संसद में गूंजी दिल्ली हिंसा, विपक्ष ने एक सुर में की गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा का मसला आज संसद में भी गूंजा। विपक्षी दलों ने दोनों सदनों के भीतर सरकार की जमकर घेरेबंदी की। इस दौरान दोनों पक्षों के बीच कुछ झड़प भी हो गयी। विपक्षी दल गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग कर रहे थे।

छीना-झपटी उस समय शुरू हुई जब विपक्षी दलों के कुछ सदस्यों ने अमित शाह के इस्तीफे वाले एक बैनर को सदन में ले जाने की कोशिश की। इसके साथ ही विपक्षी दल के सदस्य हाथों में प्लेकार्ड लिए हुए थे। इन प्लेकार्डों पर भारत बचाओ, नफरत और नहीं, बीजेपी सरकार दंगों की सरकार और नफरती भाषण देने बंद करो आदि नारे लिखे हुए थे।

घटना तब शुरू हुई जब सदन की कार्यवाही एक बार स्थगित होेने के बाद दोबारा 2 बजे से शुरू हुई। कांग्रेस के सदस्य काले बैनर को लेकर ट्रेजरी बेंच के पास पहुंच गए। जबकि इस बीच स्पीकर ओम बिड़ला ने सदन की कार्यवाही जारी रखी। उन्होंने सभी सदस्यों से अनुशासन को बनाए रखने की अपील की। बड़ला ने कहा कि “सांसदों के लिए यह जरूरी है कि वे देश मे लोकतंत्र के मंदिर में अनुशासन को बनाए रखें।”

लेकिन कांग्रेस के सदस्यों ने स्पीकर बिड़ला की बात नहीं सुनी और अपना विरोध जारी रखा। इस पर सदन में ट्रेजरी बेंच में पीछे बैठे सदस्य अपनी सीटों से उठकर आ गए और दोनों पक्षों के बीच छोटी सी झड़प हो गयी। ऐसा होते ही स्पीकर बिड़ला ने तत्काल सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया।

दिल्ली के उत्तर-पूर्व इलाके में पिछले सप्ताह हुई इस हिंसा में अब तक 46 लोगों की मौत हो चुकी है और 200 से ज्यादा लोग घायल हैं। हिंसा मूल रूप से जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, चांद बाग, शिव विहार, भजनपुरा और मुस्तफाबाद इलाकों में हुई है।

राज्य सभा में भी विपक्षी दलों ने हिंसा के खिलाफ जमकर हंगामा किया। कांग्रेस, आप, टीएमसी, एसपी, बीएसपी और डीएमके के सांसदों ने सरकार पर अपने कर्तव्य में फेल होने का आरोप लगाया। विपक्ष के कुछ सदस्यों ने अपनी आंखों पर काली पट्टी लगा ली थी। जिस पर राज्य सभा के उप सभापति ने आपत्ति जाहिर की। उनका कहना था कि यह सदन की गरिमा के खिलाफ है। हालांकि इससे विपक्षी सदस्यों के ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ा और उन्होंने अपनी आंखें बंद कर प्रदर्शन जारी रखा।

लोकसभा में बीजेपी के चीफ ह्विप संजय जायसवाल ने कहा कि झड़प तब हुई जब कांग्रेस सदस्य हाथों में बैनकर लेकर उनकी सीट के पास पहुंचकर उनको बोलने से रोका। जायसवाल ने कहा कि कांग्रेस सदस्यों ने बेहद आक्रामक तरीके से उनकी तरफ रुख किया था। और उसके साथ ही उन लोगों ने प्लेकार्ड उनके मुंह पर सटा दिया था।

इस बीच कांग्रेस सांसद राम्या हरिदास ने बीजेपी की महिला सांसद पर हमला करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही उन्होंने उनके खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने इस सिलसिले में लोकसभा स्पीकर के पास अपनी शिकायत दर्ज की है। जिसमें उन्होंने कहा है कि सांसद जसकरन मीना ने उन पर शारीरिक हमला किया है। 

This post was last modified on March 2, 2020 11:52 pm

Share
Published by