Tuesday, October 19, 2021

Add News

राजनीति में अपराधियों की भागीदारी

ज़रूर पढ़े

विगत कुछ वर्षों में भारत में असहिष्णुता की प्रवृत्ति काफी बढ़ी है। अराजकतावाद के अनुसार कार्यस्वातंत्र्य जीवन का गत्यात्मक नियम है, और इसीलिए उसका मंतव्य है कि सामाजिक संगठन व्यक्तियों के कार्य स्वातंत्र्य के लिए अधिकतम अवसर प्रदान करें। मानवीय प्रकृति में आत्मनियमन की ऐसी शक्ति है जो वाह्य नियंत्रण से मुक्त रहने पर सहज ही सुव्यवस्था स्थापित कर सकती है। मनुष्य पर अनुशासन का आरोपण ही सामाजिक और नैतिक बुराइयों का जनक है। इसलिए हिंसा पर आश्रित राज्य तथा उसकी अन्य संस्थाएँ इन बुराइयों को दूर नहीं कर सकतीं। मनुष्य स्वभावत: अच्छा है, किंतु ये संस्थाएँ मनुष्य को भ्रष्ट कर देती हैं। वाह्य नियंत्रण से मुक्त, वास्तविक स्वतंत्रता का सहयोगी सामूहिक जीवन प्रमुख रीति से छोटे समूहों से संभव है; इसलिए सामाजिक संगठन का आदर्श रूप समूहों का आपसी समन्वय होता है। जनता जब शासन की अकर्मण्यता, कानूनहीनता और भ्रष्ट आचरण से त्रस्त हो जाती है तो उसकी और से यह प्रतिक्रिया होती है। अब अराजकता को भारत में प्रचलित अर्थों के सन्दर्भ में देखने पर पर कुछ अलग ही चित्र उभरता है।

उत्तरप्रदेश, बिहार तो राजनीति के अपराधीकरण के लिए बदनाम रहे हैं लेकिन दूसरे प्रदेशों में भी अपराधियों और राजनेताओं में परस्पर सहयोग के लिए रिश्ते मजबूत हुए हैं। वोट की राजनीति में चुनाव में ज्यादा से ज्यादा वोट पड़वाने के लिए राजनैतिक दल परोक्ष रूप से इलाकों के दबंगों और अपराधियों की मदद लेते रहे हैं, लेकिन अब जब इन असमाजिक तत्वों को अपनी ताकत का पता चला तो उन्होंने सीधे अपने राजनैतिक मित्रों की मदद से राजनीति में घुसपैठ बढ़ा दी। असल में ये लोग लोकतंत्र में बाहुबल और शक्ति को प्रतिष्ठित करने के लिए प्रविष्ट हुए। इन्हें तर्क, संवाद और बातचीत में कभी कोई आस्था नहीं रही। कांग्रेस और भाजपा जैसे दलों की विफलता यही है कि वे ऐसी अराजक ताकतों के साथ खड़े नजर आते हैं। सवाल यह है कि क्या देश का लोकतंत्र इन राजनैतिक दलों के हाथ में लोकतंत्र सुरक्षित है? क्या हमारे शासक इतने कमजोर हैं कि कोई व्यक्ति कानून और संविधान को चुनौती देता हुआ कभी विधानसभा, कभी मीडिया के दफ्तरों और कभी सड़कों पर आतंक बरपाता फिरे और हम अपनी वाचिक कुशलता से ही काम चला लें। क्या ये मामले सिर्फ निंदा या कड़ी भत्सर्ना से ही बंद हो सकते हैं। इन्हें भड़काने वाले लोंगों की जगह क्या जेल में नहीं है। अराजक सिर्फ एक दल ही नहीं है सभी इस राजनीतिक हमाम में वस्त्रहीन हैं।

प्रत्येक समय समाज में अनुकूल एवं विरोधी शक्तियां कार्यरत रहती हैं। वे कभी मनुष्य के कर्तव्य पालन में सहायक बनती हैं तो कभी विरोध में नजर आती हैं। इसलिए न्याय का एक रूप, संघर्ष भी है। समाज चाहता है कि वहां न्याय के लिए कभी कोई खतरा न हो। यानी न तो व्यक्ति किसी दूसरे के अधिकारों के लिए संकट का कारण बने, न ही कोई उसके अधिकारों के लिए संकट की जमीन तैयार करे। यह आदर्श स्थिति है। राजनीति इस स्थिति को स्वीकार करने से कतराती है। व्यवहार में समाज में संघर्ष की स्थितियां बनी रहती हैं जिसका लाभ राजनेता उठाते हैं। यूं तो राज, समाज किसी के लिए भी यह संभव नहीं होता कि वह चैबीस घंटे व्यक्ति के अधिकार-संरक्षण तथा कर्तव्यपालन में लगा रहे इसलिए व्यक्ति को अपने अधिकारों और अस्तित्व पर संकट के समय, आत्मरक्षा अथवा संपत्ति की सुरक्षा के लिए समयानुसार प्रतिकार करने की छूट दे दी जाती है। लेकिन अपने निहित स्वार्थों के लिए इस छूट का लाभ उठाना चतुराई है जो अनुचित है।

हम देखते हैं कि हमारे राजनेता अब इन स्थितियों से बहुत ऊपर उठ चुके हैं, अनैतिकता ही अब उनका जीवन मूल्य है। भारतीय लोकतंत्र का जो एक सर्वाधिक खतरनाक अराजक पहलू है वह यह कि अपराध और राजनीति का गठबंधन अपने चरम पर पहुँच चुका है। इसका सबूत यही है कि कुख्यात अपराधी अब सीधे राजनीति में शिखर तक पहुंचने लगे हैं और वे अपने दबंग सहयोगियों को भी राजनीति में प्रतिष्ठित करने लगे हैं, लेकिन किसी राजनैतिक दल को इसकी चिंता नहीं है। अकसर राजनीतिक दल सार्वजनिक मंच से मुनादी पीटते हैं कि राजनीति का अपराधीकरण लोकतंत्र के लिए घातक है। वे इसके खिलाफ कड़े कानून बनाने और चुनाव में दागियों को टिकट न देने की हामी भी भरते हैं, लेकिन जब उम्मीदवार घोषित करने का समय आता है तो दागी ही उनकी पहली पसंद बनते हैं।
दरअसल वे मान बैठे हैं कि दागियों के चुनाव जीतने की गारंटी है। जो जितना बड़ा दागी उसकी उतनी ही अधिक स्वीकार्यता की थ्योरी ने भारतीय लोकतंत्र को मजाक बनाकर रख दिया है।

भारतीय लोकतंत्र के लिए इससे अधिक शर्मनाक क्या हो सकता है कि संसद और विधानसभाओं में पहुंचने वाला हर तीसरा सदस्य दागी है। उस पर भ्रष्टाचार, चोरी, हत्या, लूट और बलात्कार जैसे संगीन आरोप हैं। संसद और विधान सभाओं में वे हुडदंग करते हैं, एक दूसरे पर कुर्सियां फेंकते हैं, मिर्ची पाउडर फेंकते हैं, पेपर फाड़ डालते हैं यहाँ तक कि पोर्न फ़िल्म देखते हैं क्या यह शालीनता है ? सभी राजनैतिक दल कांच के मकानों में डेरा डाले हुए है, लेकिन राजनीति में अपराधीकरण की जब बात होती है, तो वे एक दूसरे पर पत्थर फैंकते रहते है। बहुजन समाज पार्टी की नजर में केवल समाजवादी पार्टी में ही अपराधियों का बोलवाला है तो समाजवादी पार्टी, बसपा पर अपराधियों को प्रश्रय देने का आरोप लगाती रहती है। भाजपा तो वोट के लिए इन दलों से निकाले गये तिरस्कृत पर अपराधी नेताओं को शरण देने में शर्म महसूस नहीं करती।

सिगमंड फ्रायड को सन 1932 में लिखे एक व्यक्तिगत पत्र में अल्बर्ट आइंस्टीन ने यह लिखा था कि नेताओं का कद जब बढ़ जाता है तब उनका व्यवहार भी बदल जाता है “वे महान लोग, जिनकी उपलब्धियाँ कैसे भी किसी क्षेत्र तक केंद्रित कर दी जातीं हैं, वही उपलब्धियाँ उन्हें अपने आसपास के लोगों से ऊँचा उठा देती हैं, समान आदर्श के अपरिहार्य विस्तार का सहभागी भी बनाती हैं।
परन्तु, उनका प्रभाव राजनीतिक घटनाओं की विषयवस्तु पर कम है। यह करीब करीब ऐसे प्रतीत होता है, जैसे उसी क्षेत्र को हिंसा और राजनीतिक सत्ताधारियों की गैरज़िम्मेदारियों पर अपरिहार्य रूप से छोड़ दिया गया हो, जिस कार्यक्षेत्र पर राष्ट्रों की तकदीर निर्भर करती है। राजनीतिक नेताओं, सरकारों की वर्तमान स्थिति, कुछ बल और कुछ चर्चित चुनावों के कारण है। वे अपने-अपने राष्ट्रों में नैतिक और बौद्धिक रूप से, जनता के सर्वोत्कृष्ट प्रतिनिधि नहीं ठहराये जा सकते। बुद्धिजीवी संभ्रांतों का इस वक्त देशों के इतिहास पर कोई सीधा प्रभाव नहीं है: उनकी सम्बद्धता (प्रतिबद्धता) में कमी उन्हें समकालीन समस्याओं के निराकरण में, सीधे प्रतिभागिता करने से रोकती है। क्या आप नहीं सोचते कि जिनके क्रियाकलाप और पूर्ववर्ती उपलब्धियाँ; उनकी योग्यता और लक्ष्य की पवित्रता की गारन्टी का निर्माण करतीं हैं, उन लोगों के मुक्त संगठन के द्वारा इस दिशा में परिवर्तन किया जा सकता है। अंतर्राष्ट्रीय प्रवृत्ति के इस गठबंधन के सदस्यों को आवश्यक रूप से शक्ति और विचारों के आदान-प्रदान, पत्रकारों के समक्ष अपना दृष्टिकॊंण प्रेषित करके आपस में संपर्क में रहना होगा।”

हमारे देश में ऐसे राजनीतिज्ञों की संख्या अंगुलियों पर गिनने लायक रह गयी है, जिनपर अवैध तरीके से धन कमाने के आरोप नहीं हैं। पंचायत स्तर से लेकर केंद्र सरकार और विधायिका के स्तर तक लगभग प्रत्येक राजनीतिज्ञ के पास उसके ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति है। सत्ता और संपत्ति में घालमेल है, यानि दोनों एक दूसरे में परिवर्तित होते रहते हैं। इस देश में सत्ता का धर्म सामंती है। सामंती चरित्र कबीलों का धर्म होता है। प्राचीन काल से आज तक कबीलों ने राज्य का निर्माण किया है। आज पूंजीवाद की प्रधानता है यानि संपत्ति की प्रधानता बढ़ गयी है। वो सब लोग राजनीति कर सकते हैं जिन्होंने देश को लूटने में कभी कोई कोताही नहीं बरती। इस देश में अपराधी राजनीति कर सकते हैं। खून में बेईमानी के जीन लिए हुए व्यापारी संसद में बैठ कर क़ानून बना सकते हैं। यहाँ तक कि, राज्य प्रायोजित दंगा कराने वालों को जन बहुमत मिल जाता है। और रिश्वत खाने वालों का चरित्र बेदाग माना जाता है। विगत में एक गैर सरकारी संगठन, एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव और आगे होने वाले आम चुनाव में मद्देनगर राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण किया था। सर्वेक्षण 62 हजार 847 उम्मीदवारों के संबंध में किया गया, जिन्होंने साल 2004 में विभिन्न सीटों पर लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़े थे। एडीआर के विश्लेषण में कहा गया इन 62 हजार 847 उम्मीदवारों में से 11 हजार 63 उम्मीदवारों (18 फीसदी) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की घोषणा की है, जबकि पांच हजार 253 (8 फीसदी) उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक आरोप हैं।
सुप्रीम कोर्ट का मानना है कि जब मतदाताओं को किसी व्यक्ति का आपराधिक रिकॉर्ड मालूम होगा तो वह उसे किसी हालत में वोट नहीं देगा।

परंतु जब व्यवहार में इसे देखा गया तो आपराधिक छवि के अधिक से अधिक लोग जीत कर आ गए और इस तरह के लोग सीना फुलाये संसद और विधान सभाओं में मौजूद होते हैं। सर्वोच्च न्यायालय ने जब यह फैसला दिया कि जो लोग गम्भीर अपराधों के आरोप में फंसे हैं या जो किसी अदालत से अपराधी साबित हो चुके हैं अथवा सलाखों के पीछे हैं, वे चुनाव में खड़े नहीं हो सकते तो यह फैसला आज के सन्दर्भों में कुछ भी गलत नहीं था। क्योंकि आज के राजनीतिज्ञों ने इस कदर कानून को मजाक बना दिया है कि निचली अदालतों से अपराधी घोषित होने के बाद भी वे उच्च अदालतों में अपील दायर करके कहते हैं कि वे दोषी तब तक नहीं हो सकते जब तक सर्वोच्च न्यायालय उन्हें अपराधी न घोषित कर दे।

राजनीति के अपराधीकरण पर अंकुश लगाने की दिशा में सर्वोच्च न्यायालय के इस ऐतिहासिक फैसले से राजनीतिक दलों की घबराहट बढ़ गई थी अतः वे सब एक जुट हो गये। असल में उनकी यह एकजुटता किसी कोण से भी लोकतन्त्र बचाने की नहीं बल्कि स्वयं को बचाने के लिए थी ताकि वे सदैव राजनीतिक प्रभुत्व का आनंद ले सकें। नेताओं ने यह तर्क देते हुए कि संसद सर्वोच्च है, सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के प्रति असहमति जतायी। संसद की सर्वोच्चता के प्रति किसी की असहमति नहीं हो सकती लेकिन यहां सवाल यह उठता है कि संसद में बैठने वाले लोग कैसे हैं? राजनीति में बढ़ते अपराधीकरण के कारण ही आज अनेक केन्द्रीय मंत्री, राज्यों के मुख्यमंत्री और मंत्री कई प्रकार के आपराधिक मामलों के लिए चर्चा में बने रहते है। उनमें से कुछ तो विगत में जेल की शोभा बढ़ा रहे थे। अपराधी वृत्ति के नेताओं के कारण सरकार में भ्रष्टाचार को अधिक संरक्षण मिला है। ये लोग रोज ही कानून व्यवस्था को ठेंगा दिखाते हैं और संविधान का अपमान करते हैं। यही कारण है कि हमारी राजनीति लगातार पतन की ओर अग्रसर हो रही है और आम आदमी राजनीति से बहुत उम्मीद नहीं कर रहा है बल्कि दूर होता जा रहा है।
(शैलेंद्र चौहान साहित्यकार हैं और आजकल जयपुर में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

झारखंड में भी बेहद असरदार रहा देशव्यापी रेल रोको आंदोलन

18 अक्टूबर 2021 को संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा पूर्व घोषित देशव्यापी रेल रोको कार्यक्रम के तहत रांची में किसान...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.