Thursday, April 18, 2024

सबरीमाला मामले पर सुप्रीम कोर्ट के नौ जजों की पीठ !

रंजन गोगोई ने जाते-जाते सबरीमाला मंदिर में औरतों के प्रवेश के न्यायपूर्ण अधिकार के मामले को झूठ-मूठ का कुछ इस प्रकार उलझा कर छोड़ दिया कि अब सुप्रीम कोर्ट की नौ जजों की पीठ इस विषय की चीर-फाड़ के लिये लगा दी गई है  । वह पूरे विषय को कुछ ऐसे टटोल रही है जैसे कोई शरीर के अंगों को शरीर के अंदर विद्यमान न देख कर उनके बाहर बिखरे हुए रूप में देखे और उन पर चील कौवों की तरह टूट पड़े !

अब यह पीठ सभी धर्मों की सभी रीति-रिवाजों की संभावनाओं-असंभावनाओं पर विचार करेगी, बल्कि कहा जाए तो कुछ भी नहीं करेगी, और अंतत: एक घाल-मेल पैदा करके धर्म जगत के प्रभुत्वशालियों की जकड़बंदी को मज़बूत करेगी और स्त्रियों के धार्मिक अधिकार के प्रति न्याय को कठिन बना देगी । चौबे जी चले है छब्बे जी बनने पर तय है कि दूबे जी बन कर ही लौटेंगे । ये एक निश्चित विषय पर न्याय के प्रयोजन के प्रयोजन की मरीचिका के पीछे भटकेंगे !

वरिष्ठ वकील फाली नरीमन ने इस विषय में सुप्रीम कोर्ट की अधिकार सीमा और न्याय विवेक का बिल्कुल सही सवाल खड़ा किया है । 

(अरुण माहेश्वरी वरिष्ठ लेखक और स्तंभकार हैं। आप आजकल कोलकाता में रहते हैं।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

साम्राज्यवाद के ख़िलाफ़ जंग का एक मैदान है साहित्य

साम्राज्यवाद और विस्थापन पर भोपाल में आयोजित कार्यक्रम में विनीत तिवारी ने साम्राज्यवाद के संकट और इसके पूंजीवाद में बदलाव के उदाहरण दिए। उन्होंने इसे वैश्विक स्तर पर शोषण का मुख्य हथियार बताया और इसके विरुद्ध विश्वभर के संघर्षों की चर्चा की। युवा और वरिष्ठ कवियों ने मेहमूद दरवेश की कविताओं का पाठ किया। वक्ता ने साम्राज्यवाद विरोधी एवं प्रगतिशील साहित्य की महत्ता पर जोर दिया।

Related Articles

साम्राज्यवाद के ख़िलाफ़ जंग का एक मैदान है साहित्य

साम्राज्यवाद और विस्थापन पर भोपाल में आयोजित कार्यक्रम में विनीत तिवारी ने साम्राज्यवाद के संकट और इसके पूंजीवाद में बदलाव के उदाहरण दिए। उन्होंने इसे वैश्विक स्तर पर शोषण का मुख्य हथियार बताया और इसके विरुद्ध विश्वभर के संघर्षों की चर्चा की। युवा और वरिष्ठ कवियों ने मेहमूद दरवेश की कविताओं का पाठ किया। वक्ता ने साम्राज्यवाद विरोधी एवं प्रगतिशील साहित्य की महत्ता पर जोर दिया।