Subscribe for notification

जन्मदिन पर विशेषः अदाकारी के स्कूल दिलीप कुमार

अदाकारी के अजीमुश्शान बादशाह दिलीप कुमार 11 दिसंबर को अट्ठानबे साल के हो गए। जीते जी उनका लीजेंड का मर्तबा है। वे न सिर्फ लाखों दिलों को जीतने वाले शानदार अदाकार हैं, बल्कि अपनी अदाकारी से उन्होंने दिलों को जोड़ा भी है। फिल्में छोड़े उन्हें दो दशक हो गए, लेकिन उनकी अदाकारी का जादू आज भी उनके चाहने वालों के सिर चढ़कर बोलता है। अपने महबूब अदाकार की उन्हें हर अदा सुहानी लगती है। दिलीप कुमार ने किसी अदाकारी के स्कूल में ट्रेनिंग नहीं ली, लेकिन अदाकारी का अपना एक ऐसा जुदा तरीका ईजाद किया, जिसे मैथड एक्टिंग कहते हैं। उनकी अदाकारी का यह अंदाज पूरे देश-दुनिया में खूब पसंद किया गया। भारतीय सिनेमा में उनके समकालीन से लेकर मौजूदा पीढ़ी तक के नायक-महानायक उन्हें अभिनय-कला के शिखर पुरुष के तौर पर देखते हैं और उनसे प्रेरणा लेते हैं।

एक दौर था, जब फिल्मों में एक्टिंग करना अच्छा नहीं माना जाता था, मगर दिलीप कुमार की शख्सियत के जादू ने अदाकारी को भी एक मोतबर फन बना दिया। ये उनकी अदाकारी का ही करिश्मा है कि वे फिल्मी दुनिया में ट्रेजडी किंग यानी शहंशाहे-जज्बात के तौर पर मशहूर हुए। दिलीप कुमार, नेहरू पीरियड के हीरो थे। उनकी 57 फिल्मों में से 36 फिल्में ऐसी हैं, जो साल 1947 से 1964 के दरमियान बनी थीं। ‘शहीद’, ‘मेला’, ‘नया दौर’, ‘पैगाम’ ‘मुगल-ए-आजम’, ‘गंगा जमुना’ और ‘लीडर’ जैसी फिल्मों ने दिलीप कुमार को नेहरू-दौर के मसलों और नौजवानों के जज्बात का तर्जुमान बना दिया।

दिलीप कुमार ने अपने साठ साल के फिल्मी करियर में बमुश्किल साठ फिल्में ही की होंगी, लेकिन इन फिल्मों में भी ज्यादातर ऐसी हैं, जिनमें उनकी अदाकारी को लोग बरसों तक याद रखेंगे। उन्हें कोई भुला नहीं पाएगा। उनकी कामयाब और बॉक्स ऑफिस पर हिट होने वाली फिल्मों की एक लंबी फेहरिस्त है।

दिलीप कुमार का फिल्मों में अदाकारी का सिलसिला साल 1944 में आई फिल्म ‘ज्वार भाटा’ से शुरू हुआ और तीन साल के छोटे से वक्फे में उन्होंने अपनी पहली कामयाब फिल्म ‘जुगनू’ दे दी। इसके बाद का दौर, दिलीप कुमार की कामयाबी का दौर है। पूरे दो दशक तक लगातार उन्होंने बॉक्स ऑफिस पर राज किया। एक के बाद एक उन्होंने कई सुपर हिट फिल्में ‘मेला’, ‘शहीद’ (साल-1948), ‘अंदाज’ (साल-1949), ‘दीदार’ (साल-1951), ‘आन’, ‘दाग’ (साल-1952), ‘आजाद’, ‘उड़न खटोला’, ‘देवदास’ (साल-1955), ‘नया दौर’ (साल-1957), ‘मधुमति’, ‘यहूदी’ (साल-1958), ‘पैगाम’ (साल-1959), ‘कोहेनूर’, ‘मुगल-ए-आजम’ (साल-1960), ‘गंगा जमुना’ (साल-1961), ‘लीडर’ (साल-1964), ‘दिल दिया दर्द लिया’ (साल-1966), ‘राम और श्याम’ (साल-1967) दीं।

सातवें दशक में उनकी रफ्तार कुछ कम हुई, लेकिन बीच-बीच में बतौर चरित्र अभिनेता वे फिल्मों में आते रहे। इन फिल्मों में ‘क्रांति’ (साल-1981), ‘शक्ति’, ‘विधाता’ (साल-1982), ‘मशाल’ (साल-1984), ‘कर्मा’ (साल-1986) और ‘सौदागर’ (साल-1991) आदि बेहद कामयाब हुईं। फिल्मों से दिलीप कुमार का सक्रिय ताल्लुक साल 1991 तक रहा। बाद में सियासी मसरुफियत और अपनी बढ़ती उम्र को मद्देनजर रखते हुए, उन्होंने फिल्मों से पूरी तरह किनारा कर लिया।

अविभाजित भारत के नॉर्थ-वेस्ट फ्रंटियर प्रोविंस के अहम शहर पेशावर में एक पठान परिवार में 11 दिसंबर, 1922 को जन्मे यूसुफ खान ने कभी ख्वाब में भी नहीं सोचा था कि वे एक दिन एक्टर दिलीप कुमार बनेंगे, क्योंकि उनका ऐसा कोई फिल्मी बैकग्राउंड नहीं था। उनके अब्बा मोहम्मद सरवर खान बंबई में क्रॉफर्ड मार्केट में फलों के थोक व्यापारी थे। बचपन में एक फकीर ने जरूर उनके बारे में यह भविष्यवाणी की थी, ‘‘यह बच्चा बहुत मशहूर होने और गैर-मामूली ऊंचाइयों पर पहुंचने के लिए पैदा हुआ है।’’

बहरहाल उनके परिवार के पेशावर से बंबई शिफ्ट हो जाने के बाद यह बात आई-गई हो गई। माटुंगा के खालसा कॉलेज से दिलीप कुमार ने ग्रेजुएशन किया। कॉलेज में उनकी मुलाकात राज कपूर से हुई, जो जल्द ही अच्छी दोस्ती में बदल गई। दिलीप कुमार की डैशिंग पर्सनाल्टी देखकर अक्सर राज कपूर उनसे यह बात कहा करते थे, ‘‘तुसीं एक्टर बन जाओ! तुसीं हो बड़े हैंडसम!’’ लेकिन दिलीप कुमार, राज कपूर की इस बात को कभी गंभीरता से नहीं लेते थे। वे सोचते, एक्टिंग! न बाबा न यह उनके बस की बात नहीं!

राज कपूर और उनके परिवार का शुरू से ही करीबी रिश्ता था। राज के दादा बशेशरनाथ से उनके अब्बा का तआल्लुक पेशावर से ही था, जो बंबई में भी जारी रहा। ग्रेजुएशन के बाद दिलीप कुमार एक छोटी सी नौकरी की तलाश में थे, ताकि अपने बड़े परिवार का खर्चा उठाने में अपने अब्बा का सहारा बन सकें, लेकिन उनकी किस्मत में कुछ और ही मंजूर था, जो उन्हें बॉम्बे टॉकीज खींच ले गई और अदाकारा देविका रानी ने उन्हें फिल्म ‘ज्वार भाटा’ के लिए हीरो चुन लिया। परिवार के उसूलों के खिलाफ फिल्मों में काम करना यूसुफ खान के लिए नया था, देविका रानी ने उन्हें नया नाम भी दे दिया। कुमुदलाल गांगुली यानी अशोक कुमार की तर्ज पर यूसुफ खान, दिलीप कुमार हो गए। पहली फिल्म ‘ज्वार भाटा’ ने भले ही कोई कमाल नहीं किया हो, लेकिन आगे चलकर उनकी कई बाकमाल, बेमिसाल फिल्में आईं।

बॉम्बे टॉकीज में नौकरी के दौरान दिलीप कुमार की मुलाकात जाने माने अभिनेता अशोक कुमार, निर्माता-निर्देशक एस मुखर्जी, अमिय चक्रवती से हुई, जिनसे उन्होंने अदाकारी के बारे में बहुत कुछ सीखा। सीनियरों की सीख और अपने तजुर्बे से वे इस नतीजे पर पहुंचे, ‘एक्टर को अपने इंस्टिंक्ट (सहज बुद्धि) को मजबूत करना चाहिए, क्योंकि असली और नकली के दोहरेपन को दिमाग से नहीं सुलझाया जा सकता। सिर्फ आपके इंस्टिंक्ट्स ही आपको स्क्रीनप्ले की भावनाओं को अपने दिलोदिमाग में उतारकर ऐसा अभिनय करने की प्रेरणा देते हैं, जो सच्चाई और विश्वसनीयता में लिपटा हुआ हो-इस जानकारी के बावजूद कि यह सब नकली है, नाटक है!’

फिल्में ही दिलीप कुमार के अभिनय की पाठशाला रहीं। जैसे-जैसे उन्होंने फिल्में की, अपने अभिनय में सुधार किया। अदाकारी में कुछ ऐसी नई भाव-भंगिमाएं ईजाद कीं कि उनके नक्शे कदम पर आज भी कई अदाकार चल रहे हैं। उनकी अदाकारी, दिलीप कुमार स्कूल के तौर पर मशहूर हो गई। दिलीप कुमार खुशकिस्मत रहे कि उन्हें देविका रानी, नितिन बोस, एसयू सन्नी, महबूब खान, के आसिफ, रमेश सहगल, बिमल रॉय, बीआर चोपड़ा जैसे गुणीजनों के साथ फिल्म करने का मौका मिला। जो खुद भी बेहद प्रतिभाशाली थे।

दिलीप कुमार जब फिल्मों में आए, तब फिल्मों में अदाकार काफी लाउड और नाटकीय अभिनय करते थे। ‘पारसी थियेटर’ का फिल्मों पर असर बाकी था। दिलीप कुमार हिंदी सिनेमा के उन अभिनेताओं में से एक हैं, जिन्होंने इस परिपाटी को तोड़ा। फिल्मों में उन्होंने बड़े ही सयंत तरीके से अपने किरदारों को निभाया। वे बड़े आहिस्तगी से अपने संवाद बोला करते थे। डायलॉग के बीच में उनकी लंबी चुप्पी, जानबूझकर चुप रह जाने की अदा दर्शकों को काफी पसंद आती थी। दिलीप कुमार ने फिल्मों में जो भी किरदार निभाए, डूब कर किए।

फिल्म ‘देवदास’ का गमगीन नौजवान ‘देवदास’, ‘गंगा जमुना’ का बगावती तेवर वाला ‘गंगा’, ‘नया दौर’ का जुझारू ग्रामीण शंकर, ‘मुगल-ए-आजम’ में मुगल शहजादा ‘सलीम’, ‘आदमी’ का जज्बाती नौजवान ‘राजा’ जैसे किरदार उनसे बेहतर कौन निभा सकता था। ट्रेजेडी हीरो का रोल हो, रोमांटिक हीरो या फिर एंटी हीरो का किरदार, वे हर किरदार में जान डाल देते थे। खामोशी की आवाज और अपनी आंखों के अभिनय से उन्होंने फिल्मों में कई बार यादगार एक्टिंग की है। उनके अंदर एक्टिंग में टाइमिंग की जबर्दस्त समझ थी। यही नहीं अदाकारी में वे बेहद परफेक्शनिस्ट थे।

फिल्म ‘कोहिनूर’ में ‘मधुबन में राधिका नाचे रे’ गाने में सितार बजाने के लिए, उन्होंने उस्ताद अब्दुल हालिम जाफर खान साहब से महीनों सितार बजाना इसलिए सीखा कि वे सितार बजाते हुए स्वाभाविक दिखें। अदाकारी में ऐसा समर्पण बहुत कम दिखाई देता है। जब तक वे खुद अपनी अदाकारी से पूरी तरह मुतमइन न हो जाते, एक के बाद एक टेक देते चले जाते थे। ‘फुटपाथ’, ‘तराना’, ‘देवदास’, ‘मेला’ आदि फिल्मों में निराश प्रेमी से लेकर ‘आजाद’, ‘कोहिनूर’, ‘राम और श्याम’ आदि फिल्मों में उन्होंने गजब की कॉमेडी की है।

दिलीप कुमार ने जो भी फिल्में की, उसमें अपनी ओर से हमेशा यह कोशिश की कि इन फिल्मों में ऐसी कहानी हो, जिसमें अवाम के लिए एक बेहतर पैगाम हो। मनोरंजन के अलावा वे फिल्मों से कुछ सीखकर अपने घर जाएं। अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, ‘‘मैंने इस बात की भरपूर कोशिश की है कि मैं एक अच्छा रोल मॉडल बनूं। मैं इस बात से पूरी तरह यकीन करता हूं कि एक कलाकार को अपने सामाजिक उत्तरदायित्वों की जानकारी होनी चाहिए और उसे इसके प्रति सजग होना चाहिए। उसे अपने प्रशंसकों के चरित्र-निर्माण का ध्यान रखना चाहिए। जो उसके काम और शख्सियत से प्रेरणा लेते हैं।’’

दिलीप कुमार की कोई भी फिल्म उठाकर देख लीजिए, इनमें उनका यह उद्देश्य ओझल होता नहीं दिखाई देगा। ‘गंगा जमुना’ वह फिल्म थी, जिसमें दिलीप कुमार ने अदाकारी करने के अलावा इस फिल्म का निर्देशन और स्क्रिप्ट लिखी। अलबत्ता फिल्म में निर्देशक के तौर पर नितिन बोस का नाम था। भोजपुरी जुबान के बावजूद यह फिल्म सुपर हिट साबित हुई। कार्लोवी वैरी, चेकोस्लोवाकिया, बोस्टन और कैरो आदि अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सवों में यह फिल्म दिखाई गई और इसे खूब पसंद किया गया। साल 1974 में आई ‘सगीना’, दिलीप कुमार की एक ऐसी फिल्म है, जो लीक से हटकर थी। इस फिल्म में निर्देशक तपन सिन्हा ने सर्वहारा मजदूर आंदोलन को दिखलाया था।

फिल्मी दुनिया में दिलीप कुमार अकेले ऐसे अदाकार हैं, जिनकी अदाकारी ने अदीबों और दानिश्वरों को भी मुतास्सिर किया था। यहां तक कि सियासी लीडर भी उन्हें चाहते हैं। कौन नहीं उनकी अदाओं और अदाकारी का दीवाना था? वे जीते जी एक लीजेंड बने रहे। दिलीप कुमार की अदाकारी के दौर में उनके बारे में कई किदवंतियां प्रचलित थीं। मशहूर अफसानानिगार कृश्न चंदर ने अपने एक लेख ‘फिल्मों की आबरू: दिलीप कुमार’ में उनकी अदाकारी के बारे में लिखा था, ‘‘दिलीप कुमार का अपना रंग है, जुदा लहजा है। मख्सूस (विशेष) तर्जे-अदा है। दिलीप कुमार की अदाकारी की सत्ह आलमी सत्ह की है। यूं तो दिलीप ने तरबिया (सुखांत) अदाकारी में भी अपने जौहर दिखाए हैं, लेकिन हुज्निया और अल्मीया (दुखांत) अदाकारी में दिलीप ने एक क्लासिक का दर्जा इख्तियार कर लिया है। इस मैदान में कोई उसे छू नहीं सका।’’

कृश्न चंदर की यह बात सोलह आने सही भी है। जिन लोगों का दिलीप कुमार की एक्टिंग से जरा सा भी तआरुफ है, वे उनकी इस बात से पूरी तरह इत्तेफाक रखते हैं। नज्म निगार और ड्रामानिगार नियाज हैदर भी दिलीप कुमार की अदाकारी के दीवाने थे। अपने लेख ‘फिल्मी सल्तनत का मुगले-आजम’ में दिलीप कुमार की अदाकारी के फन की तारीफ करते हुए उन्होंने लिखा था, ‘‘दिलीप कुमार की किरदार निगारी ने नई नस्ल के लिए एक बड़ा वरसा (धरोहर) जमा कर दिया है। दिलीप कुमार की अदाकारी एक मक्तब (स्कूल) है, जिससे नई नस्ल के अदाकारों को हमेशा फैज पहुंचता रहा है और आइंदा भी वह मुस्तफीद (लाभान्वित) होते रहेंगे।’’

औरों को छोड़ दें, देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू खुद, दिलीप कुमार की अदाकारी के बड़े मुरीद थे। वहीं दिलीप कुमार की नजरों में भी नेहरू के लिए बहुत एहतराम था। वे उनकी बहुत इज्जत किया करते थे। पं. नेहरू के विचारों से वे बेहद मुतास्सिर थे। नेहरू के एक इशारे पर वे उनके साथ खड़े हो जाते थे। साल 1962 के लोकसभा चुनाव में जब पं. नेहरू ने उनसे वीके कृष्ण मेनन के चुनाव प्रचार के लिए कहा, तो वे इंकार नहीं कर सके। दिलीप कुमार की धुआंधार चुनावी सभाओं का नतीजा था कि वीके कृष्ण मेनन ने जेबी कृपलानी को चुनाव में मात दे दी। इसके बाद वे कांग्रेस पाटी से आगे भी जुड़े रहे।

दिलीप कुमार के लिए सियासत में हिस्सेदारी का मतलब इंसानियत और अवाम की खिदमत था और उन्हें यह बेहद पसंद था। जब भी देश में भूकंप, बाढ़ या अकाल जैसी आपदाएं आती, तो वे उसके लिए सरकारी राहत कोष के लिए चंदा इकट्ठा करने की मुहिम में लग जाते, लेकिन सक्रिय राजनीति से दूर ही रहे। रजनी पटेल और शरद पवार जो उनके अच्छे दोस्त थे, के इसरार पर उन्होंने बंबई का शेरिफ बनना मंजूर किया। आगे चलकर वे महाराष्ट्र से राज्यसभा के मेंबर भी बने। राज्यसभा मेंबर के तौर पर उन्होंने मुंबई में काफी काम किया। स्वास्थ्य, शिक्षा और बुनियादी कामों को पूरा कराने के लिए हमेशा पेश-पेश रहे। वे नेशनल ब्लाइंड एसोसिएशन के कई सालों तक अध्यक्ष रहे और इसके लिए हर साल चंदा इकट्ठा करते थे। ताकि दिव्यांगजनों को मदद हो सके।

अदाकारी के अलावा दिलीप कुमार के जो शौक रहे हैं, उनसे मालूम चलता है कि उनका ज़ौक कितना अच्छा था। मिसाल के तौर पर उन्हें बचपन से ही पढ़ने का बहुत शौक रहा है। उर्दू, फारसी और अंग्रेजी अदब की खूब किताबें उन्होंने पढ़ी हैं। यूजीन ओ नील, फ्योदोर दास्तोव्यस्की और टेनिसन विलियम्स उनके पसंदीदा लेखक रहे हैं। वहीं उम्दा शायरी, क्लासिकल म्यूजिक, डांस आदि में भी उनकी दिलचस्पी रही है। अपने फन को बेहतर बनाने के लिए उन्होंने कई जुबानें सीखीं। चाहे अपनी अदाकारी हो या फिर उनका सार्वजनिक जीवन दिलीप कुमार ने हमेशा भारतीय जीवन मूल्यों, बहुलतावादी चरित्र की देश-दुनिया में नुमाइंदगी की। धर्म-निरपेक्षता और समाजवाद में उनका गहरा यकीन है।

दुनिया भर के सभी धर्मों, जातियों, समुदायों और नस्लों को वे एहतराम की नजर से देखते हैं। कभी किसी में उन्होंने भेद नहीं किया। फिल्मी दुनिया में दिलीप कुमार पहले ऐसे अदाकार हैं, जिन्होंने अपने समकालीनों और बाद की पीढ़ी के अदाकारों को यह राह दिखलाई कि अपने स्टारडम का इस्तेमाल, राष्ट्रीय संकट के दौर में सरकार के राहत कोष के लिए चंदा इकट्ठा करना कोई गलत काम नहीं। यह उनकी सामाजिक जिम्मेदारी है। जिस समाज ने उनको बहुत कुछ दिया, उन्हें ऊंचे मुकाम पर पहुंचाया, मौका आने पर उसको कुछ लौटाने का। जब भी देश को जरूरत पड़ी, उन्होंने जुलूसों, बेनिफिट मैचों और शो के जरिए चंदा इकट्ठा किया। मुंबई में फिल्म इंडस्ट्री के लिए फिल्म सिटी और नेहरू सेंटर उन्हीं की कोशिशों से मुमकिन हुआ।

फिल्मों में अदाकारी और समाजी, सियासी खिदमत के लिए दिलीप कुमार कई पुरस्कार-सम्मान से नवाजे गए। उन्हें फिल्म ‘दाग’ (साल-1953), ‘आजाद’ (साल-1955), ‘देवदास’ (साल-1956), ‘नया दौर’ (साल-1957), ‘कोहिनूर’ (साल-1960), ‘लीडर’ (साल-1964), ‘राम और श्याम’ (साल-1967) और ‘शक्ति’ (साल-1982) के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का आठ बार फिल्मफेयर अवार्ड मिला। साल 1995 में वे ‘दादासाहेब फाल्के सम्मान’, साल 1997 में ‘एनटी रामाराव पुरस्कार’, साल 1998 में रामनाथ गोयनका पुरस्कार और साल 2000 में ‘राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार’ से सम्मानित किए गए। भारत सरकार के बड़े नागरिक सम्मानों में से एक ‘पद्मभूषण’ और ‘पद्म विभूषण’ के अलावा साल 1998 में पाकिस्तान सरकार ने उन्हें अपने सबसे बड़े नागरिक सम्मान ‘निशान-ए-इम्तियाज’ से सम्मानित किया।

जब इस सम्मान का एलान हुआ, तो शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे ने यह फतवा जारी कर दिया कि दिलीप कुमार को यह सम्मान नहीं लेना चाहिए। यहां तक कि उनकी वतनपरस्ती पर भी सवाल उठाए गए। तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सलाह पर दिलीप कुमार ने यह पुरस्कार स्वीकार किया।

सच बात तो यह है कि भारतीय सिनेमा, राजनीति और समाज सेवा के क्षेत्र में दिलीप कुमार के जो बेमिसाल काम हैं, कोई भी पुरस्कार-सम्मान उनके लिए छोटा है। उनके नाम के आगे लगकर, कोई भी पुरस्कार-सम्मान बड़ा मर्तबा पाता है। दिलीप कुमार जैसी शख्सियत सदियों में एक बार पैदा होती हैं। अल्लामा इकबाल का यह शाहकार शेर, शायद उन जैसी आला शख्सियतों के लिए ही लिखा गया है,
हजारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा

(मध्य प्रदेश निवासी लेखक-पत्रकार जाहिद खान, ‘आजाद हिंदुस्तान में मुसलमान’ और ‘तरक्कीपसंद तहरीक के हमसफर’ समेत पांच किताबों के लेखक हैं।)

Donate to Janchowk!
Independent journalism that speaks truth to power and is free of corporate and political control is possible only when people contribute towards the same. Please consider donating in support of this endeavour to fight misinformation and disinformation.

Donate Now

To make an instant donation, click on the "Donate Now" button above. For information regarding donation via Bank Transfer/Cheque/DD, click here.

This post was last modified on December 11, 2020 7:48 pm

Share