व्यंग

पर कोई उसकी दाढ़ी पर हाथ फेर रहा है

धीरे धीरे मुझे समझ में आ रहा है कि संस्कारी पार्टी वाले उसे पप्पू क्यों कहते हैं।  कल पप्पू ने…

3 weeks ago

तन्मय के तीर

(केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों के जरिए खेती-किसानी, अंबानी-अडानी को गिरवी रखने को तैयार है। किसान देश के लिए अन्न…

6 months ago

हमारा नीरो क़िस्सागो है!

एक बार की बात है, जम्बूद्वीप में एक राजा था। बड़ा ही किस्सागो। जैसा की चलन है कि हर राजा…

10 months ago

‘जनता खिलौनों से खेले, देश से खेलने के लिए मैं हूं न!’

इस बार के 'मन की बात' में प्रधानसेवक ने बहुत महत्वपूर्ण मुद्दे पर देश का ध्यान आकर्षित किया है। बात…

10 months ago

जो अशोक किया, न अलेक्जेंडर उसे मोशा द ग्रेट ने कर दिखाया!

मैं मोशा का महा भयंकर समर्थक बन गया हूँ। कुछ लोगों की नज़र में वे भले ही कापुरुष हों लेकिन…

12 months ago

बचा-खुचा लंगड़ा लोकतंत्र भी हो गया दफ्न!

आह, अंततः लोकतंत्र बेचारा चल बसा। लगभग सत्तर साल पहले पैदा हुआ था, बल्कि पैदा भी क्या हुआ था। जैसे-तैसे,…

12 months ago

प्रेमचंद के फटे जूते

प्रेमचंद का एक चित्र मेरे सामने है, पत्नी के साथ फोटो खिंचा रहे हैं। सिर पर किसी मोटे कपड़े की…

12 months ago

अद्भुत है मोदीजी की ‘कष्ट-थिरैपी’!

बात कई दिन पुरानी है, लेकिन है झकझोर देने वाली सच्ची घटना। एक नौकरशाह ने प्रधानमंत्री की चाटुकारिता करते हुए,…

1 year ago

सात नहीं सात हज़ार तालों में बंद है भक्तों का बब्बर शेर

क्या कोरोना 20-30 फिट दूर रखे दूरदर्शन के कैमरे से निकलने का एलान कर चुका है? दूरदर्शन के पास बेहतरीन…

1 year ago

सियासत के साहूकार बेच रहे जनादेश

हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव संपन्न हो चुके हैं। महाराष्ट्र में सरकार बनाने की खींचतान अभी भी जारी है।…

2 years ago