Saturday, May 28, 2022

कोरोनाकाल में देश के अरबपतियों की संपत्ति में बेतहाशा इजाफा

ज़रूर पढ़े

कोविड-19 महामारी के चलते दुनिया भर की अर्थव्यवस्थायें तबाह हो गईं। काम-काज और नौकरी खोकर गरीब और गरीब हो गया। छात्रों की पूरी एक साल की पढ़ाई चौपट हो गई। सब कुछ अस्त-व्यस्त और ठप्प हो गया। लेकिन एक चीज इस कोरोनाकाल में भी बदस्तूर जारी रही, वो है पूंजीपतियों की संपत्ति में बढ़ोत्तरी।  

जिस भारत देश की जीडीपी ग्रोथ कोरोना काल में गिरकर 23.9 प्रतिशत निगेटिव चली गई हो उस भारत के पूंजीपतियों की संपत्ति में इजाफा होना गर्व की बात है ये शर्म की बिना इस पचड़े में पड़े मैं आपको फोर्ब्स द्वारा जारी उस रिपोर्ट के आंकड़े बताता हूँ जो कहती है कि कोरोनाकाल में भारत के अरबपतियों की संपत्ति में 5.5 लाख करोड़ का इजाफा हुआ है।

फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक साल, 2020 में दुनिया भर के अमीरों की संपत्ति में 840 लाख करोड़ रुपये की जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। वहीं इस साल दुनिया भर के 2200 से अधिक अरबपतियों की संपत्ति में 139.73 लाख करोड़ रुपये (1.9 ट्रिलियन डॉलर) तक की बढ़ोत्तरी हुई है।

भारत देश फोर्ब्स की सूची में चौथे स्थान पर है। भारतीय अरबपतियों की संपत्ति में पिछले एक साल में 5.5 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोत्तरी दर्ज की गयी है। यह अब बढ़कर 35.3 लाख करोड़ रुपये (48 हजार करोड़ डॉलर) पहुंच गई। इस प्रकार भारत के अरबपतियों की सपत्ति में कुल 19 प्रतिशत का इजाफा साल 2020 में हुआ है।

फोर्ब्स के मुताबिक पिछले हफ्ते 11 दिसंबर को दुनिया भर के अरबपतियों की नेटवर्थ 838.14 लाख करोड़ रुपये (11.4 ट्रिलियन डॉलर) की थी जो पिछले साल 31 दिसंबर 2019 के मुकाबले 20 प्रतिशत अधिक है। जबकि पिछले साल के अंतिम दिन दुनिया भर के 2200 से अधिक अरबपतियों की नेटवर्थ 698.45 लाख करोड़ रुपये (9.5 ट्रिलियन डॉलर) थी। बता दें कि यह कैलकुलेशन स्टॉक प्राइसेज के आधार पर किया जाता है।

कम्युनिस्ट चीन में सबसे अधिक अमीर हुए कार्पोरेट

कोविड-19 की शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई। और चीन कोरोना के लिए दुनिया के निशाने पर रहा। फोर्ब्स की रिपोर्ट में कम्युनिस्ट चीन के अरबपतियों की संपत्ति पिछले एक साल में दुनिया में सबसे अधिक बढ़ी है। रिपोर्ट के मुताबिक उनकी संपत्ति 60 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज करते हुए 55.2 लाख करोड़ रुपये बढ़कर 147.08 लाख करोड़ रुपये (2 ट्रिलियन डॉलर) पहुंच गई।

जबकि चीन की तुलना में अमेरिकी अरबपतियों की नेटवर्थ 294.18 लाख करोड़ रुपये (4 ट्रिलियन डॉलर) है। यानि अमेरिकी अरबपतियों की संपत्ति पिछले एक साल में 41.2 लाख करोड़ रुपये (56 हजार करोड़ डॉलर) बढ़ी है।

सरकार की ओर से कार्पोरेट टैक्स में छूट समेत भारी राहत पैकेज मिला था कार्पोरेट को

मई महीने में केंद्र सराकर ने 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा की थी। जोकि भारत की कुल जीडीपी का 10वां हिस्सा था।  इसके अलावा कार्पोरेट टैक्स की दरों में भी 10 प्रतिशत की कटौती की गई थी। जिससे कार्पोरेट के 1.43 लाख करोड़ रुपये का फायदा होने की उम्मीद बताई गयी थी।

इस 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज में सिर्फ़ 1.7 लाख करोड़ रुपये गरीब आबादी को मुफ्त अनाज व नगदी के लिये आवंटित किये गये थे। वहीं तीन महीने पहले यानि सितंबर में फिक्की ने कार्पोरेट के लिए एक और राहत पैकेज की मांग की थी।

जबकि केंद्र सरकार के आह्वान के बावजूद किसी भी कंपनी या फैक्ट्री ने लॉकडाउन का पेमेंट किसी मजदूर या कर्मचारी को नहीं किया था। और तो और कोरोनाकाल की आड़ में कंपनियों ने लाखों कर्मचारियों की नौकरी छीनकर उन्हें बैरंग ही घर भेज दिया था।

कोरोना में भी मुनाफा कमाने वाले भारत के अरबपति

कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलत भले ही दुनिया भर के देशों की अर्थव्यवस्थाओं पर बुरा प्रभाव पड़ा और कई लोगों को रोजगार गंवाना पड़ा हो। छोटी कंपनियों को बंद करना पड़ा हो। लेकिन इसके विपरीत भारत के कुछ अरबपतियों की संपत्ति में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है।

ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स की ताजा सूची के मुताबिक भारत में पिछले एक साल में सबसे अधिक दौलत गौतम अडानी की बढ़ी है। गौतम अडानी की नेटवर्थ 17 दिसंबर, 2020 को 2.4 लाख करोड़ रुपये (3250 करोड़ डॉलर) है जो कि पिछले साल 17 नवंबर, 2019 की तुलना में 1.6 लाख करोड़ रुपये (2120 करोड़ डॉलर) अधिक है। गौतम अडानी का कारोबारी साम्राज्य पोर्ट, हवाई अड्डा, एनर्जी, लॉजिस्टिक्स, एग्रो बिजनेस, रियल एस्टेट, रक्षा और फाइनेंशियल सर्विसेज में है। ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स की सूची में गौतम अडानी 40वें स्थान पर है।

कोरोना काल में गौतम अडानी के बाद देश में सबसे अधिक संपत्ति मुकेश अंबानी की बढ़ी है। ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स के मुताबिक मुकेश अम्बानी की संपत्ति 17 दिसंबर, 2020 को 5.6 लाख करोड़ रुपये (7570 करोड़ डॉलर) अनुमानित की गई है जो कि पिछले साल की 1.3 लाख करोड़ रुपये (1710 करोड़ डॉलर) की तुलना में अधिक है। बता दें कि मुकेश अंबानी का कारोबार रिटेल, पेट्रोकेमिकल, आयल एंड गैस, टेलीकॉम एंड रिटेल में है। दुनिया भर के अमीरों की सूची में मुकेश अम्बानी को ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स की सूची में 11वें स्थान पर रखा गया है।

अडानी, अंबानी के बाद सबसे अधिक संपत्ति वैक्सीन किंग सायरस पूनावाला की बढ़ी है। उनकी नेटवर्थ 17 दिसंबर, 2020 को 1.2 लाख करोड़ रुपये (1590 करोड़ डॉलर) रही जो पिछले साल के मुकाबले 52.6 हजार करोड़ रुपये (715 करोड़ डॉलर) अधिक है। सायरस पूनावाला को ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स की सूची में 125वें स्थान पर रखा गया है।

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

नॉर्थ ईस्ट डायरी: असम में दोहराई जा रही यूपी की बुल्डोजर राजनीति?

क्या उपद्रवियों को दंडित करने के लिए बुल्डोजर को नवीनतम हथियार बनाकर  असम उत्तर प्रदेश का अनुसरण कर रहा...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This