Friday, July 1, 2022

नौकरी से निकाले गए कोविड योद्धाओं ने मोदी सरकार को वापस किये ‘आसमान से बरसाए गए फूल’

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में स्वास्थ्य कर्मचारियों की छटनी के खिलाफ काफी रोष है। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही ‘कोविड योद्धाओं’ के ऊपर केंद्र सरकार ने आसमान से फूलों की वर्षा की थी। नौकरी से निकाले जाने से आक्रोशित कर्मचारियों ने आज जंतर-मंतर पर केंद्र सरकार को विरोध स्वरूप ‘फूल’ लौटाया और ये कहा कि उनकी नौकरियां उन्हें वापस दी जाएं। प्रदर्शन में लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, डॉक्टर राम मनोहर लोहिया अस्पताल, कलावती सरन बाल अस्पताल, राजकुमारी अमृत कौर कॉलेज ऑफ नर्सिंग आदि संस्थानों से निकाले गए कोविड योद्धाओं ने भागीदारी की।

गौरतलब है कि कोविड महामारी के दौरान देशभर में हुई भारी तबाही के सबसे बड़े कारणों में से हमारी स्वास्थ्य-व्यवस्था का जर्जर होना था। तब इन स्वास्थ्य संस्थाओं को सुचारू रूप से चलाने के लिए भारी संख्या में कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों की बहाली की गई थी। महामारी के भयंकर प्रकोप के दौरान, स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक सर्कुलर जारी कर 100 दिन की ‘कोविड ड्यूटी’ पूरा करने वाले कर्मचारियों को ‘पक्की नौकरी’ की बात कही थी। आज के प्रदर्शन में मौजूद सभी कर्मचारियों ने सौ दिन से कहीं ज़्यादा अवधि की नौकरी की है – परंतु पक्की नौकरी तो दूर, अब कोविड योद्धाओं की कॉन्ट्रैक्ट की नौकरी भी छीनी जा रही है।

ऐक्टू के राज्य सचिव सूर्य प्रकाश ने निकाले गए कोविड योद्धाओं को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे ऊपर फूल बरसाकर सरकार ने हमारी नौकरी छीन ली। ये मोदी सरकार द्वारा कर्मचारियों के साथ किया गया बहुत भद्दा मजाक है। डॉक्टर राम मनोहर लोहिया अस्पताल के अंदर, 12 से 17 वर्ष काम करने के बाद निकाले गए कर्मचारियों में शामिल पुष्पा ने अपनी बात रखते हुए बताया कि उन्हें केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण (CAT) से स्टे आर्डर मिलने के बावजूद काम से हटा दिया गया है।

लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में कोविड के दौरान जान जोखिम में डालकर मरीजों की सेवा करने वाली मंजू ने बताया कि उन्होंने ड्यूटी करते हुए हज़ारों लोगों की जान बचाई है। आज उनकी सेवा के बदले उन्हें काम से निकाल दिया गया है। राजकुमारी अमृत कौर कॉलेज ऑफ नर्सिंग के कर्मचारियों ने भी अपनी आपबीती रखते हुए, संघर्ष जारी रखने की बात कही। आज के प्रदर्शन में दिल्ली सरकार के अधीन आने वाले, लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल से निकाले गए कोविड योद्धाओं ने भी हिस्सा लिया।

आपको बता दें कि पिछले एक महीने से दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों के बाहर चल रहे प्रदर्शनों के बावजूद केंद्र सरकार कर्मचारियों की सुनने को तैयार नहीं है। ऐक्टू के अध्यक्ष संतोष रॉय ने प्रदर्शन की समाप्ति की घोषणा करते हुए, आंदोलन तेज करने की बात कही।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

हिन्दुत्व के सबसे सटीक व्याख्याकार निकले एकनाथ शिंदे 

कई बार ढेर सारी शास्त्रीय कोशिशें, कई ग्रन्थ, अनेक परिभाषाएं और उनकी अनेकानेक व्याख्यायें भी साफ़ साफ़ नहीं समझा...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This