Thursday, January 27, 2022

Add News

‘गब्बर’ की प्रेम कहानी

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

ज़करिया खान मूलतः पेशावर जिले से आए एक खूबसूरत पश्तून मर्द थे और भारतीय फिल्मों में अभिनय करते थे। स्क्रीन पर उन्हें जयंत नाम दिया गया था। बंबई में बांद्रा की जिस सोसायटी में रहते थे, वहीं उर्दू के मशहूर शायर अख्तर-उल ईमान भी रहा करते थे। उत्तर प्रदेश के बिजनौर से ताल्लुक रखने वाले अख्तर-उल-ईमान को ‘वक़्त’ और ‘धर्मपुत्र’ जैसी फिल्मों का स्क्रीनप्ले लिखने के लिए फिल्मफेयर अवार्ड मिल चुके थे। सन 1966 में उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार भी हासिल हुआ था।

ज़करिया खान के बेटे अमजद खान बीए कर रहे थे, जबकि चौदह बरस की अख्तर-उल-ईमान की बेटी शहला स्कूल जाती थीं। शहला जानती थीं कि अमजद के पिता फिल्म अभिनेता थे। आस-पड़ोस में अमजद की पहचान एक गंभीर और भले लड़के की बनी हुई थी। शहला को अमजद का आत्मविश्वास भला लगता था। कभी-कभी इत्तेफाकन ऐसा होता कि सोसायटी के बैडमिंटन कोर्ट पर दोनों साथ खेला करते।

एक दिन शहला ने अमजद को ‘अमजद भाई’ कह कर संबोधित किया। अमजद ने उसे हिदायत दी कि आइंदा उसे भाई न पुकारा करे। फिर एक दिन अमजद ने शहला से पूछा, “तुम्हें पता है तुम्हारे नाम का क्या मतलब होता है? इसका मतलब होता है गहरी आंखों वाली।” फिर कहा, “जल्दी से बड़ी हो जाओ, क्योंकि मैं तुमसे शादी करने जा रहा हूं।”

कुछ दिनों बाद अख्तर-उल-ईमान के पास बाकायदा शादी का प्रस्ताव पहुंच गया। ईमान साहब ने साफ़ मना कर दिया, क्योंकि शहला अभी छोटी थीं। अमजद खान गुस्से में पागल हो गए और उसी शाम शहला से बोले, “तुम्हारे बाप ने मेरी पेशकश ठुकरा दी! अगर यह मेरे गांव में हुआ होता तो मेरे परिवार वाले तुम्हारी तीन पीढ़ियों को नेस्तनाबूद कर देते।”

अख्तर-उल-ईमान अपनी बेटी को अच्छे से पढ़ाना लिखाना चाहते थे, जिसके लिए उसे अमजद खान की आशिकी की लपटों से दूर रखा जाना जरूरी था। शहला को आगे की पढ़ाई के लिए अलीगढ़ भेज दिया गया। शहला जितने दिन भी अलीगढ़ में रहीं अमजद ने रोज उसे एक चिठ्ठी भेजी। शहला भी उसे जवाब लिखा करती थीं। फिर यूं हुआ कि शहला बीमार पड़ीं और उन्हें वापस बंबई आना पड़ा।

अमजद को पता था कि शहला को चिप्स अच्छे लगते थे, तो शहला को हर रोज चिप्स के पैकेट मिलने लगे। दोस्ती बढ़ी तो दोनों ने एक एडल्ट फिल्म ‘मोमेंट टू मोमेंट’ भी साथ देखी। फिर अमजद के मां-बाप की तरफ से शादी का प्रस्ताव गया तो अख्तर-उल-ईमान मान गए। 1972 में उनकी शादी हुई। अगले साल जिस दिन उन्हें ‘शोले’ ऑफर हुई उसी दिन उनका बेटा शादाब पैदा हुआ।

‘शोले’ की सफलता ने दोनों की जिंदगी बदल डाली। फिल्म के रिलीज के कुछ दिन बाद दोनों एक दफा हैदराबाद पहुंचे। एयरपोर्ट से अमजद को पिक करने के लिए पुलिस की जीप आई। रोड के दोनों तरफ लोगों की भीड़ थी। शहला ने अमजद से पूछा, “क्या ये लोग तुम्हारे आने के इंतजार में खड़े हैं?” अमजद ने सपाट चेहरा बनाते हुए कहा, “हां! कालिदास की बीवी भी अपने पति को बेवकूफ ही समझती थी।”

27 जुलाई 1992 को दुनिया से चले जाने से पहले अमजद को कुल 51 साल का जीवन मिला, और शहला को उनका कुल बीस बरस का साथ।

इस प्रेम कहानी की एक जरूरी डीटेल तो मुझसे छूट ही गई। जब शहला अपनी पढ़ाई अधूरी छोड़ कर अलीगढ़ से बंबई आईं थीं तो उन्हें अमजद ने फारसी का ट्यूशन पढ़ाया था। पढ़ाई-लिखाई में बढ़िया रेकॉर्ड रखने वाले ‘गब्बर’ को फारसी भाषा में फर्स्ट क्लास फर्स्ट मास्टर्स डिग्री हासिल थी।

  • अशोक पांडे

(लेखक मशहूर यायावर, अद्भुत गद्यकार, अनुवादक और कवि हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

बहु आयामी गरीबी के आईने में उत्तर-प्रदेश

उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाना है- ऐसा योगी सरकार का संकल्प है। उनका संकल्प है कि विकास के...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This