थापित करने और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने का काम कर रही है। आंदोलनकारी और एमनेस्टी इंटरनेशनल जैसे अंतरराष्ट्रीय एनजीओ वेदांता पर भारत और जांबिया समेत दुनिया के पैमाने पर मानवाधिकार और पर्यावरण को बर्बाद करने के आरोप लगाते रहे हैं।”

शैडो चांसलर वेदांता के हमेशा से आलोचक रहे हैं। 2015 में सांसद के तौर पर मैकडोनेल ने संसद में एक प्रस्ताव रखा था जिसमें उन्होंने 2009 में एक चिमनी के गिर जाने से 40 मजदूरों की मौत पर गहरी चिंता जाहिर की थी। इसके साथ ही इस मुद्दे पर एक न्यायिक रिपोर्ट के प्रकाशन पर रोक लगाने पर भी उन्होंने नाराजगी जाहिर की थी। प्रस्ताव पर लेबर नेता जर्मी कोर्बिन के भी हस्ताक्षर थे। उस समय वो भी संसद के सदस्य थे।

दि हिंदू में छपी रिपोर्ट के मुताबिक आज लंदन में एक प्रदर्शन भी आयोजित हुआ। जिसमें इंग्लैंड में रहने वाले बड़ी संख्या में तमिल समुदाय के लोगों ने हिस्सा लिया। वेदांता फ्वायल के बैनर तले हुए इस प्रदर्शन में लोग बेहद गुस्से में थे। उनका कहना था कि पर्यावरण और अपने साफ पानी के अधिकार के लिए भी प्रदर्शन करने पर अब गोली मिल रही है। इससे बड़ा मानवाधिकार का खुला उल्लंघन दूसरा कुछ नहीं हो सकता है।

 








Tagtuticorin protest london vedanta labour

Leave your comment