Subscribe for notification

स्पार्टाकसः गुलामों की सेना ने हिला दी थी रोम की चूलें

हावर्ड फॉस्ट के कालजयी उपन्यास स्पार्टाकस का हिंदी अनुवाद अमृत राय ने आदिविद्रोही शीर्षक से किया है। मैं इस अनुवाद को मानक मानता हूं। अच्छा अनुवाद वह है जो मौलिक सा ही मौलिक लगे। यह दास प्रथा पर आधारित रोमन सभ्यता के विरुद्ध, ग्लौडिएटर स्पार्टाकस के नेतृत्व में प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व दास विद्रोह की कहानी है, जिसे फॉस्ट के कथाशिल्प ने मुक्ति के मौजूदा संघर्षों के लिए प्रासंगिक ही नहीं प्रेरणादायी भी बना दिया है।

स्पार्टाकस के नेतृत्व में अनुमानतः 70,000-100,000 भागे हुए गुलामों की सेना चार साल तक रोम की सैन्य शक्ति को आतंकित किए हुए थी। रोम की कई शक्तिशाली टुकड़ियों को खत्म करके दक्षिण इटली को मुक्त करके रोम की मुक्ति के खतरों से हरामखोर नेता-व्यापारी-कुलीन त्राहि-त्राहि कर रहे थे। रोम की सैन्य शक्ति ने यद्यपि स्पार्टाकस की सेना को अंततः परास्त कर दिया, लेकिन उसने रोम की चूलें हिला दीं।

इतिहास की पुस्तकों से स्पार्टाकस के बारे में उड़ती-उड़ती जानकारियां ही मिलती हैं।  इनके समकालीनों के नोट्स से टुकड़ों में जानकारियों को जोड़ कर खाका तैयार किया जा सकता है। इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका में रोम तथा उसके शासकों की फेहरिस्त पर 100,000 शब्दों की प्रस्तुति में स्पार्टाकस के बारे में तीन वाक्य से काम चला लिया गया है। स्कूल-कॉलेज की इतिहास की किताबों से यह विद्रोह नदारद है।

यूरो-अमेरिकी लेखन में जो ज़िक्र मिलता भी है वह अत्यंत निंदात्मक है। इसे ‘सिफिरे’, ‘गुलामों’, ‘बटमारों’, ‘भगोड़ों’ और ‘बदहाल किसानों’ के परिस्थितिजन्य उभार के रूप में चित्रित किया गया है।

जिस रोमन जनरल के लश्कर को स्पार्टाकस की सेना ने पराजित किया था, हावर्ड फॉस्ट के उपन्यास में वह, कुलीन, सलरिया विल्ला में युद्ध के अनुभवों को याद करते हुए बताता है कि किस तरह सेनेट के आदेश पर उसने क्रांतिकारी गुलामों द्वारा विसुइयस की ढलान पर ज्वालामुखी के पत्थरों से बनी अनूठी कलाकृतियों को नष्ट किया।

“पूरी तरह नष्ट करने के बाद हमने उन्हें मिट्टी में मिला दिया, अब उसका कोई अवशेष नहीं बचा है। तो क्या हमने स्पार्टाकस तथा उसकी सेना को खत्म कर दिया। थोड़ा और समय लगेगा, और निश्चित ही हम उन सारी यादगारों को मिटा देंगे, जिससे पता चले कि उसने क्या और कैसे किया।”

इस धनी रोमन प्रेटर क्रास्सस की भविष्यवाणी लगभग पूरी तरह सही साबित हुई। हावर्ड फॉस्ट गुलामों के बहादुरीपूर्ण जंग-ए-आज़ादी की दास्तान को नई व्याख्या के साथ करके पुनर्जीवित करने के लिए कोटिशः साधुवाद के पात्र हैं। यह जंग-ए-आज़ादी बस कामयाबी से थोड़ा ही दूर रह गई, दुर्लभ उपलब्धि के बहुत करीब, यदि पूरी कामयाबी मिलती तो शायद यूरोप का इतिहास अलग होता, विकास का सामंती चरण शायद अनावश्यक हो जाता।

स्पार्टाकस की कहानी तो 2000 साल से अधिक पुरानी है, लेकिन हर रचना समकालिक होती है, महान रचनाएं कालजयी या सर्वकालिक बन जाती हैं। फॉस्ट की यह रचना भी समकालीन अंतरविरोधों की अभिव्यक्ति है। रोम के पतनशील, ऐयाश शासक वर्गों की अमानवीयता और गुलामों की सहजता और जीवट का जीवंत चित्रण मौजूदा वर्ग शत्रुओं और अंतरविरोधों की भी व्याख्या है। रोम के राजनीतिज्ञों में व्याप्त भ्रष्टाचार, यौनिक दुराचार, औरतों की अवमानना, युवाओं की लंपटता नवउदारवादी युग के धनपशुओं के आचरण से आसानी से मेल खाता वर्णन लगता है।

उपन्यास में एक तरफ ग्लैडियेटरों के खूनी जंग के तमाशे से परसंतापी सुख से मुदित होने वाले तरफ शासक वर्ग और उनके चाटुकारों का ‘राज्य के शत्रुओं’ को सामूहिक फांसी का उंमाद है; सार्वजनिक स्नानागारों की भव्यता तथा महलों की विलासिता तथा शाही पकवानों की विकराल सूची है और दूसरी तरफ अमानवीय उत्पीड़न के शिकार गुलाम हैं तथा जानलेवा गरीबी से त्रस्त शहरी गरीब हैं।

(लेखक दिल्ली यूनिवर्सिटी के रिटायर्ड प्रोफेसर हैं।)

Donate to Janchowk!
Independent journalism that speaks truth to power and is free of corporate and political control is possible only when people contribute towards the same. Please consider donating in support of this endeavour to fight misinformation and disinformation.

Donate Now

To make an instant donation, click on the "Donate Now" button above. For information regarding donation via Bank Transfer/Cheque/DD, click here.

This post was last modified on November 29, 2020 4:02 pm

Share