Thu. Oct 24th, 2019

बीएचयू में छात्र-छात्राओं का संघर्ष रंग लाया, मांगों के माने जाने के साथ ही 8 दिनों से जारी अनशन समाप्त

1 min read
अस्पताल में भर्ती अनशनकारी छात्र।

वाराणसी। भगत सिंह छात्र मोर्चा के नेतृत्व में गत 24 सितंबर 2019 से चल रहा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल 8वें दिन मंगलवार रात 9 बजे कुलपति राकेश भटनागर से छात्र, छात्राओं के 10 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल के साथ बातचीत के बाद समाप्त हो गया। 

अनशनरत छात्रों की खराब होती तबियत और विश्वविद्यालय प्रशासन के संवेदनहीन व तानाशाही पूर्ण रवैये से आक्रोशित छात्र-छात्राओं ने दोपहर में यह तय किया कि पूरे कैंपस में जुलूस निकालकर वाइस चांसलर आवास का घेराव किया जाएगा और फिर उनके आवास पर ही भूख हड़ताल को जारी रखा जाएगा। जुलूस ज्यों ही छात्र अधिष्ठाता कार्यालय से निकल कर आगे बढ़ा चीफ प्रॉक्टर ओपी राय ने भारी पुलिस बल को बुलाकर जुलूस को रोकने की कोशिश की। छात्रों से पुलिस अधिकारियों और चीफ प्रॉक्टर की तीखी झड़प हो गयी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर Janchowk Android App

आखिर में आक्रोशित छात्र-छात्राएं जुलूस निकालकर वीसी आवास को घेरने में सफल हो गए। वाइस चांसलर आवास पर भारी नारेबाजी और भाषणों के बीच अनशनरत छात्रों में से एक विश्वनाथ वहीं पर बेहोश हो गए । जिसके बाद उन्हें तुरंत सर सुन्दरलाल अस्पताल के आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में भरती कराया गया। विश्वनाथ के भरती होने के तुरंत बाद एक और अनशनकारी छात्र शशिकांत को भी भरती कराना पड़ा। जिससे छात्रों का आक्रोश और ज्यादा बढ़ गया। 

छात्रों के बढ़ते रोष को देखते हुए वाइस चांसलर ने छात्र-छात्राओं के प्रतिनिधि मंडल को वार्ता के लिए आमंत्रित कर लिया। अनशनकारी छात्रा व भगत सिंह छात्र मोर्चा की सहसचिव आकांक्षा आज़ाद के नेतृत्व में छात्र-छात्राओं का 10 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल वाइस चांसलर से वार्ता के लिए पहुंचा। छात्रों के 10 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल में आकांक्षा आज़ाद, नीतीश, शैली, आयुशी, दीपक, रविन्द्र, विवेक, अर्जुन, आशुतोष और रंजन शामिल थे। वाइस चांसलर से दो घंटे लंबी चली वार्ता में प्रशासन ने जो मांगें मान ली हैं, और जिन पर सहमति बनी है, वो इस प्रकार हैं:

1. रात में 11 से सुबह 8 बजे तक के लिए लाइब्रेरी के पास एक रीडिंग रूम होगा। गर्ल्स स्टूडेंट्स भी होस्टल्स से अनुमति लेकर जा सकेंगी। 

2. प्रत्येक आवश्यक स्थान पर गर्ल्स वॉशरूम बनाया जायेगा।

3. लड़कियों के सारे होस्टल्स में कैंटीन बनायी जाएंगी। 

4. लाइब्रेरी में सारी बुक अपडेट की जाएंगी। रेकॉमेंडेशन से।

5. विकलांग छात्रों के लिए सुविधा मुहैया करायी जाएगी। 

6. कैम्पस में सेनेटरी वेंडिंग मशीन लगाई जाएंगी।

7. लड़कियों के लिये सोशल साइंस में एक हॉस्टल। रिसर्च स्कॉलर छात्राओं के लिये एक हॉस्टल। कॉमर्स की छात्राओं के लिए एक हॉस्टल आदि का निर्माण होगा। 

8. 100 से अधिक क्षमता वाले क्लास रूम में माइक लगवाया जायेगा।

कुलपति से हुई वार्ता के बाद अनशनकारी छात्रा आकांक्षा आज़ाद और छात्र विश्वनाथ एवं शशिकांत ने दर्शनशास्त्र विभाग में प्रोफेसर डॉ.प्रमोद बागड़े और मानवाधिकार कार्यकर्ता सीमा आज़ाद के हाथ से जूस पीकर अपने भूख हड़ताल को समाप्त किया।

Donate to Janchowk
प्रिय पाठक, जनचौक चलता रहे और आपको इसी तरह से खबरें मिलती रहें। इसके लिए आप से आर्थिक मदद की दरकार है। नीचे दी गयी प्रक्रिया के जरिये 100, 200 और 500 से लेकर इच्छा मुताबिक कोई भी राशि देकर इस काम को कर सकते हैं-संपादक.

Donate Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *