Tuesday, January 18, 2022

Add News

अमेरिकी संसद पर हमले का सबक

ज़रूर पढ़े

वाशिंगटन डी.सी. में जो छह जनवरी को हुआ, उस पर गहराई से सोच कर आगे के लिए सबक लेने की जरूरत है। बात शुरू कहाँ से होती है? डोनाल्ड ट्रंप यह मानने से इंकार कर देते हैं कि वे पॉपुलर वोट में हार गये हैं। जीत -हार का फर्क कम था, पोस्टल बैलट बहुत से थे, इसलिए शुरू में बहुत से तटस्थ लोगों की भी थोड़ी-बहुत सहानुभूति ट्रंप के साथ थी, लेकिन बाद में जब आरोपों की तकनीकी जाँच पड़ताल, कानूनी परख हुई तो एक के एक बाद अदालतें और अन्य संस्थाएं ट्रंप के वोट-फ्राड के दावों को खारिज करती चलीं गयीं। ट्विटर ट्रंप के ट्वीट्स पर नोट लगाने लगा कि वोट फ्राड के ये दावे प्रामाणिक नहीं हैं।

ट्रंप अड़े रहे, अपने समर्थकों को भड़काते रहे, कैपिटल हिल पर हुए उपद्रव ( अमेरिकियों के अपने शब्दों में insurrection यानि सशस्त्र विद्रोह) के दौरान तक भी ट्रंप ने गंभीरता और पौढ़ापन अपनाने के बजाय अपना हिंसक छिछोरापन जारी रखा। नतीजा सारी दुनिया ने देखा। पाँच लोगों की जानें गयीं। उपद्रव के दौरान हिंसा ही नहीं, बदतमीजी भी भरपूर की गयी। कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार सदन के सदस्यों के कमरों का मूत्राभिनंदन भी किया गया।

अब स्थिति यह है कि अमेरिका के राष्ट्रपति का एकाउंट फेसबुक पर बैन है।

लेकिन ट्रंप और उनके समर्थकों की तरफ गलती मानने या माफी माँगने का कोई सीरियस उपक्रम नहीं दिखता। विचार करने की बात यही है। गलती इंसान से होती ही है। आवेश में बहुत नेक लोग भी भयानक भूलें कर बैठते हैं, लेकिन फिर मान भी लेते हैं, पछताते हैं, प्रायश्चित भी करते हैं।

सच तो यह है कि गलती बस दो तरह के लोग नहीं करते। एक वे जो जन्मे ही नहीं हैं,  दूसरे वे जो मर चुके हैं। वरना तो धरती पर अवतार लेने के बाद स्वयं भगवान भी गलती कर ही बैठते हैं। ट्रंप केवल एक व्यक्ति नहीं टाइप हैं। यह हमारे समय की खासियत है कि दुनिया भर में कुछ लोग ट्रंप डिजाइन के लोगों को हीरो ऑफ अवर टाइम मानने लगे हैं। इस डिजाइन के लोग केवल लोकतंत्र के लिए ही नहीं, मानव सभ्यता मात्र के लिये खतरा हैं, क्योंकि वे ऐसे माइंडसेट का निर्माण करते हैं जो अपनी या अपने नेता (बल्कि आराध्य देव) की गलती कभी मान ही नहीं सकता।

जि्द्दी होने और तानाशाही मिजाज की गिरफ्त में होने में बुनियादी फर्क है। तानाशाह जिद नहीं कर रहा होता, वह सचमुच मानता है कि उसकी कोई गलती या कमी है ही नहीं। वह डिल्यूजन–मतिभ्रम–का शिकार होता है। नेता के धरातल पर यह डिल्यूजन खुद को मसीहा समझने के रूप में काम करता है, और उसे देवता मानने वाले अनुयायियों के धरातल पर मसीहाई के दावे में अटूट आस्था के रूप में।

नेता और अनुयायी दोनों एक ही बीमारी के अलग अलग रूपों की जकड़ में होते हैं। एक तरह से, उन्हें इलाज की जरूरत है और यह इलाज का ही हिस्सा है कि उन्हें सत्तातंत्र से बहुत-बहुत दूर रखा जाए। आखिरकार, बंदर के हाथ में उस्तरा उसके लिए भी खतरनाक ही साबित होता है ना।

आज के जमाने में इस बीमारी का वायरस फैलाने में सबसे ज्यादा योगदान टीवी चैनल और वाट्सएप विश्वविद्यालय करते हैं। वैसे इस डिल्यूजन के इतने खतरनाक रूप तक अपन एकाएक नहीं पहुँच गये हैं। बीमारी धीरे-धीरे बढ़ी है और उनके सहयोग से बढ़ी है जिनसे इलाज की तवक्को थी। बीस साल पहले जब सुषमा स्वराज के नेतृत्व में बीजेपी दिल्ली का चुनाव हारी थी तो सुषमा जी की टिप्पणी थी, “कैसे अजीब लोग हैं दिल्ली के, प्याज की कीमतों के चक्कर में राष्ट्रवादी पार्टी को हरा दिया”।

जैसे ट्रंप चुनाव हार ही नहीं सकते वैसे ही सुषमाजी की पार्टी हार ही नहीं सकती, बशर्ते दिल्ली के वोटर राष्ट्रवादी बने रहें। हम से गलती हुई, यह बात इस तरह के मिजाज में आती ही नहीं।

मीडिया का काम सत्ता को जिम्मेदारी याद दिलाना है, यह याद दिलाना है कि गलती हो रही है, सुधारो। दूसरा काम खबरें देना है, अपनी स्वयं की राजनैतिक सहानुभूति से ऊपर उठकर। हजारों ट्रैकटरों पर दिल्ली की परिक्रमा करते किसान खबर हैं या नहीं? माँगों पर चर्चा के दौरान आप चाहते हैं तो कहिए कि गलत माँगें हैं इतनी बड़ी ट्रैक्टर रैली खबर है या नहीं?

इस तरह के कामों से मीडिया उस बीमार माइंडसेट का निर्माण करने के पाप का बराबर का भागीदार बन जाता है, जिसकी चर्चा हम कर रहे हैं। 1962 में चीन ने जो भूमि दबा ली, उसके लिए नेहरू आज तक गरियाए जाते हैं कयोंकि भारतीय सेना के पीछे हटने की दुखद खबरों तक को दबाने का प्रयत्न नहीं किया गया। संसद में बहस के ऐन दौरान बाहर जुलूसों का आयोजन करते, “बेशर्म हुकूमत सोती है” जैसे तीखे नारे गढ़ने वाले नेताओं को एंटी नेशनल नहीं कहा गया। मीडिया में उन्हें अपमानित नहीं किया गया।

और आज, अव्वल तो हमारी सीमा में कोई घुसा ही नहीं, फिर भी बीस भारतीय सैनिक न जाने कैसे शहीद हो गये, फिर चीन से सीमावार्ता जारी है, हालांकि चीन का रुख अड़ियल है, अरे भैया जब कोई घुसा ही नहीं अतिक्रमण हुआ ही नहीं तो वार्ता क्या अचार मुरब्बे बनाने की विधियों के बारे में हो रही है?

ये सवाल पूछे जाएं यह देश की सुरक्षा के लिए ही नहीं, समाज के मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी जरूरी है। यदि आप जान कर भी न मानें कि आप मिसाल के तौर पर कोविड-19 की चपेट में आ चुके हैं तो आप अकेले तो जाएंगे नहीं, कंपनी के लिए दो एक निकटवर्तियों को भी ले ही जाएंगे।

गलती न मानने को हीरोइक्स बदलने वाले लोग–नेता, मीडिया, टिप्पणीकार– समाज को मूर्खता और क्रूरता की खाई में धकेल रहे हैं, कुछ जानबूझ कर ऐसा कर रहे हैं ताकि समाज की मूर्खता उनकी ऐय्याशियों का सामान जुटाती रहे, तो कुछ उसी मूर्खता की गिरफ्त में आकर। बात ट्रंप बनाम बाइडेन, भाजपा बनाम कांग्रेस की नहीं है। न तो बाइडेन फरिश्ते हैं न कांग्रेस दूध की धुली है।

बात सोचने विचारने की कूवत, उससे भी पहले सहज मानवीय करुणा बनाये रखने बचाये रखने की है। थोड़ी देर के लिए आवेश मुक्त हो कर सोचिए, एक आदमी की गला रेत कर हत्या कर दी जाए, ह्त्यारा अपने भतीजे से वीडियो बनवा कर प्रसारित करे…और यह बात पढ़ते समय भी आप याद करने की कोशिश करने लगें कि वह सायको हत्यारा हिन्दू था या मुसलमान…एक औरत के साथ तीन-चार मर्द हद दर्जे की दरिंदगी करें और आपके चहेते नेतागण, आप स्वयं टिप्पणी दरिंदों और उनकी शिकार की सामाजिक-धार्मिक पहचान तय कर लेने के बाद ही करें, ऐसी खबर सुनकर जो घिन, जो क्रोध आना चाहिए वह तक सहज रूप से न आए…

सोचिए सचमुच….आप इत्मिनान से खुद को इंसान कह सकते हैं क्या?

(पुरुषोत्तम अग्रवाल जेएनयू में प्रोफेसर रहे हैं। यह लेख उनके फेसबुक वाल से साभार लिया गया है।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पुस्तक समीक्षा: सर सैयद को समझने की नई दृष्टि देती है ‘सर सैयद अहमद खान: रीजन, रिलीजन एंड नेशन’

19वीं सदी के सुधारकों में, सर सैयद अहमद खान (1817-1898) कई कारणों से असाधारण हैं। फिर भी, अब तक,...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -