Tuesday, September 27, 2022

हबीब तनवीर जन्म शताब्दीः आम जन और जनसरोकार के लिए प्रतिबद्ध रंगकर्मी 

ज़रूर पढ़े

प्रख्यात नाट्यकार, निर्देशक, अभिनेता हबीब तनवीर का यह जन्म शताब्दी वर्ष है। उनका जन्म 1 सितंबर, 1923 को रायपुर, छत्तीसगढ़ में हुआ था। हबीब तनवीर के पिता हफीज अहमद खान पेशावर (पाकिस्तान) के रहने वाले थे। हबीब तनवीर ने स्कूली शिक्षा रायपुर में पूरी की। इसके पश्चात नागपुर विश्वविद्यालय से 1944 में स्नातक और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से एमए किया। फिर वे मुंबई चले गए। वहां उनका जुड़ाव इप्टा और प्रगतिशील लेखक संघ से हुआ। बम्बई में बतौर प्रोड्यूसर वह ऑल इंडिया रेडियो से भी जुड़े। कविताएं लिखीं, फिल्मों में अभिनय भी किया। जब अंग्रेजों के विरोध में इप्टा से जुड़े प्रमुख रंगकर्मी जेल चले गए थे तब हबीब तनवीर ने इप्टा की जिम्मेदारी भी संभाली। 

भारतीय रंगमंच की कोई भी चर्चा हबीब तनवीर के बिना अधूरी ही रहेगी, हबीब तनवीर पर चर्चा का मतलब रंगमंच की कई शैलियों, अभिव्यक्तियों, अस्मिताओं के साथ ही लोकाचार इत्यादि पर एक साथ बात करना है। सच तो यह है कि हबीब तनवीर के रंगकर्म और व्यक्तित्व के इतने पहलू हैं कि सब को समेट पाना नामुमकिन है ।उनका व्यक्तित्व किसी नाटक के अभिनेता की विभिन्न भूमिकाओं की तरह ही दिलचस्प है। विश्व थियेटर के ज़बरदस्त जानकार होने के बाद भी उन्होंने लोक में अपनी शैली तलाशी, सिनेमा के मोहपाश में नहीं बंधे, लगातार ग्रामीण कलाकारों के साथ काम किया।

 1954 में हबीब तनवीर दिल्ली आ गए। इसी साल उन्होंने अपना ऐतिहासिक नाटक ‘आगरा बाजार’ लिखा और खेला जिसने सबका ध्यान खींचा। ‘आगरा बाजार’ भारतीय रंग जगत में एक क्रांतिकारी अध्याय माना जाता है। इसके बाद हबीब साहब 1955 में इंग्लैंड चले गए और ‘रॉयल अकैडमी आफ ड्रैमेटिक आर्ट्स’ में ट्रेनिंग ली वहीं ‘ब्रिस्टल ओल्ड विक थिएटर स्कूल’ में निर्देशन करते हुए लगभग तीन साल तक रंगमंच और उसकी बारीकियों को समझा और यूरोप के थिएटर को नजदीकी से जाना। वे लगभग 8 महीनों तक बर्लिन में भी रहे जहां उन्होनें बर्टोल्ट ब्रेख्त के विभिन्न नाटक देखे। 

1959 में हबीब तनबीर ने अपनी रंगकर्मी पत्नी मोनिका मिश्रा के साथ मिलकर नया थिएटर नाम से एक नाट्य ग्रुप बनाया और जीवन पर्यन्त इसी संस्था के बैनर तले रंगकर्म करते रहे । उन्होंने छत्तीसगढ़ के लोक नृत्यों, गीतों, संगीत एवं लोक कथाओं का हिंदी नाटकों में पहली बार प्रयोग कर आधुनिक रंगमंच को नए आयाम दिए। उन्होंने रंगमंच को सामाजिक एवं राजनीतिक सरोकार और जिम्मेदारियों से संबद्ध किया साथ ही बहुत ही कम खर्च में होने वाले लोक परंपराओं पर आधारित नाटक पर बल दिया। शुरुआती दौर में इप्टा से जुड़ाव के कारण वामपंथ का उन पर पूरा असर था, जो अंत तक बना रहा इसी के चलते उनके नाटकों में यथार्थ हमेशा अधिक मुखर रहा। उन्हें कई बार आलोचना, विरोध के अलावा कट्टरपंथियों के हमले तक झेलने पड़े ।

हबीब तनवीर के लिए नाटक खुराक और रंगमंच उनका घर था। उन्होंने रंगमंच को आम आदमी के लिए खेला ,खोला, और रंगमंच पर आम लोगों की भागीदारी सुनिश्चित की। उन्होंने अपने नाटकों के लिए लोक की समृद्ध परम्परा को माध्यम बनाया। उन्होंने थिएटर को एक नई दिशा व अर्थ दिए। बुर्जुआई थिएटर परम्परा को जनसुलभ व जनवादी स्वरूप प्रदान किया । उन्होंने उस दौर में उच्च व मध्यवर्गीय प्रवृत्ति और बंद रंगशालाओं के लिए हो रहे बुर्जुआ रंगकर्म को चुनौती देते हुए उसे लोक का व्यापक संदर्भ दिया ।अपने रंगकर्म के ज़रिए उन्होंने इस धारणा की पुष्टि की कि जो लोकल है वही ग्लोबल भी हो सकता है । उनकी शैली और नाटक सभी दर्शक वर्ग द्वारा देखे व सराहे गए।

सबसे महत्वपूर्ण यह है कि लोकप्रेमी रंगकर्मी हबीब तनवीर ने अपने नाटकों की ‘लोक’ की पृष्ठभूमि को प्रयोगधर्मिता के नाम पर विद्रूप नहीं होने दिया, बल्कि अधिक सार्थक एवं प्रभावशाली रूप में प्रस्तुत करने की कोशिश की और काफी हद तक सफल भी रहे। भारतीय नाट्य परंपरा में लोक को प्रतिष्ठित करने के जिन उद्यमों की हम सराहना करते आए हैं, हबीब तनवीर का सम्पूर्ण रंगकर्म आधुनिक नाट्य में उसका नेतृत्व करता रहा है। लोक’ उनके यहां हाशिए पर नहीं है, बल्कि उस पूरे नाट्य प्रदर्शन का मुख्य माध्यम होने के साथ ही पूरी लोक परम्परा का उदघोष है । इस कारण से तनवीर साहब का रंगकर्म केवल हिंदी का ही नहीं बल्कि संपूर्ण भारत का प्रतिनिधि रंगकर्म है जिसमें हमें भारतीय जन की आस्था भी दिखाई देती है तो आकांक्षा भी,संघर्ष भी दिखाई देता है तो सपना भी। 

हबीब तनवीर ने भारतीय रंगकर्म को देशज चेतना तथा संस्कारों के साथ-साथ जनबोली में विकसित व समृद्ध किया। हबीब साहब यह मानते थे कि भारतीय संस्कृति के केंद्र में ‘लोक’ ही है तथा ‘लोक’ के साथ जुड़कर ही सार्थक रंगमंच की तलाश पूरी हो सकेगी। इसीलिए अपनी बात को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए वह भारत के केंद्र में पहुंचते हैं, वे कहते थे कि “आज भी गांवों में भारत की नाट्य परंपरा अपने आदिम वैभव और समर्थता के साथ ज़िंदा है।उनके पास एक गहरी लोकपरंपरा है और इस परंपरा की निरंतरता आधुनिक रंगमंच के लिए आवश्यक है।”

हबीब साहब का मानना था, “हमें अपनी जड़ों तक गहरे जाना होगा और अपने रंगमंच की निजी शैली विकसित करनी होगी जो हमारी विशेष समस्याओं को सही तरीके से प्रतिबिंबित कर सके।” इसी आधार पर उन्होंने अपने प्रायः सभी नाटकों के माध्यम से नाटकों के पूर्वकालिक स्थापित मान्यताओं को खारिज किया और नए प्रयोगों व नए प्रतिमान गढ़ने के लिए ‘लोक’ में व्याप्त उस समृद्ध परम्परा व खजाने से रूबरू हुए जिसे आधुनिकता के नाम पर बुर्जुआ रंग प्रेमियों की दुनिया ने हाशिए पर डाल दिया था। ‘आगरा बाज़ार’ और ‘मिट्टी की गाड़ी’ से जिस नए प्रयोग व शैली की शुरुआत की हबीब साहब को उसका मुकम्मल आकार ‘गांव का नाम ससुराल, मोर नाम दामाद’ से मिला।‘चरनदास चोर’ के मंचन के पश्चात तो हबीब साहब के इस लोकरंग प्रधान नए शिल्प व रंग मंचन को दर्शकों की मान्यता ही मिल गई ।

इसके बाद तो हबीब साहब की यह शैली भारतीय नाट्य जगत के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय रंग जगत में प्रतिष्ठित हो गई ।लोक से ली गई यह परिष्कृत मंचन शैली संस्कृत, लोक और पाश्चात्य शैली का सफल मिश्रण था। चाहे ‘आगरा बाज़ार’ हो या ‘गांव का नाम ससुराल, मोर नाम दामाद’ हो या ‘चरनदास चोर’ अथवा‘हिरमा की अमर कहानी’,बहादुर कलारिन, देख रहे हैं नैन, कोई भी प्रस्तुति हो सभी में वे अपने समय तथा लोक के मूल्यों की स्थापना के लिए निरंतर प्रयत्न करते रहे साथ ही लोक कलाकरों को मुख्य धारा में लाने के प्रयास भी करते रहे थे। हबीब तनवीर के नाटक समकालीनता और भारतीय रंग परम्परा का धारदार मिश्रण रहे । उनके नाटकों में आधुनिकता की समझ एवं चेतना के साथ ही समकालीन परिस्थितियों से बहस भी बेबाकी से उपस्थित हुआ करती थी । 

गीत संगीत हबीब साहब के नाटकों की विशिष्ट पहचान रहे हैं । एक तरह से यह कह सकते हैं कि हबीब साहब ने ऐसी शैली तैयार की जिसमें रंगमंच पर नाट्य कर्म की सभी तरह की अभिव्यक्तियों को प्रभावशाली व सुरुचिपूर्ण तरीके से समाहित कर प्रस्तुत किया जा सके । इस मकसद में उनके नाटक के गीत काफ़ी असरदार सिद्ध हुए । उनके नाटक आगरा बाजार से लेकर चरनदास चोर,देख रहें हैं नैन, बहादुर कलारिन कामदेव का अपना, बसंत ऋतु का सपना,शाजापुर की शांतिबाई आदि लगभग सभी नाटकों के गीत इसके उदाहरण हैं और ये  आज भी उतने ही पसंद किये जाते हैं। हबीब साहब के नाटकों का रंगसंगीत अपने आप में एक अर्थपूर्ण विशिष्टता लिए हुए रहा करता था । हिन्दी रंगमंच के क्षेत्र में ऐसा रंग संगीत कम ही मिल पाता है । हबीब साहब दर्शकों के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते थे इसीलिए वे दर्शकों को टोटल थियेटर का आस्वाद प्रदान करने के लिए कटिबद्ध दिखाई पड़ते हैं। 

अलग राज्य बनने के बाद उन्हें छत्तीसगढ़ से बड़ी उम्मीदें और अपेक्षाएं थीं, मगर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्यातनाम इस अद्वितीय रंगकर्मी को अपने ही शहर व प्रदेश में बेरुखी व उपेक्षा का दंश झेलना पड़ा। उपेक्षा व अनदेखी से दुखी हबीब तनवीर खून का घूंट पीकर मध्यप्रदेश के भोपाल विस्थापित हो गए। विगत वर्षों में पिछली सरकारों द्वारा छत्तीसगढ़ में इस महान रंगकर्मी की लगातार उपेक्षा की जाती रही मगर रंगकर्मियों एवं रंगकर्म से जुड़े रंगप्रेमी एवं अनेक संस्थाएं उनकी स्मृति में हर वर्ष लगातार विभिन्न आयोजन करती रही हैं । यही उनकी उपलब्धि भी है कि वे अपने चाहने वालों के दिलों में एक प्रेरणा बनकर विशिष्ट स्थान बनाये हुए हैं ।

हबीब तनवीर ने थिएटर के साथ साथ टी वी सीरियल एवं बॉलीवुड की फिल्मों में भी अपने अभिनय की छाप छोड़ी ।उनको पद्म भूषण, पद्म श्री और संगीत नाटक अकादमी जैसे सम्मानों से नवाजा गया।सत्तर के दशक में वह राज्यसभा के सदस्य रहे । राज्यसभा के सदस्य बनने वाले दूसरे रंगकर्मी थे । उनसे पहले यह सम्मान पृथ्वी राज कपूर को मिला था।  

इस शताब्दी वर्ष में पूरे साल अनेक संस्थाओं द्वारा विभिन्न आयोजनों की शुरुआत उनके जन्म दिवस 1 सितंबर से की जा रही है। हमें इस बात का गर्व है कि वे हमारे रायपुर में जन्मे । वे सदा रंगकर्मियों व रंग दर्शकों के प्रेरणाश्रोत बने रहेंगे । 

(जीवेश चौबे लेखक और साहित्यकार हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के बीच टकराव का शिकार हो गया अटॉर्नी जनरल का ऑफिस    

 दिल्ली दरबार में खुला खेल फर्रुखाबादी चल रहा है,जो वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी के अटॉर्नी जनरल बनने से इनकार...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -