Subscribe for notification

हड़ताल के आगे झुकी सरकार, वापस लेना पड़ा डीटीसी कर्मचारियों के वेतन कटौती का फैसला

जनचौक ब्यूरो

दिल्ली। ऐक्टू से सम्बद्ध डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर द्वारा बुलायी गयी और डीटीसी वर्कर्स यूनियन (एटक) एवं डीटीसी एम्प्लाइज कांग्रेस (इंटक) द्वारा समर्थित एक दिवसीय हड़ताल ने आज दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के पहियों को जाम कर दिया। निगम (डीटीसी) के ग्यारह हज़ार से ज्यादा अनुबंधित कर्मचारियों और ढेर सारे स्थाई कर्मचारियों ने हड़ताल में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। हड़ताल की मुख्य मांगों में से एक को हड़ताल से ठीक एक दिन पहले डीटीसी प्रबंधन द्वारा मान लिए जाने और एस्मा लगाए जाने के बावजूद डीटीसी के कर्मचारी पूरी ताकत से हड़ताल में उतरे।

हड़ताल के दबाव में वेतन कटौती का सर्कुलर वापस लिए जाने से मजदूरों को कुछ राहत ज़रूर मिली है, लेकिन अभी भी प्रबंधन और सरकार अस्थायी कर्मचारियों के लिए समान काम के समान वेतन, पक्का करने व डीटीसी में बसों कि संख्या बढ़ाने पर चुप है। ऐक्टू का मानना है कि सरकार को अब अपना घमंडी रवैया छोड़कर कर्मचारियों की मांगों पर बात करके ठोस कदम उठाना चाहिए।

डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर के महासचिव राजेश चोपड़ा ने हड़ताल के दौरान कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार एस्मा लगाकर भी हमारे संघर्षों  को नहीं रोक सकती। बल्कि एस्मा लगाकर दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने ये साबित कर दिया है कि नीतिगत मामलों में हरियाणा में रोडवेज कर्मचारियों पर एस्मा लगाने वाली भाजपा सरकार और दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार में कोई फर्क नहीं है। चाहे एस्मा लागू हो या नहीं, हम हर अन्याय के विरुद्ध लड़ाई करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

केन्द्रीय श्रम संगठनों का समर्थन

भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर सभी केन्द्रीय श्रम संगठनों ने डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर (ऐक्टू से संबद्ध) द्वारा बुलायी गयी हड़ताल का समर्थन किया था। विभिन्न ट्रेड यूनियनों के नेताओं ने आज की हड़ताल में भाग लेते हुए गिरफ्तारी भी दी। डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर के प्रेमपाल चौटेला, श्रीरमन व राजेश समेत सीटू के छोटेलाल व हीरालाल को हड़ताल में शामिल होने के चलते दिल्ली पुलिस ने हिरासत में भी लिया।

डीटीसी वर्कर्स यूनियन (एटक) के राजाराम त्यागी, महावीर त्यागी व सीटू के एचसी पन्त तथा हिन्द मजदूर सभा के दिल्ली राज्य सचिव राजेंदर जी ने भी हड़ताल में अहम भूमिका निभाई।दिल्ली एक्टू के अध्यक्ष संतोष राय ने हड़ताल को सफल बनाने के लिए सभी यूनियनों का धन्यवाद दिया और ये भी कहा कि आगे की तैयारी सभी संगठनों से परामर्श के बाद की जाएगी।

एस्मा के बावजूद संघर्ष जारी रखने का ऐलान

हड़तालकासमर्थनकरतेहुएहरियाणारोडवेजकेसंघर्षरतकर्मचारियोंनेडीटीसीडिपोकेबाहरहड़तालीकर्मचारियोंकीसभाकोसंबोधितकिया। गौरतलबहैकिदिल्लीमेंआपसरकारद्वारालगाएगएएस्माकीतरहहीहरियाणामेंनिजीकरणकेखिलाफलड़नेवालेकर्मचारियोंपरवहांकीभाजपासरकारनेएस्मालगायाहै।

संतोष राय ने बताया कि डीटीसी कर्मचारियों की स्थिति काफी खराब है, सार्वजनिक परिवहन में कमी के चलते दिल्ली में प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है। दिल्ली सरकार को ये साफ़ तौर पर समझ लेना चाहिए कि ये मांगें सिर्फ डीटीसी कर्मचारियों की नहीं बल्कि दिल्ली की जनता की भी हैं।

ऐक्टू दिल्ली राज्य परिषद ने डीटीसी के सभी संघर्षरत कर्मचारियों और दिल्ली की आम जनता को हड़ताल को सफल बनाने के लिए बधाई दिया है।

This post was last modified on November 30, 2018 4:02 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Share
Published by