Mon. May 25th, 2020

पत्नी को कंधे पर बैठाकर तय की हज़ारों किमी की दूरी

1 min read
अपनी पत्नी को ढोता एक शख़्स।

लोककथाओं में हमने श्रवण की कहानी सुनी थी। जिसमें वह दोनों आँखों से न देख सकने वाले अपने माता-पिता को तराज़ू में रखकर अपने कंधे के सहारे तीर्थाटन कराते हैं। लेकिन एक शख़्स अपनी पत्नी के लिए श्रवण बन गया। राजस्थान का रहने वाला यह युवक गुजरात मज़दूरी के लिए गया था। कोरोना महामारी के बाद आए लॉकडाउन ने उसे घर लौटने के लिए मजबूर कर दिया। लेकिन उसके सामने समस्या दोगुनी थी क्योंकि उसकी पत्नी का पैर फ़्रैक्चर हो गया था और वह किसी भी रूप में पैदल चलने के काबिल नहीं थी। लिहाज़ा उसने पत्नी को अपने कंधे पर बैठाकर घर ले जाने का संकल्प लिया।

‘बचाव ही उपाय है’ के ब्रह्मास्त्र को दागते हुए प्रधानमंत्री जी ने पहले एक दिन का जनता कर्फ्यू मांगा और तत्पश्चात कोरोना के अदृश्य महादैत्य से निपटने के लिए पूरे देश में आवाजाही पर ताला लगा दिया। राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए तीन दिन पहले इक्कीस दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर डाली। सचेत भी कर दिया कि इसे कर्फ्यू ही समझें। 

Donate to Janchowk
प्रिय पाठक, जनचौक चलता रहे और आपको इसी तरह से खबरें मिलती रहें। इसके लिए आप से आर्थिक मदद की दरकार है। नीचे दी गयी प्रक्रिया के जरिये 100, 200 और 500 से लेकर इच्छा मुताबिक कोई भी राशि देकर इस काम को आप कर सकते हैं-संपादक।

Donate Now

Scan PayTm and Google Pay: +919818660266

कोरोना महामारी मामूली नहीं है। 

जिन विकसित और स्वास्थ्य सेवाओं में अव्वल राष्ट्रों ने इसे हल्के में लिया, वे अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस, ब्रिटेन जैसे देश आज हर रोज हो रही सेकड़ों मौतों और हजारों की शक्ल में बढ़ रही संक्रमित लोगों की संख्या को लेकर बेहद चिंतित हैं। ब्रिटेन में प्रिंस चार्ल्स के बाद खुद प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का कोरोना की चपेट में आ जाना साफ जाहिर करता है कि मौजूदा विपत्ति में कोई भी व्यक्ति अपनी सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकता है। ऐसे में हमारे प्रधानमंत्री द्वारा बचाव ही उपाय के शिविर से लॉक डाउन का ब्रह्मास्त्र दागना किसी भी प्रकार से अनुचित नहीं है। केन्द्र हो या राज्य सरकार, सभी बेहतर से बेहतर मुकाबले के लिए तैयारी कर रही हैं। 

योध्दा मैदान में डटे हुए हैं। अपनी जान पर खेलकर हमें और आपको उस खतरनाक वॉयरस से बचा रहे उन सभी जांबाज योद्धाओं के लिए दिल से सैल्यूट तो बनता ही है। हमें स्वास्थ्य सेवा, पुलिस, सेना और प्रशासनिक पदों पर आसीन रहकर दिन रात सेवाएं दे रहे उन तमाम अधिकारियों और कर्मचारियों का हृदय से आभार व्यक्त करना चाहिए, जो हमें घरों में मूंदकर (ताकि हम जिंदा रह सकें) खुली आंखों से दिखाई नहीं देने वाले इस खतरनाक महादैत्य से मुकाबले के लिए मैदान में डटे हुए हैं। 

हमारे जीवन को कोरोना की आंच से बचाने के लिए सुरक्षा कवच बनीं सरकारों और सरकारी नुमाइंदों की मंशा पर हमें कोई शंका नहीं है लेकिन 21 दिन का लॉकडाउन करने से पहले कहीं ना कहीं और किसी छोटे या बड़े स्तर पर एक बड़ी चूक अवश्य हुई है। हमारे देश के लाखों-करोड़ों लोग परिवार के भरण पोषण के लिए गांव और देहात की पगडंडियों से निकल बड़े शहरों और महानगरों में डेरा जमाए बैठे थे। लाखों की तादाद में तो पूरा परिवार ही पेट में जलती भूख की आग को मिटाने के लिए शहरों की शरण में पहुंचा। दुख इस बात का है कि ना तो केन्द्र ने और ना ही राज्य सरकारों ने लॉकडाउन से पहले इन लाखों करोड़ों आप्रवासियों के लिए कोई कार्ययोजना तैयार की। 

इस बड़ी चूक की अनगिनत तस्वीरें आज शहरों और महानगरों से निकलने वाली प्रत्येक सड़क पर दिखाई दे रही हैं। हृदय को झिंझोड़ने वाली इन तस्वीरों से पल-प्रतिपल रिस रहे दर्द की फिलवक्त कोई दवा भी नजर नहीं आ रही है। यातायात के तमाम साधन बंद और सड़कें सूनी हैं। ऐसे में खाली जेब और रीते पेट के चलते गुजरात से राजस्थान तक सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करके उस मजदूर को अपनी पत्नी को कंधे पर लादकर लाने के लिए मजबूर कर दिया है। वह जीना चाहता है। वह ही क्यों, घर छोड़कर बाहर गया भूख से बेबश और विवश हरेक मजदूर इन विषम परिस्थितियों में अपने घर जाना चाहता है। यहां भूख से मरने के बजाय टूटकर, थक हारकर अपने घर-परिवार के बीच उसे देह त्यागना मंजूर है।

इसीलिए दिल्ली में मजूरी करने वाले एक व्यक्ति ने मजूरी के पैसों से साइकिल का जुगाड़ किया। साइकिल के फ्रेम में गद्दी नुमा कपड़ा बांधा (ताकि जिगर के टुकड़े को रास्ते में तकलीफ ना हो) और दुधमुंहे बच्चे को महारानी लक्ष्मीबाई की मानिंद पीठ बना फ्रेम से जुडे हैंडिल से कपड़े के जरिए कसकर बांध दिया। पैडल मारने से पहले पत्नी को पीछे करियर पर बिठाया और चल पड़ा, अपने घर की ओर। वह चाहता कि यदि वह मरे तो उसका अंतिम संस्कार लावारिसों की तरह नहीं हो।

ये दृश्य सिर्फ़ वानगी हैं। असल तस्वीर अत्यंत भयावह और डरावनी हैं। इधर को ‘रोना’, उधर कोरोना से ग्रसित ये लाखों करोड़ों लोग सड़कों पर बेतहाशा चले जा रहे हैं। मंजिल कितनी दूर है, इसकी किसी को फ्रिक नहीं है। रास्ते में कहीं पुलिस के बेरहम डंडे तो कहीं पुलिस का आतिथ्य मिलता है। भोजन भी और सोने और थकान मिटाने का साधन भी। अब आप ही बताएं कि इधर को ‘रोना’ और उधर ‘कोरोना’ का स्थाई इलाज क्या है?

(मदन कोथुनियां वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता हैं और जनचौक के लिए जयपुर से रिपोर्ट करते हैं।)

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर Janchowk Android App

Leave a Reply