Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

खूनी हुए न्यूज़ चैनल! जहरीली और नफ़रती बहसों से अब बांट रहे हैं मौत

अराजक टीवी न्यूज चैनल की डिबेट ने कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी की बुधवार की शाम जान ले ली। वह आजतक टीवी न्यूज चैनल के दंगल कार्यक्रम में शामिल थे। उनके साथ पैनल में भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा थे। डिबेट के दौरान ही उनके सीने में दर्द उठा। किसी तरह से उन्होंने डिबेट पूरी की और उसके बाद उनका निधन हो गया।

टीवी न्यूज चैनलों ने डिबेट के बहाने हिंदू-मुस्लिम, भारत-पाकिस्तान करके पूरे देश में जहर बोने का काम किया है। इसके जरिए यह चैनल सरकार के लिए एजेंडा भी सेट कर रहे हैं। बैंग्लोर की घटना होते ही देश के सारे जरूरी मुद्दे पीछे छूट गए और टीवी चैनलों के ‘कोठे सज’ गए। एक घटना के हवाले से एक पूरी कौम को देशद्रोही और दंगाई साबित किया जाने लगा।

पिछले पांच-छह साल में टीवी की अराजकता चरम पर पहुंच गई है। वह झूठ, अफवाह और अंधविश्वास फैलाने का माध्यम बन गए हैं। न्यूज चैनलों ने ही एक पूरी कौम को कोरोना का वाहक बना दिया। इसी तरह से दिल्ली दंगों में एकतरफा रिपोर्टिंग ने हालात किस कदर जहरीले बना दिए थे, यह सभी ने देखा। चूंकि न्यूज चैनल सरकार के लिए एजेंडा सेट कर रहे हैं, इसलिए बेखौफ और मनमाने अंदाज में काम कर रहे हैं। उन पर कोई रेगुलेटरी या नियम लागू नहीं हैं।

न्यूज चैनलों के खिलाफ लगातार आवाज उठती रही है। लाखों लोगों ने टीवी देखना भी बंद कर दिया है, लेकिन राजीव त्यागी के निधन के बाद अब लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। सोशल मीडिया पर लोग जमकर टीवी डिबेट और संबित पात्रा को बुरा-भला कह रहे हैं। तमाम लोग टीवी चैनलों को दंगाई और खूनी तक कहने से गुरेज नहीं कर रहे हैं।

ट्विटर पर बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा के खिलाफ जबरदस्त तरीके से लोग गुस्सा निकाल रहे हैं। कई यूजर्स ने आजतक की डिबेट का वीडियो शेयर करते हुए पात्रा की गिरफ्तारी की मांग तक की है। तमाम यूजर्स का कहना है कि पात्रा बेहद आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग कर रहे थे। इसकी वजह से ही त्‍यागी की तबियत बिगड़ गई।

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने लिखा है,
“कब तक ज़हरीली डिबेट और विषैले प्रवक्ता संयम और सादगी की ज़बान की जान लेते रहेंगे?
कब तक इस बहस से टीआरपी का धंधा चलेगा?
कब तक हिंदू-मुसलमान के विभाजन का ज़हर इस देश की आत्मा को लीलता रहेगा?
कब तक?”
#rajiv_tyagi

कांग्रेस नेता गौरव पंधी ने लिखा है, “पात्रा ने राजीव त्‍यागी को गद्दार कहा।” एक दूसरे कांग्रेस नेता ने कुछ पत्रकारों के साथ पात्रा के नाम गिनाते हुए लिखा है कि इन लोगों ने मीडिया को बेहद जहरीला बना दिया है। सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने पात्रा को सीधे-सीधे त्‍यागी की मौत का जिम्‍मेदार ठहराया है। उन्होंने पात्रा पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

डिबेट में क्या हुआ था
कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्‍यागी आजतक न्यूज चैनल पर बैंग्लोर हिंसा पर डिबेट में शामिल थे। डिबेट में बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा कहते नजर आ रहे हैं, “हमारे घर के जयचंदों ने हमारे घर को लूटा है। अरे नाम लेने में शर्म कर रहे हैं। वो घर जला रहे हैं और यहां जयचंद नाम तक नहीं ले पा रहे हैं। अरे, टीका लगाने से कोई सच्‍चा हिंदू नहीं बन जाता है। टीका लगाना है तो दिल में लगा और कहो कि किसने घर जलाया है।”

राजीव त्‍यागी बीच में कहते हैं, “मैं जवाब देना चाहता हूं।”

कांग्रेस का पक्ष रखते हुए राजीव त्‍यागी ने कहा, “दंगाई सलाखों के पीछे होनें चाहिए।” इसके बाद उन्‍होंने भाजपा के स्‍थानीय कार्यकर्ता की एक पोस्‍ट पढ़ी। फिर त्‍यागी ने कहा, “भाजपा वर्कर होने की वजह से उनकी गिरफ्तारी तीन घंटे बाद की गई, जिन्‍होंने पोस्‍ट किया, वह सलाखों के पीछे होने चाहिए। जिन्‍होंने कानून हाथ में लिया, वह भी सलाखों के पीछे होने चाहिए।”

सोशल मीडिया पर एक और वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें डॉक्‍टर कह रहे हैं कि त्यागी को टीवी डिबेट के दौरान ही दिल का दौरा पड़ गया था।

राजीव त्यागी की मौत पर सोशल मीडिया पर अभिषेक श्रीवास्तव ने लिखा है,
“जिस दिन प्रभाष जी टीवी देखते हुए निकल लिए थे, मैंने सोचा था कि कोई दिन ऐसा आएगा जब स्टूडियो के भीतर बैठा आदमी सदमे में मारा जाएगा। आज राजीव त्यागी आजतक पर रोहित सरदाना के शो में बहस करते हुए दिल के दौरे का शिकार हुए और उनकी मौत हो गई।

सम्बित पात्रा ने उन्हें ट्वीट कर के श्रद्धांजलि दी है, जो घंटे भर पहले त्यागी को जयचंद-जयचंद कह कर उनके माथे पर लगे लाल टीके का मज़ाक उड़ा रहे थे। मज़ाक-मज़ाक में लोग मर रहे हैं। सौ साल में इससे जहरीला आविष्कार इंसानियत ने नहीं किया। दुनिया के सारे बम एक तरफ, टीवी एक तरफ।

मज़ाहिया (मजहबी) बहसें अब बंद होनी चाहिए। टीवी की मौत अब हो ही जानी चाहिए। टीवी रहा, तो सबको निगल जाएगा एक-एक कर के। सब मारे जाएंगे।”

निधन पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने राजीव त्यागी की पत्नी से टेलिफ़ोन पर बात करके संवेदनाएं व्यक्त कीं। उन्होंने राजीव त्यागी के कांग्रेस पार्टी के प्रति योगदान की सराहना करते हुए उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। उन्होंने कहा कि त्यागी के निधन से पार्टी ने देश और समाज को समर्पित एक नेता खो दिया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर राजीव त्यागी को बबर शेर बताया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है,
“कांग्रेस ने आज अपना एक बब्बर शेर खो दिया।
राजीव त्यागी के कांग्रेस प्रेम व संघर्ष की प्रेरणा हमेशा याद रहेंगे।
उन्हें मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि व परिवार को संवेदनाएं।”

अपने एक दूसरे ट्वीट में रणदीप सुरजेवाला ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है,
“नि:शब्द!
एक सबसे प्यारा दोस्त, एक अन्थक साथी,
एक छोटा भाई, एक प्रतिबद्ध कांग्रेसी, खो गया, चला गया, बिछड़ गया।
तुम्हारा स्नेह और सुगंध सदा महकेंगे।
अलविदा मेरे दोस्त, जहां रहो, चमकते रहो!

राजीव की मौत पर प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट किया है,
“भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता श्री राजीव त्यागी जी की असामयिक मृत्यु मेरे लिए एक व्यक्तिगत दुःख है। हम सबके लिए अपूर्णीय क्षति है।
राजीव जी विचारधारा समर्पित योद्धा थे। समस्त यूपी कांग्रेस की ओर से परिजनों को हृदय से संवेदना।
ईश्वर उनके परिवार को दुख सहने की शक्ति दें।”

  • कुमार रहमान

(लेेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।)

This post was last modified on August 19, 2020 1:15 am

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

हवाओं में तैर रही हैं एम्स ऋषिकेश के भ्रष्टाचार की कहानियां, पेंटिंग संबंधी घूस के दो ऑडियो क्लिप वायरल

एम्स ऋषिकेश में किस तरह से भ्रष्टाचार परवान चढ़ता है। इसको लेकर दो ऑडियो क्लिप…

5 mins ago

प्रियंका गांधी का योगी को खत: हताश निराश युवा कोर्ट-कचहरी के चक्कर काटने के लिए मजबूर

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक और…

51 mins ago

क्या कोसी महासेतु बन पाएगा जनता और एनडीए के बीच वोट का पुल?

बिहार के लिए अभिशाप कही जाने वाली कोसी नदी पर तैयार सेतु कल देश के…

1 hour ago

भोजपुरी जो हिंदी नहीं है!

उदयनारायण तिवारी की पुस्तक है ‘भोजपुरी भाषा और साहित्य’। यह पुस्तक 1953 में छपकर आई…

2 hours ago

मेदिनीनगर सेन्ट्रल जेल के कैदियों की भूख हड़ताल के समर्थन में झारखंड में जगह-जगह विरोध-प्रदर्शन

महान क्रांतिकारी यतीन्द्र नाथ दास के शहादत दिवस यानि कि 13 सितम्बर से झारखंड के…

14 hours ago

बिहार में एनडीए विरोधी विपक्ष की कारगर एकता में जारी गतिरोध दुर्भाग्यपूर्ण: दीपंकर भट्टाचार्य

पटना। मोदी सरकार देश की सच्चाई व वास्तविक स्थितियों से लगातार भाग रही है। यहां…

15 hours ago