Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

दिल्ली में हिंदू खतरे से बाहर, बिहार में अब धर्म को संकट में ले आने की तैयारी

दिल्ली में धर्म पर मंडरा रहा खतरा अब टल गया है! सुनने में आ रहा है कि खतरा अब बिहार की तरफ कूच की तैयारी में है! हो सकता हो कि 11 तारीख को खतरे के बादल छंट भी जाएं, क्योंकि बादल हमेशा घनघोर ही नहीं रहते! वैसे भी ये तूफानी बादल होते हैं और इनकी लंबी आयु नहीं होती। फिर भी मैं बिहार के लोगों से निवेदन कर रहा हूं कि खतरे के हिसाब से तैयारी शुरू कर दीजिए!

जब चुनावों के हिसाब से धर्म का खतरा बढ़ता-घटता हो तो जनता को ज्यादा संजीदा, संवेदनशील और सतर्क हो जाना चाहिए। देश में बेरोजगारी ने 45 साल का रिकॉर्ड ही नहीं तोड़ा है, बल्कि किसान आत्महत्या से भी बेरोजगार आत्महत्या ने प्रतियोगिता जीत ली है! डेमोक्रेसी इंडेक्स से लेकर हंगर इंडेक्स तक में भारत ने रिकॉर्ड कायम कर दिए हैं!

आज मुझे दुःख इस बात का है कि 11 राज्यों और देश पर शासन करने वाली पार्टी ने अपनी पूरी ताकत दिल्ली के चुनाव को नाक समझकर झोंकी और विरोधी लोग पूरी तरह सक्रिय नजर आ रहे थे, मगर दिल्ली वोट देने उम्मीद के हिसाब से मतदान केंद्र तक नहीं पहुंची!

जागरूकता के हिसाब से देखा जाए तो दिल्ली को देश के सामने उदाहरण पेश करना था, मगर दिल्ली यहां चूक गई! लगता है ज्यादा राजनीतिक सक्रियता लोगों के मन में भय पैदा कर रही है! हर वोटर के पीछे कार्यकर्ताओं का लगना मतदान की गोपनीयता को तिलांजलि देता है।

मतदान केंद्र के पास जो टेबल कुर्सियां लगाए बैठे थे, वो ज्यादातर खाली बैठे रहे! लोगों में ख़ौफ़ इस कदर नजर आया कि घर पर जो पर्चियां आईं उनको जेब में डाला और चुपचाप मतदान करके आ गए! एक की टेबल पर से पर्ची ले ली बाकी नाराज! शहरी परिवेश में कोई समाजिक सहारा नहीं होता है, इसलिए लोग डरे-सहमे रहे!

शहरों में जाति नहीं सिर्फ धर्म चलता है और धर्म का बखेड़ा सियासत ने ऐसा खड़ा किया कि बहुसंख्यक इलाकों तक में लोग ख़ौफ़ के साये में बेफिक्र होकर मतदान नहीं कर पाएं! दिल्ली में चाहे कोई पार्टी जीते मगर जनतंत्र हारा है!

दिल्ली देश की राजधानी है और सारे मीडिया का जमघट यहां रहा! मीडिया को बाइट देने के लिए धक्का-मुक्की करने वाली जनता मुंह खोलने को आज कतराती नजर आई! मीडिया अब एग्जिट पोल के माध्यम से कितने ही दावे कर ले मगर सच्चाई 11 फरवरी को ही नजर आएगी!

एक बात तय है कि जनता भले ही धर्मसंकट में फंसकर बोलने से कतराती रही हो मगर दिलो-दिमाग में सिर्फ विकास था। कम मत प्रतिशत में भी पलड़ा केजरीवाल का ही भारी है और सत्ता परिवर्तन नहीं होना है, मगर सियासत ने जो जहर बोया है उसको सिर्फ हार-जीत से खत्म नहीं किया जा सकता! वक्त लगेगा!

इतना जरूर है कि इस चुनाव के बाद फर्जी राष्ट्रवाद का मुद्दा दम तोड़ देगा। लोग बुनियादी जरूरतों को लेकर सवाल-जवाब करेंगे। दिल्ली में केजरीवाल की जीत पूरे देश में उन राजनेताओं को हौसला देगी जो काम करना चाहते हैं, जनता को प्रेरणा देगी काम करने वाले के पीछे खड़े होने की! अगर केजरीवाल हारते हैं, जिसकी संभावना न्यूनतम है, तो ये खतरे के बादल और घनघोर होंगे और तेज गर्जना के साथ बाकी राज्यों में कोहराम मचाएंगे!

प्रेमाराम सियाग/मदन कोथुनियां

This post was last modified on February 10, 2020 2:52 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

कांग्रेस समेत 12 दलों ने दिया उपसभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस

कांग्रेस समेत 12 दलों ने उप सभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया…

9 hours ago

दिनदहाड़े सत्ता पक्ष ने हड़प लिया संसद

आज दिनदहाड़े संसद को हड़प लिया गया। उसकी अगुआई राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश नारायण…

9 hours ago

बॉलीवुड का हिंदुत्वादी खेमा बनाकर बादशाहत और ‘सरकारी पुरस्कार’ पाने की बेकरारी

‘लॉर्ड्स ऑफ रिंग’ फिल्म की ट्रॉयोलॉजी जब विभिन्न भाषाओं में डब होकर पूरी दुनिया में…

11 hours ago

माओवादियों ने पहली बार वीडियो और प्रेस नोट जारी कर दिया संदेश, कहा- अर्धसैनिक बल और डीआरजी लोगों पर कर रही ज्यादती

बस्तर। माकपा माओवादी की किष्टाराम एरिया कमेटी ने सुरक्षा बल के जवानों पर ग्रामीणों को…

13 hours ago

पाटलिपुत्र का रण: राजद के निशाने पर होगी बीजेपी तो बिगड़ेगा जदयू का खेल

''बिहार में बहार, अबकी बार नीतीश सरकार'' का स्लोगन इस बार धूमिल पड़ा हुआ है।…

14 hours ago

दिनेश ठाकुर, थियेटर जिनकी सांसों में बसता था

हिंदी रंगमंच में दिनेश ठाकुर की पहचान शीर्षस्थ रंगकर्मी, अभिनेता और नाट्य ग्रुप 'अंक' के…

14 hours ago