Friday, April 19, 2024

दैनिक भास्कर के बाद अब भारत समाचार चैनल के संपादक ब्रजेश मिश्रा के आवास पर आयकर का छापा

आज सुबह दैनिक भास्कर के ठिकानों पर छापा पड़ा और अभी अभी ख़बर आ रही है कि लखनऊ से संचालित भारत समाचार चैनल के प्रधान सम्पादक के घर पर भी आयकर विभाग का छापा पड़ गया है। लखनऊ से मिली जानकारी के अनुसार ब्रजेश मिश्रा के गोमती नगर में विपुल खंड के आवास पर इनकम टैक्स की टीमों ने छापेमारी की है।

गौरतलब है कि कोरोनाकाल में भारत समाचर चैनल उत्तर प्रदेश सरकार की नाकामियों की अपनी धारदार पत्रकारिता से बखिया उधेड़ रहा था। 

चैनल के संस्थापक संपादक बृजेश मिश्रा ने पत्रकारिता के मानवीय मूल्यों की रक्षा करते हुये कोरोना काल- 2 में पश्चिम बंगाल समेत 5 राज्यों  के विधानसभा चुनाव की लाइव कवरेज करने की होड़ से खुद को अलग करते हुये अपने चैनल का पूरा फोकस कोरोना की दूसरी लहर में हाहाकार करती जनता की चीखों पर बनाये रख था।

वो भारत समाचार चैनल था जो खुद को नंबर एक राष्ट्रीय चैनल की होड़ से अलग खुद को सिर्फ़ एक सूबे का समाचार चैनल होने तक सीमित रखते हुये लगातार रामराज्य मॉडल की धज्जियां उड़ा रहा था और इसके स्याह अंधेरे में छुपे मानवीय चीखों और पीड़ाओं को आवाज़ दे रहा था। भरत समाचार चैनल लगातार उत्तर प्रदेश में महिलाओं, दलितों और मुसलमानों के ख़िलाफ़ हो रहे दमन व अत्याचार को उजागर कर रहा था इसी के चलते वो सरकार के निशाने पर आ गया।

गौरतलब है कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा कोरोना के ख़िलाफ़ निपटने की तानाशाही नीति और पीड़ित को सजा देने की रणनीति को रोल मॉडल घोषित किया था जिसकी भारत समाचार चैनल ने जमकर मजम्मत की थी। 

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

वामपंथी हिंसा बनाम राजकीय हिंसा

सुरक्षाबलों ने बस्तर में 29 माओवादियों को मुठभेड़ में मारे जाने का दावा किया है। चुनाव से पहले हुई इस घटना में एक जवान घायल हुआ। इस क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय माओवादी वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं और हमले करते रहे हैं। सरकार आदिवासी समूहों पर माओवादी का लेबल लगा उन पर अत्याचार कर रही है।

शिवसेना और एनसीपी को तोड़ने के बावजूद महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं

महाराष्ट्र की राजनीति में हालिया उथल-पुथल ने सामाजिक और राजनीतिक संकट को जन्म दिया है। भाजपा ने अपने रणनीतिक आक्रामकता से सहयोगी दलों को सीमित किया और 2014 से महाराष्ट्र में प्रभुत्व स्थापित किया। लोकसभा व राज्य चुनावों में सफलता के बावजूद, रणनीतिक चातुर्य के चलते राज्य में राजनीतिक विभाजन बढ़ा है, जिससे पार्टियों की आंतरिक उलझनें और सामाजिक अस्थिरता अधिक गहरी हो गई है।

केरल में ईवीएम के मॉक ड्रिल के दौरान बीजेपी को अतिरिक्त वोट की मछली चुनाव आयोग के गले में फंसी 

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग को केरल के कासरगोड में मॉक ड्रिल दौरान ईवीएम में खराबी के चलते भाजपा को गलत तरीके से मिले वोटों की जांच के निर्देश दिए हैं। मामले को प्रशांत भूषण ने उठाया, जिसपर कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई की और भविष्य में ईवीएम के साथ किसी भी छेड़छाड़ को रोकने हेतु कदमों की जानकारी मांगी।

Related Articles

वामपंथी हिंसा बनाम राजकीय हिंसा

सुरक्षाबलों ने बस्तर में 29 माओवादियों को मुठभेड़ में मारे जाने का दावा किया है। चुनाव से पहले हुई इस घटना में एक जवान घायल हुआ। इस क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय माओवादी वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं और हमले करते रहे हैं। सरकार आदिवासी समूहों पर माओवादी का लेबल लगा उन पर अत्याचार कर रही है।

शिवसेना और एनसीपी को तोड़ने के बावजूद महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं

महाराष्ट्र की राजनीति में हालिया उथल-पुथल ने सामाजिक और राजनीतिक संकट को जन्म दिया है। भाजपा ने अपने रणनीतिक आक्रामकता से सहयोगी दलों को सीमित किया और 2014 से महाराष्ट्र में प्रभुत्व स्थापित किया। लोकसभा व राज्य चुनावों में सफलता के बावजूद, रणनीतिक चातुर्य के चलते राज्य में राजनीतिक विभाजन बढ़ा है, जिससे पार्टियों की आंतरिक उलझनें और सामाजिक अस्थिरता अधिक गहरी हो गई है।

केरल में ईवीएम के मॉक ड्रिल के दौरान बीजेपी को अतिरिक्त वोट की मछली चुनाव आयोग के गले में फंसी 

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग को केरल के कासरगोड में मॉक ड्रिल दौरान ईवीएम में खराबी के चलते भाजपा को गलत तरीके से मिले वोटों की जांच के निर्देश दिए हैं। मामले को प्रशांत भूषण ने उठाया, जिसपर कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई की और भविष्य में ईवीएम के साथ किसी भी छेड़छाड़ को रोकने हेतु कदमों की जानकारी मांगी।