Tuesday, October 26, 2021

Add News

व्यंग्य

पर कोई उसकी दाढ़ी पर हाथ फेर रहा है

धीरे धीरे मुझे समझ में आ रहा है कि संस्कारी पार्टी वाले उसे पप्पू क्यों कहते हैं।  कल पप्पू ने राफेल डील पर टिप्पणी करते हुए सिर्फ़ इतना कहा - चोरी की दाढ़ी... जो पूरा मुहावरा न बोल पाए कि - चोरी...

तन्मय के तीर

(केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों के जरिए खेती-किसानी, अंबानी-अडानी को गिरवी रखने को तैयार है। किसान देश के लिए अन्न उपजाते हैं, लेकिन आज खुद उनके सामने वजूद का संकट है। जब किसान ही नहीं बचेगा तो देश का...

हमारा नीरो क़िस्सागो है!

एक बार की बात है, जम्बूद्वीप में एक राजा था। बड़ा ही किस्सागो। जैसा की चलन है कि हर राजा में कुछ न कुछ विशेष होना ही चाहिए, जैसे रोम के राजा को बांसुरी बजाने में महारत थी। जर्मनी...

‘जनता खिलौनों से खेले, देश से खेलने के लिए मैं हूं न!’

इस बार के 'मन की बात' में प्रधानसेवक ने बहुत महत्वपूर्ण मुद्दे पर देश का ध्यान आकर्षित किया है। बात इतनी महत्वपूर्ण है कि लगा यह 'मन की बात' नहीं 'आत्मा की बात' है। पता नहीं क्यों लोगों को...

जो अशोक किया, न अलेक्जेंडर उसे मोशा द ग्रेट ने कर दिखाया!

मैं मोशा का महा भयंकर समर्थक बन गया हूँ। कुछ लोगों की नज़र में वे भले ही कापुरुष हों लेकिन मेरे हिसाब से वे महापुरुष हैं। भारत के पहले आम चुनाव के बाद पहले प्रथम सेवक ने देश को एकजुट...

बचा-खुचा लंगड़ा लोकतंत्र भी हो गया दफ्न!

आह, अंततः लोकतंत्र बेचारा चल बसा। लगभग सत्तर साल पहले पैदा हुआ था, बल्कि पैदा भी क्या हुआ था। जैसे-तैसे, खींच-खांच कर बाहर निकाला गया था। अविकसित, अपूर्ण, रुग्ण। उम्मीद थी कि एक बार जैसे-तैसे बाहर आ जाएगा और...

प्रेमचंद के फटे जूते

प्रेमचंद का एक चित्र मेरे सामने है, पत्नी के साथ फोटो खिंचा रहे हैं। सिर पर किसी मोटे कपड़े की टोपी, कुरता और धोती पहने हैं। कनपटी चिपकी है, गालों की हड्डियां उभर आई हैं, पर घनी मूंछें चेहरे...

अद्भुत है मोदीजी की ‘कष्ट-थिरैपी’!

बात कई दिन पुरानी है, लेकिन है झकझोर देने वाली सच्ची घटना। एक नौकरशाह ने प्रधानमंत्री की चाटुकारिता करते हुए, उनका सच्चा हमदर्द बनते हुए और उनके प्रति वफ़ादारी जताते हुए कहा कि ‘सर, प्रवासी मज़दूर बहुत तकलीफ़ में...

सात नहीं सात हज़ार तालों में बंद है भक्तों का बब्बर शेर

क्या कोरोना 20-30 फिट दूर रखे दूरदर्शन के कैमरे से निकलने का एलान कर चुका है? दूरदर्शन के पास बेहतरीन कैमरे मौजूद हैं। जो दूर से भी थोबड़े को नजदीक दिखा सकते हैं। फिर भी इस बार मोदी का...

सियासत के साहूकार बेच रहे जनादेश

हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव संपन्न हो चुके हैं। महाराष्ट्र में सरकार बनाने की खींचतान अभी भी जारी है। उधर हरियाणा में सियासी साहूकारों ने चुनाव और जनादेश को बेच कर सियासत के सिंहासन पर सत्तासीन हो चुके...

Latest News

हाल-ए-यूपी: बढ़ती अराजकता, मनमानी करती पुलिस और रसूख के आगे पानी भरता प्रशासन!

भाजपा उनके नेताओं, प्रवक्ताओं और कुछ मीडिया संस्थानों ने योगी आदित्यनाथ की अपराध और भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त फैसले...