Wednesday, October 27, 2021

Add News

बंगाल में बीजेपी को बड़ा झटका, बाबुल सुप्रियो ने थामा टीएमसी का दामन

ज़रूर पढ़े


शनिवार को तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव  अभिषेक बनर्जी एवं सांसद तृणमूल के मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन की मौजूदगी में बाबुल सुप्रियो राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी में शामिल हो गए। तृणमूल में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने पत्रकार वार्ता कर बताया कि ममता बनर्जी पर राज्य की जनता को पूरा भरोसा है। बंगाल की सेवा करने का जो अवसर मुझे मिला है उसके लिये मैं सभी के प्रति आभारी हूं।  उन्होंने कहा कि बंगाल की सेवा करना मेरा प्रण है। पश्चिम बंगाल के विकास के लिये हर काम करूंगा। साथ ही कहा कि आसनसोल की वजह से ही आज मैं यहां तक आया हूं। आगे भी मैं आसनसोल की जनता के साथ बना रहूंगा।

भाजपा से लंबे समय से नाराज थे बाबुल

बाबुल साल 2014 में मोदी लहर के दौरान आसनसोल से सांसद चुने गए। उसके बाद उनको मोदी मंत्रिमंडल के दौरान कई अहम पद दिए गए। जिसके कारण वो आसनसोल में भी कम रहते थे। अक्सर आसनसोल भाजपा में इसको लेकर चर्चा भी होती रही है। यहां तक कि भाजपा के दूसरे गुट के साथ उनकी लड़ाई भी हुई थी। आसनसोल में दबी जुबान से ही सही लेकिन भाजपा कार्यकर्ता बाबुल को पार्टी से बाहर निकालने की ताक में थे।
इसी बीच, पिछले महीने अचानक अपने एक फेसबुक पोस्ट से बाबुल ने सबको चौंका दिया था। जहां उन्होंने ये कहा था कि वो राजनीति छोड़ रहे हैं। बहुत जल्द ही वो अपने सांसद पद से भी इस्तीफा दे देंगे और सरकारी बंगला भी खाली कर देंगे। लेकिन इसके बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद उनकी सोच में परिवर्तन आया। उन्होंने बताया था कि वे अपने कुछ फैसलों  पर कायम रहेंगे और सांसद पद पर बने रहेंगे।

इसके पीछे का कारण यह था कि मोदी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान बाबुल को उनके मंत्रालय से हटा दिया गया था। इस घोषणा से पहले ही बाबुल ने एक फेसबुक पोस्ट में यह लिख था कि उन्हें इस्तीफा देने को कहा गया। और उन्होंने दे दिया।

साथ ही कहा था कि उनकी पार्टी भाजपा है वो उससे हमेशा जुड़े रहेंगे। इसलिए सांसद पद से इस्तीफा देने की बात के बाद उन्हें आसनसोल में जिला भाजपा की कमान सौंपी गई थी। लेकिन लगातार पार्टी में हो रही उनकी तौहीन का नतीजा यह है कि आज वो टीएमसी में शामिल हो गए हैं।
टीएमसी में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने कहा कि मुझे बहुत ही गर्व है कि मैंने अपना फैसला बदल लिया है।  मुझे बंगाल के नागरिकों की सेवा का जो अवसर मिला है उसके लिये मैं बहुत उत्साहित हूं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और अभिषेक बनर्जी ने मुझे सेवा का  एक बहुत बड़ा अवसर दिया है।  इसके लिये मैं सदैव उनका आभारी रहूंगा।

(पश्चिम बंगाल से पूनम मसीह की रिपोर्ट।) 

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

दो सीटों पर हो रहे उपचुनाव में बीजेपी-जेडीयू को मिलेगी करारी शिकस्त: दीपंकर भट्टाचार्य

पटना। दो विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव में अपनी हार देख नीतीश कुमार एक बार फिर अनाप-शनाप की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -