Monday, January 24, 2022

Add News

ऐक्टू ने किया निर्माण मजदूरों के सवालों पर दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल के सामने प्रदर्शन

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (ऐक्टू) से सम्बद्ध बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन ने निर्माण मजदूरों की विभिन्न मांगों को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल के समक्ष प्रदर्शन किया। ज्ञात हो कि प्रदूषण रोकने के नाम पर हर साल होने वाली ‘कामबन्दी’ से लाखों की संख्या में निर्माण मजदूर प्रभावित होते हैं। आर्थिक-सामाजिक सुरक्षा के नाम पर इन मजदूरों के पास कुछ भी नहीं होता – ऐसे में दिल्ली सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में कोई भी नीति नहीं बनाने के चलते मजदूरों की हालत दिनोंदिन और खराब हो रही है।

सुश्रुत ट्रामा सेंटर से मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय की ओर निकाला मार्च 

दिल्ली के नरेला, जहांगीरपुरी, संत नगर – बुराड़ी, वजीराबाद, वजीरपुर, तिमारपुर, मुस्तफाबाद, करावल नगर, गाँधी नगर, झिलमिल, संगम विहार, ओखला, भाठी माइंस, नजफगढ़ समेत कई इलाकों से निर्माण मजदूरों ने आज के कार्यक्रम में हिस्सा लिया। कार्यक्रम की शुरुआत सुश्रुत ट्रामा सेंटर से मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय की ओर जुलूस निकालकर हुई। दिल्ली पुलिस द्वारा मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय तक का रास्ता बंद किये जाने के चलते सड़क पर ही सभा हुई। सभा की शुरुआत भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) के राज्य सचिव रवि राय ने अपनी बात रखते हुए की। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री उन राज्यों में जहां चुनाव होनेवाले हैं, तमाम झूठे-सच्चे वादे कर रहे हैं, पर दिल्ली के मजदूरों के विषय में सोचने का समय उनके पास नहीं है। दिल्ली सरकार केंद्र द्वारा लाए जा रहे मजदूर विरोधी श्रम कोड के सवाल पर भी चुप है। यह बहुत निंदनीय है। 

जब प्रदूषण के ज़िम्मेदार गरीब नहीं तो भुगतान केवल गरीब-मेहनतकश को ही क्यों करना पड़ रहा है ? 

न्यूनतम मजदूरी के बराबर आर्थिक सहायता प्रदान करे सरकार 

बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष राजीव जो पेशे से राज मिस्त्री हैं ने अपनी बात रखते हुए कहा कि प्रदूषण की समस्या कोई नई समस्या नहीं है – हर साल प्रदूषण नियंत्रण के नाम पर निर्माण कार्य रोका जा रहा है। इस कारण जहां एक तरफ पैसे वाले लोगों को विशेष अंतर नहीं पड़ रहा वहीं दूसरी तरफ दिहाड़ी मजदूर भूख-बेरोज़गारी से परेशान हो रहे हैं। मजदूर प्रदूषण के दुष्प्रभावों को भलीभांति समझते हैं। दिल्ली के मजदूर ही दिल्ली के सबसे प्रदूषित इलाकों में रहने के लिए मजबूर हैं, पर खाली पेट दिन काटना उनके लिए संभव नहीं है। दिहाड़ी पर काम करने वाले मजदूर हर रोज़ काम करने के पश्चात ही अपना पेट भर पाते हैं। दिल्ली सरकार को चाहिए की सभी पंजीकृत और गैर-पंजीकृत निर्माण मजदूरों के लिए  न्यूनतम मजदूरी के बराबर आर्थिक सहायता/ बेरोज़गारी भत्ता प्रदान करे। दिल्ली के मुख्यमंत्री द्वारा हाल ही में घोषित 5000 रूपए की आर्थिक सहायता काफी कम है और सभी मजदूरों तक नहीं पहुँच पा रही है।

सरकार अपनी जेब से न तो पैसे खर्च कर रही है न ही कोई नीति बना रही है 

ऐक्टू के दिल्ली राज्य अध्यक्ष विनोद कुमार सिंह गौतम ने सभा को संबोधित करते हुए बताया कि दिल्ली सरकार अपनी जेब से एक भी पैसा मजदूरों को नहीं दे रही। पांच हज़ार रूपए की आर्थिक सहायता – जो कि दिल्ली में घोषित न्यूनतम वेतन से कई गुना कम है – निर्माण मजदूरों के कल्याण बोर्ड के पास उपलब्ध फंड से दी जा रही है। देश की राजधानी दिल्ली में समय-समय पर होने वाली ‘कामबन्दी’ को देखते हुए सरकार के पास मजदूरों की आजीविका के लिए कोई नीति होनी चाहिए थी, परन्तु ऐसा नहीं है। ये बेहद दुःख की बात है। दिल्ली सरकार को अपने बजट का कुछ हिस्सा ऐसी परिस्थितियों में मजदूर-कल्याण हेतु अलग करना चाहिए। आज जब पेट्रोल से लेकर घरेलू गैस तक के दाम आसमान छू रहे हैं, टमाटर जैसी सब्जियां आम जनता की पहुँच से बाहर हो गई हैं – तब दिल्ली और केंद्र की सरकारें केवल विज्ञापन देने में व्यस्त हैं।

दिल्ली के विभिन्न लेबर चौकों से लगभग 5000 श्रमिकों के हस्ताक्षर के साथ सौंपा गया मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल को ज्ञापन  

प्रदर्शन के पश्चात लगभग 5000 निर्माण श्रमिकों के हस्ताक्षर के साथ एक ज्ञापन दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल को सौंपा गया। ज्ञापन में निम्नलिखित मांगों को उठाया गया – 

1. कामबन्दी के दौरान दिल्ली सरकार ने अपने द्वारा ही तय किये गए न्यूनतम वेतन से कई गुना कम ‘वित्तीय सहायता राशि’ की घोषणा की  है। सरकार इस बात से अच्छी तरह से अवगत है कि न्यूनतम मजदूरी से कम में गुज़ारा करना किसी भी मजदूर के लिए असंभव है। अतः हम मांग करते हैं कि  सभी पंजीकृत एवं गैर पंजीकृत निर्माण मजदूरों को कम से कम दिल्ली में लागू न्यूनतम मजदूरी के बराबर वित्तीय सहायता राशि/ बेरोज़गारी भत्ता दिया जाए। जिन निर्माण मजदूरों का पंजीकरण निर्माण मजदूरों के लिए बने वेलफेयर बोर्ड में नहीं हुआ है, उन्हें भी सहायता प्रदान की जाए और उनके पंजीकरण की प्रक्रिया को तेज़ किया जाए

2. चूंकि प्रदूषण की समस्या के निदान हेतु हर साल निर्माण कार्य पर प्रतिबन्ध लगाना पड़ रहा है, अतः इस कामबन्दी से मजदूरों को होने वाले नुकसान के विषय में दिल्ली सरकार, ट्रेड यूनियनों से वार्ता कर नीति बनाए।

3. निर्माण मजदूरों की आजीविका की गारंटी के लिए दिल्ली सरकार अपने बजट का कम-से-कम 5 फीसदी हिस्सा निर्माण मजदूरों के कल्याण के लिए अलग से आवंटित करे। अगर ज़रूरी हो तो दिल्ली सरकार अपने प्रचार-होर्डिंग में खर्च हो रहे पैसे निर्माण मजदूरों के कल्याण में लगाए।

4. निर्माण मजदूरों के कल्याण के लिए बने बोर्ड को सशक्त करने हेतु सभी सरकारी-गैर सरकारी संस्थानों/ व्यक्तियों/ कंपनियों से बकाये ‘सेस’ की तत्काल वसूली की जाए।

5. जिस प्रकार से किसानों की मांगों और ऐतिहासिक आन्दोलन के दबाव में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने केंद्र द्वारा लाए गए ‘कृषि कानूनों’ के प्रति अपना विरोध प्रकट किया उसी प्रकार वो मजदूर-विरोधी ‘लेबर कोड’ के खिलाफ भी अपना विरोध व्यक्त करें।

कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा करते हुए ऐक्टू के राज्य अध्यक्ष ने कहा कि हमारी यूनियन ने इस तरह बिना किसी प्लानिंग के किये जा रहे ‘कामबन्दी’ के विरुद्ध पहले भी प्रदर्शन किया है। हम अपनी मांगों की लड़ाई आगे भी जारी रखेंगे।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कब बनेगा यूपी की बदहाली चुनाव का मुद्दा?

सोचता हूं कि इसे क्या नाम दूं। नेताओं के नाम एक खुला पत्र या रिपोर्ट। बहरहाल आप ही तय...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -