Tuesday, September 26, 2023

जगदलपुर: पुलिस कैंप के विरोध में ग्रामीणों का फूटा गुस्सा, 40 से ज्यादा जगहों पर काटी सड़कें

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में खोले जा रहे नवीन पुलिस कैंपों को लेकर ग्रामीणों में जबरदस्त आक्रोश देखने को मिल रहा है। कैंप के विरोध में ग्रामीणों ने नक्सल प्रभावित गांगलूर से पुसनार होते हुए मिरतुर को जोड़ने के लिए बनाई जा रही निर्माणाधीन सड़क को 40 से ज्यादा जगहों से 4-4 फिट गहरा काट दिया है। ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें गांवों में सुराक्षा बलों का कैंप नहीं चाहिए। यदि कैंप खुलता है तो जवान उन्हें परेशान करेंगे। इधर, बीजापुर एडिशनल एसपी पंकज शुक्ला ने इसे नक्सलियों की चाल बताया है।

बीजापुर जिले के सिलगेर में खुले नवीन पुलिस कैंप का ग्रामीण लगातार विरोध कर ही रहे हैं। इधर, अब पुलिस बीजापुर जिले के कई अंदरूनी इलाकों में कैंप खोलने की तैयारी कर रही है। पुलिस कैंप के विरोध में लगातार ग्रामीण लामबंद भी हो रहे हैं। वहीं धुर नक्सल प्रभावित गंगालूर से पुसनार तक सड़क निर्माण का काम किया जा रहा था। नक्सल इलाका होने की वजह से यहां काम करवाना विभाग के लिए भी एक बड़ी चुनौती है। कैंप का ग्रामीण इस कदर विरोध कर रहे हैं कि बुर्जी और पुसनार के सैकड़ों ग्रामीणों ने मिलकर सड़क को खुद ही काट दिया है। ग्रामीणों का कहना है कि हमें न तो सड़कें चाहिए और न ही कैंप।

पुलिस पर ग्रामीणों की प्रताड़ना का लगाया आरोप

बीजापुर जिले के बुर्जी और पुसनार गांव के ग्रामीणों ने पुलिस जवानों पर ग्रामीणों को प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया है। ग्रामीणों का कहना है कि यदि इलाके में कैंप खुलता है तो फोर्स हमें परेशान करती है। महिला और पुरुषों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटते हैं। हत्या करते हैं और नक्सली बता कर जेल में डाल दिया जाता है। साथ ही सड़क निर्माण के नाम पर ग्रामीणों की भूमि हड़प लेते हैं।

कलेक्टर को सौंप चुके हैं ज्ञापन, मांग पूरी नहीं हुई तो काटी सड़क

ग्रामीणों ने कहा कि हमने अपनी विभिन्न समस्याओं और मांगों को लेकर बीजापुर कलेक्टर को ज्ञापन भी सौंपा है। लेकिन हमारी समस्याओं का अब तक कोई समाधान नहीं किया गया है। सरकार भी हमारी बात नहीं सुन रही है। इस लिए 2 गांवों के ग्रामीणों ने मिलकर सड़क को काट दिया है।

बीजापुर जिले के एडिशनल एसपी पंकज शुक्ला ने कहा कि नक्सलियों के दबाव के चलते ग्रामीणों ने सड़कें काटी हैं। ग्रामीणों को सड़क की जरूरत है। जिन-जिन जगहों पर सकड़ को काटा गया है उस समय वहां ग्रामीणों के साथ नक्सली भी मौजूद थे। इन्होंने गंगालूर, हिरोली, सहित अन्य 3-4 इलाकों की सड़कों को नुकसान पहुंचाया है। यह नक्सलियों की चाल है वो ग्रामीणों को आगे कर रहे हैं।

(बस्तर से जनचौक संवाददाता तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of

guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles

दिवस विशेष 24 सितंबर पूना पैकट: एक पुनर्मूल्यांकन

भारतीय हिन्दू समाज में जाति को आधारशिला माना गया है। इस में श्रेणीबद्ध असमानता...