बीच बहस

बैटल ऑफ बंगाल: ….और सौरव गांगुली नहीं आए, मिथुन ने रखी लाज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोलकाता की ब्रिगेड मैदान की जनसभा में सौरव गांगुली नहीं आए। बहरहाल गुजरे जमाने के हीरो मिथुन चक्रवर्ती सभा में आए और भाषण भी दिया। उन्होंने अपने पुराने फिल्मी डायलॉग भी सुनाए।

यहां याद दिला दें कि ममता बनर्जी ने ही मिथुन चक्रवर्ती को तमिलनाडु से लाकर राज्य सभा का सदस्य बनाया था। एक चिटफंड कंपनी का ब्रांड एंबेसडर बनने का मामला उभर कर सामने आया तो उन्होंने कंपनी को पूरी रकम लौटाने के बाद राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया और राजनीति से सन्यास लेने की घोषणा कर दी। दरअसल सौरव गांगुली और भाजपा की चर्चा उसी दिन से शुरू हो गई थी जिस दिन उन्हें सीएबी का अध्यक्ष और अमित शाह के पुत्र जय शाह को सचिव बनाया गया था। आप को बता दें कि जब सौरव गांगुली को हार्ट अटैक हुआ था तो मोदी और अमित शाह सहित भाजपा के सारे नेता फिक्रमंद हो गए थे। अमित शाह तो उन्हें हेलीकॉप्टर एंबुलेंस से दिल्ली ले जाने को आमादा थे।

इस बार मोदी की ब्रिगेड की सभा में सौरव गांगुली के आने की चर्चा अखबारों में सुर्खियों में बनी रही। हालांकि सिलीगुड़ी के विधायक और माकपा के भारी-भरकम नेता अशोक भट्टाचार्य ने एलान कर दिया था कि सौरव गांगुली ब्रिगेड में नहीं आएंगे। वैसे अक्षय कुमार के आने की भी चर्चा थी पर वह नहीं आए। दरअसल इस बार बंगाल में चेहरा एक आम सवाल बना हुआ है। तृणमूल के पास ममता बनर्जी हैं। एक जमाने में पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य वाममोर्चा का चेहरा हुआ करते थे। इस बार अस्वस्थ होने के कारण चुनावी मैदान से बाहर हैं। शुभेंदु अधिकारी से पूछा गया कि बंगाल में भाजपा का चेहरा कौन है तो उनका जवाब था मोदी जी हैं। अब कोई कैसे यकीन कर ले कि बंगाल की 294 सीटों पर मोदी जी ही चेहरा होंगे। अब यह बात दीगर है कि उन्हें इस पर पूरा भरोसा है।

(कोलकाता से वरिष्ठ पत्रकार जेके सिंह की रिपोर्ट।)

This post was last modified on March 9, 2021 9:52 am

Share
%%footer%%