Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

हार का भाजपा पर असर नहीं

हरियाणा और महाराष्ट्र में हुए चुनाव ने अचानक ही विश्लेषण की भाषा बदल दी है। जो लोग हरियाणा में 70 पार का अनुमान लगा रहे थे, या इस डर से चुनाव विश्लेषण की भाषा का सहम कर प्रयोग कर रहे थे वे सभी लोग नतीजों के आते ही बदल गए। यही स्थिति महाराष्ट्र के बारे में रही। मंदी और सरकारी संस्थानों की अनदेखी के तथ्यों को भाजपा की हार और जनता के विपक्ष बन जाने की बात को ऐसे दुहराया गया मानों यही अंतिम सच हो। भाजपा के शीर्ष नेताओं पर इन बातों का कोई असर नहीं पड़ा। मोदी लगातार अंतरराष्ट्रीय व्यक्तित्व बन जाने की जोड़ तोड़ में लगे रहे। चुनाव के नतीजों का असर मोदी तो क्या अमित शाह पर भी नहीं पड़ा। सरकार बनाने का खेल सटोरियों को मात देने वाली रणनीति के तहत जारी है।

मोदी-अमित शाह के नेतृत्व में भाजपा राजनीति की जो पारी खेल रही है, उसमें विपक्ष की भूमिका दर्शक की बनी हुई है। वह एक भी राजनीतिक आंदोलन बना पाने में फिलहाल अक्षम बनी हुई है। जो भी वोट उसके हिस्से आ रहा है वह जनता की हताशा और उस सहानुभूति का परिणाम है जिसका मोदी-भाजपा की तानाशाही और मंदी से कुछ खास लेना देना नहीं है। ज्यादातर हमारे आसपास के विश्लेषक अनावश्यक ही इस पर जोर लगाकर खींचतान कर रहे हैं।

विश्लेषक जिस तानाशाही और मंदी की समस्या को चुनाव की राजनीति से जोड़ते हुए परिणाम को देखते हैं उन्हें भारत में मंदी और संसदीय राजनीति के परिणामों के ऐतिहासिक संबंधों पर एक नजर जरूर डाल लेना चाहिए। 1960-65 के बीच भारत की उद्योगिक और खेती के संकट ने एक तरफ नक्सलबाड़ी राजनीति को जन्म दिया जो गैरसंसदीय राजनीति पर जोर देते हुए आगे बढ़ा और दूसरी तरफ इसने इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाले कांग्रेस को पुनर्निर्मित किया और जमींदारों में एक नई पैठ बनाते हुए इंदिरा और देश को एक दूसरे का पर्याय बना दिया। 1966 से लेकर 1984 तक चले एकछत्र राज ने 1970 की लंबी अवधि वाली मंदी को भी देखा और उस आपात्काल को भी झेला जिसने भारतीय राजनीति में आई थोड़ी सी नागरिकता का पक्ष भी जूतों की नोंक पर उछाल दिया गया था।

1980 के दशक में नव धनाढ्यों, व्यापारियों और अस्मितावादी राजनीति राज्यों में नये सिरे से संगठित हुई। 1980 की खेती का संकट दलित और पिछड़े समुदाय को संगठित करने की ओर ले गया। यह समुदाय भी क्षेत्रीय पार्टियों की गैर आर्थिक मांगों के आधार पर आगे आया और राजनीतिक मसलों पर देश स्तर पर संगठित नहीं हो सका जबकि इसकी संभावना सिद्धांतः राजनीतिक-सामाजिक स्तर पर अधिक थी।

इसी दशक में नक्सलबाड़ी आंदोलन ने एक नये दौर में कदम रखा और सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक विकास के विकल्प को आगे ले आया। 1990 के दशक की मंदी के दौर में भारतीय राजनीति की बागडोर को सीधे विश्वबैंक-मुद्राकोष ने पकड़ा और राजनीतिक नेतृत्व अमेरीका ने। पार्टियों की भूमिका सरकार बनाने-गिराने, सांसदों की खरीद-फरोख्त और दलबदल आदि के रूप में रह गई। इस बागडोर ने मनमोहन सिंह को मंदी और गहरे सामाजिक संकट के बावजूद उन्हें प्रधानमंत्री उस समय तक बनाये रखा जब तक कि एक अन्य पार्टी पूरी भारतीय राजनीति और समाज को अपने गिरफ्त में ले लेने की स्थिति में नहीं आ गया।

मंदी भारतीय राजनीति में एक ऐसी तानाशाही को लेकर आती है जो अगली मंदी के आने तक बनी रहती है। बदलाव सामाजिक आंदोलन के उस आवरण में आता है जो सत्ता के बनते ही छिलके की तरह उतरने लगता है और वह आंदोलन बेमानी दिखने लगता है। मोदी के साथ संकट यही है कि वह अमेरीकी सहयोग से सत्ता को संगठित कर सकने की स्थिति में नहीं आ पा रहा है। वह जिन बदलावों का वादा करते हुए आया उसके छिलके सूखकर गिर जाने को तैयार नहीं हो पा रहे हैं। हिंदू एजेंडा जिंदा है, और उससे भी अधिक तबाह लोगों को नौकरी की तलाश जारी है।

कांग्रेस विकल्प बनने को अब भी तैयार नहीं दिख रही है। वह मंदी और सामाजिक संकट से बन रही स्थितियों को राजनीतिक आंदोलन बनाना तो दूर भाजपा के नेतृत्व की कारस्तानियों को भी सामने लाने से कतरा रही है। क्या यह सिर्फ इसलिए कि वह मोदी सरकार से डर रही है? मुझे लगता है कि यह समझदारी हमें कहीं नहीं ले जाएगी।

दरअसल, भाजपा के नेतृत्व में जो समूह सत्ता के गलियारों में आया है और वह केंद्र से लेकर गांव तक फैला हुआ है वह एक नया राजनीतिक-आर्थिक समूह है और उससे हम चाहे जितना नफरत करें वह अपने हितों की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है। उसके लिए गाय नैतिकता नहीं राजनीति है, जिसके सहारे वह अपने को मजबूत करना चाहता है। उसके लिए सामाजिक और सांस्कृतिक संबंध वोट हासिल करने का माध्यम है। उसके लिए हिंदू होने का अर्थ डरा धमकाकर श्रम से पैदा हुए अतिरिक्त मूल्य को लूट या हड़प लेना है। उसके लिए मंदिर खोलने और मुस्लिम समुदाय से कसाईबाड़ा छीनकर बड़े पैमाने पर कसाईबाड़ा चलाने के बीच कोई फर्क नहीं है।

कांग्रेस इस समुदाय के स्थिर हो जाने का इंतजार कर रही है और मोदी इस समुदाय की अस्थिरता से लगातार बेचैन हैं। मोदी की चुप्पी इस समुदाय की बेचैनी का ही इजहार नहीं है, यह उस समुदाय की बचैनी का भी इजहार है जो मोदी से थोड़ी और अधिक तानाशाही की मांग कर रही है। यह गठजोड़ और राजनीतिक खेल कब तक चलेगा, यह बहुत कुछ इस समुदाय की उस अतृप्त आकांक्षा पर निर्भर करेगा, जिसे पूरा करना फिलहाल मोदी की राजनीति के हिस्से में है।

दो राज्यों में हुए चुनाव परिणाम में मंदी की भूमिका का विश्लेषण मुझे अतिरेक जैसा लगता है। चुनाव में जनता की भूमिका का विश्लेषण जरूर होना चाहिए लेकिन यदि वह मनमाने तरीके से हो तब उससे कुछ भी हासिल नहीं होता। वोट में बदलाव की चाह दिखती है लेकिन वह बदलाव लोकतंत्र के मूल्यों के पक्ष में हो जरूरी नहीं है।

भारत की चुनाव प्रणाली में सरकार निर्माण के केंद्र में सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक पक्ष अत्यंत कमजोर बना रहा है, बहुमतवाद का शुरुआती अर्थ हिंदू बहुमत ही रहा जो बाद में एक दूसरे के पर्याय बनते गए, और अब ये एक हो चुके हैं। उदारवाद ने तो राजनीति का अर्थ ही सरकार निर्माण बना दिया और यह चाहे जैसे भी, जिस तरीके से हो। अर्थनीति, समाज और संस्कृति का अर्थ इसी मंजिल को हासिल करने की सीढ़ियां हैं, सिर्फ सीढ़ियां, इससे अधिक कुछ भी नहीं।

विकल्प का अर्थ है सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक आंदोलन। भारतीय राजनीति में ये आंदोलन अक्सर ही चुनाव के गलियारे से बाहर खेतों, जंगलों, खदानों, कारखानों और शहर के गरीब, मध्य वर्ग के बीच से पैदा हुए। उम्मीद है कि चुनाव के विश्लेषण वोट और सरकार निर्माण के पैटर्न को समझने से बाहर जाकर उन नई निर्मितियों को भी देखेंगे जहां बदलाव की बयार धीमी ही सही लेकिन चल रही है। भारतीय राजनीति में द्वंद सिर्फ सत्ता के गलियारे में ही नहीं इसके बाहर भी है।
(अंजनी कुमार)

This post was last modified on October 29, 2019 3:22 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

प्रियंका गांधी से मिले डॉ. कफ़ील

जेल से छूटने के बाद डॉक्टर कफ़ील खान ने आज सोमवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका…

2 hours ago

किसान, बाजार और संसदः इतिहास के सबक क्या हैं

जो इतिहास जानते हैं, जरूरी नहीं कि वे भविष्य के प्रति सचेत हों। लेकिन जो…

2 hours ago

जनता की ज़ुबांबंदी है उच्च सदन का म्यूट हो जाना

मीडिया की एक खबर के अनुसार, राज्यसभा के सभापति द्वारा किया गया आठ सदस्यों का…

3 hours ago

आखिर राज्य सभा में कल क्या हुआ? पढ़िए सिलसिलेवार पूरी दास्तान

नई दिल्ली। राज्य सभा में कल के पूरे घटनाक्रम की सत्ता पक्ष द्वारा एक ऐसी…

3 hours ago

क्या बेगुनाहों को यूं ही चुपचाप ‘दफ्न’ हो जाना होगा!

‘‘कोई न कोई जरूर जोसेफ के बारे में झूठी सूचनाएं दे रहा होगा, वह जानता…

4 hours ago

पंजीकरण कराते ही बीजेपी की अमेरिकी इकाई ओएफबीजेपी आयी विवाद में, कई पदाधिकारियों का इस्तीफा

अमेरिका में 29 साल से कार्यरत रहने के बाद ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी (ओेएफबीजेपी) ने…

6 hours ago