Tuesday, December 7, 2021

Add News

पैंडोरा पेपर्स: ओसवाल की बीवीआई फर्म ने इंडोनेशिया की खदान से कोयला बेचा

ज़रूर पढ़े

पैंडोरा पेपर्स के खुलासे से पता चला है कि कैसे व्यक्ति और व्यवसाय घर पर कानून में खामियों और टैक्स हेवन के ढीले अधिकार क्षेत्र का उपयोग करके पता लगाने से बचने के लिए लिफाफे को आगे बढ़ा रहे हैं। 2010-2011 के दौरान, रिकॉर्ड दिखाते हैं, पीटी गार्डा तुजुह बुआना टीबीके (जीटीबीओ) द्वारा खनन किए गए कोयले की लगभग पूरी बिक्री ब्रिस्कन होल्डिंग्स लिमिटेड (बीवीआई) के माध्यम से हुई, जिसे मशीनरी की आपूर्ति के लिए इंडोनेशियाई कंपनी से $21 मिलियन से अधिक प्राप्त हुआ। ओसवाल की बीवीआई फर्म ने इंडोनेशिया की खदान से कोयला बेचा, जिसका वह आंशिक रूप से स्वामित्व रखता था

गायक और ओसवाल समूह के वंशज शैल ओसवाल ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह में अपनी अपतटीय कंपनी का उपयोग एक इंडोनेशियाई खनन कंपनी द्वारा बेचे गए कोयले के विपणन के लिए करते थे, जो उनके पास आंशिक रूप से स्वामित्व वाली थी, जैसा कि रिकॉर्ड के अनुसार इंडियन एक्सप्रेस द्वारा पैंडोरा पेपर्स जांच की गई।

2010-2011 के दौरान, रिकॉर्ड दिखाते हैं, पीटी गार्डा तुजुह बुआना टीबीके (जीटीबीओ) द्वारा खनन किए गए कोयले की लगभग पूरी बिक्री ब्रिस्कन होल्डिंग्स लिमिटेड (बीवीआई) के माध्यम से हुई, जिसे मशीनरी की आपूर्ति के लिए इंडोनेशियाई कंपनी से $21 मिलियन से अधिक प्राप्त हुआ। ओसवाल ने इंडियन एक्सप्रेस के सवालों कि क्या उन्होंने जीटीबीओ और उसके शेयरधारकों और नियामकों को ब्रिसकॉन होल्डिंग्स के अपने स्वामित्व का खुलासा किया था का जवाब नहीं दिया।

वर्ष 2009 में ओसवाल सिंगापुर चले गए, अल्ता ओवरसीज पीटीई लिमिटेड (सिंगापुर) के माध्यम से जीटीबीओ में 30 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने के लिए एक कंपनी संरचना की स्थापना की, और ब्रिस्कन होल्डिंग्स (बीवीआई) के लाभकारी मालिक बन गए।

हालांकि, कॉर्पोरेट सेवा प्रदाता एशियासिटी ट्रस्ट के रिकॉर्ड बताते हैं कि ओसवाल ने बाद में ब्रिस्कन होल्डिंग्स के लिए उचित परिश्रम आवश्यकताओं का पालन करने से इनकार कर दिया। इस “स्पष्ट इनकार”ने एशियासिटी ट्रस्ट को ब्रिस्कन होल्डिंग्स को “उपयुक्त ग्राहक नहीं” के रूप में ब्रांड करने के लिए प्रेरित किया, जिसे एक वैकल्पिक प्रदाता को “स्थानांतरित किया जाना चाहिए”।एशियासिटी का एक आंतरिक फाइल नोट ओसवाल के प्रतिनिधि के साथ टेलीफोन पर बातचीत में स्थिति को रेखांकित करता है, जिसे केवल “एनएस”के रूप में पहचाना जाता है।

नोट में कहा गया है कि एनएस ने आगे बार-बार कहा कि वह और एसओ (शैल ओसवाल) दस्तावेज या अधिक विवरण प्रदान नहीं करेंगे, क्योंकि ये ‘हमारा व्यवसाय नहीं’थे और अन्य सेवा प्रदाता उनसे अनुरोध नहीं करेंगे। (हम) इस दावे से सहमत नहीं थे, हालांकि , कॉल के दौरान एनएस के आक्रामक व्यवहार से यह स्पष्ट था कि तर्क निरर्थक होगा ।

मार्च और जुलाई 2012 में ओसवाल को दो संचार में, एशियासिटी ने ब्रिस्कन होल्डिंग्स की “गतिविधि में वृद्धि”को हरी झंडी दिखाई, जिसका उपयोग ओसवाल के लाभकारी मालिक बनने तक “खनन संपत्ति की खरीद और बिक्री”के लिए किया गया था।

एशियासिटी की चिंताओं की सूची में थे:लाभकारी स्वामित्व को ओसवाल में बदलने का कोई कारण नहीं है। एशियासिटी के ज्ञान में 10 सहित परिचालन बैंक खातों की संख्या अनिश्चित रूप से अधिक है – क्रेडिट सुइस, ईएफजी, सोसाइटी जेनरल, बार्कलेज बैंक, बैंके पिक्टेट एंड सी, डीबीएस बैंक, ओवरसीज चीनी बैंकिंग कॉर्पोरेशन, यूबीएस एजी, बैंक ऑफ सिंगापुर, एबीएन एमरो सिंगापुर।संपत्ति का स्रोत काफी अधिक है – बैंकों के पास $400 मिलियन से अधिक, और क्रेडिट सुविधाओं में $400 मिलियन से अधिक – कंपनी के उद्देश्य की पिछली समझ की तुलना में। हांगकांग और मध्य पूर्व की कंपनियों से बड़े मूल्य के हस्तांतरण की प्रकृति।

हालांकि उन्होंने उचित परिश्रम के अनुरोधों का पालन नहीं किया, ओसवाल ने ब्रिस्कन होल्डिंग्स को किसी अन्य सेवा प्रदाता को स्थानांतरित करने के लिए कुछ खुलासे किए। इसमें शामिल है:दो सिंगापुर के नागरिकों, मूल लाभकारी मालिकों ने, ओसवाल पर बकाया कर्ज के भुगतान में, 2008 में स्थापित ब्रिस्कॉन होल्डिंग्स के स्वामित्व को स्थानांतरित कर दिया। ब्रिस्कन होल्डिंग्स में सभी फंड शैल ओसवाल के थे, जिन्हें अपने पिता अभय ओसवाल से 800 मिलियन डॉलर और इंडोनेशिया में एक सूचीबद्ध कोयला खनन व्यवसाय विरासत में मिला था।हांगकांग और मध्य पूर्व की कंपनियों से प्राप्तियां इंडोनेशिया के कोयला उद्योग में पारिवारिक व्यवसाय से जुड़ी हैं।

सितंबर 2012 तक, ओसवाल ने ब्रिस्कन होल्डिंग्स को सिंगापुर में एक अन्य कॉर्पोरेट सेवा प्रदाता में स्थानांतरित कर दिया। 2014 में, शुल्क का भुगतान न करने के लिए अपतटीय कंपनी को बीवीआई रजिस्ट्री से हटा दिया गया था।

पनामा पेपर्स, पैराडाइज़ पेपर्स और अब पैंडोरा पेपर्स लीक में नीरा राडिया का नाम

पैंडोरा पेपर्स लीक में नीरा राडिया का नाम आया है। इससे पहले पैराडाइज़ पेपर्स लीक में और उससे पहले पनामा पेपर्स लीक में भी नाम आया था। क़रीब एक दर्जन ऑफ़-शोर कंपनियों से उनका लेनदेन है। इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में पैंडोरा पेपर्स के हवाले से बताया है कि वो ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स (बीवीआई) की कॉर्पोरेट सर्विस प्रोवाइडर फर्म, ट्राइडेंट ट्रस्ट कंपनी की क्लाइंट हैं। वो एक डू नॉट कॉन्टैक्ट क्लाइंट हैं । यानी ऐसी क्लाइंट जिनसे सीधे संपर्क नहीं किया जाना है । रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नीरा राडिया इस कंपनी से लेनदेन का काम लंदन के रहने वाले संजय नेवटिया के ज़रिए करती हैं। नेवटिया पहले स्विस बैंकर थे।

पैंडोरा पेपर्स लीक में ऐसी कई कंपनियों के नाम हैं जिनका नीरा राडिया से कनेक्शन है। एल्माशे होल्डिंग्स, थियरे, ज़िल्ला, कोयोस, मेहोन और नाइन जैसी कई कंपनियों से सम्बंधित ट्राइडेंट ट्रस्ट के दस्तावेजों में राडिया का ज़िक्र ”मास्टर क्लाइंट” के तौर पर किया गया है। इन दस्तावेज़ों में नीरा राडिया के दिल्ली में छतरपुर फार्म वाले पते का भी ज़िक्र है।

वर्ष 2010 में ऑडियो टेप लीक होने के बाद जांच एजेन्सियों की नज़र नीरा राडिया पर पड़ी। 2011 में उन्होंने अपनी जनसंपर्क फर्म वैष्णवी कॉर्पोरेट कम्युनिकेशंस को बंद कर दिया।लेकिन पैंडोरा पेपर्स में और भी कई कंपनियों के बंद होने का ज़िक्र है। जनवरी 2011 में राडिया ने ट्राइडेंट ट्रस्ट को रॉक्सबरी एस्टेट्स के क्रेडिट स्विस बैंक खाते को बंद करने के लिए कहा था। इस खाते के पैसों को उन्होंने उसी बैंक की दूसरे ब्रांच में एक अन्य कंपनी के खाते में डालने को कहा था। इस अकाउंट को नीरा राडिया इरथेमा एसोसिएट्स के ज़रिए चलती थीं।रॉक्सबरी एस्टेट्स के खाते में तब कुल 45,01,560 रुपए थे।

दस्तावेज़ों के मुताबिक़ एक खाते से दूसरे में धनराशि भेजने पर एक निर्देश भी लिखा था। लाभार्थी नीरा राडिया से संपर्क न करें, क्योंकि वह ट्राइडेंट ट्रस्ट की डू नॉट कांटैक्ट क्लाइंट थी। रॉक्सबरी एस्टेट्स के दस्तावेजों के हवाले से पता चलता है कि जनवरी 2008 में ये कंपनी खोली गई थी जिसकी इकलौती मालिक नीरा राडिया थीं।

रिपोर्ट के मुताबिक़ ट्राइडेंट ट्रस्ट के दस्तावेज से ये भी पता चलता है कि अप्रैल 2009 में राडिया ने दो बड़े लेनदेन किए थे। 2,15,00,000 रुपए हांगकांग स्थित फॉर्च्यून एक्सपोर्ट्स को दिए गए थे। ये कंपनी मार्केटिंग और कंसल्टेंसी सेवाएं प्रदान करती है। 1,08,14,500 रुपए डायमंड इन्फिनिटी डीएमसीसी से एक हीरे की घड़ी खरीदने के लिए दिए गए थे। इसके अलावा, रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि नीरा राडिया की बहन और बिजनेस पार्टनर करुणा मेनन और राडिया के सहयोगी पूर्व पत्रकार जहांगीर पोचा ने भी ट्राइडेंट ट्रस्ट के ज़रिए ऑफ़-शोर कंपनियां बनाई थी।

रिपोर्ट के मुताबिक़, जुलाई 2009 में नीरा राडिया ने किंग्स्टन इंटरनेशनल के ज़रिए यूनाइटेड किंगडम के यूनिटेक लिमिटेड कंपनी की इकाई यूनिटेक कॉरपोरेट पार्क्स पीएलसी के शेयर ख़रीदे। ये शेयर 73 लख रुपए के थे।ग़ौरतलब है कि साल 2007 में टाटा और यूनिटेक के बीच 1700 करोड़ की डील हुई थी। इसकी जांच हुई थी और राडिया को दोषी पाया गया था। लेकिन, जांच एजेन्सी ने अब तक उनके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की है।

नीरा राडिया ने एक ईमेल के ज़रिए दि इंडियन एक्सप्रेस को जवाब दिया है। राडिया ने ईमेल में लिखा है कि दि इंडियन एक्सप्रेस द्वारा मेरी छवि खराब करने के एक और प्रयास से मैं चिंतित हूं।आपके मेल में बताई गई किसी भी कंपनी में मेरी कोई हिस्सेदारी नहीं है। मैं इनमें से किसी भी कंपनी को नहीं पहचानती और न ही ऐसे किसी लेनदेन के बारे में जानती हूं, जिसका आप ज़िक्र कर रहे हैं। मैंने सभी सम्बंधित अधिकारियों को हमेशा सही और सटीक बात बताई है। मेरी बहन करुणा ने भी आपके द्वारा बताई गई इन फर्मों के बारे में कभी नहीं सुना है। जहां तक बात जहांगीर पोचा की है, तो उनकी मौत साल 2014 में हो गई थी और हमें उनके निजी मामलों के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

गौरतलब है कि नीरा राडिया का नाम वर्ष 2010 में खूब चर्चा में था क्योंकि तब राडिया टेप्स लीक हुए थे। फोन पर तत्कालीन टेलिकॉम मिनिस्टर ए.राजा और कई बड़े पत्रकारों से हुई उनकी बातचीत लीक हो गई थी। नीरा राडिया ने यूपीए II में नेताओं को मंत्री पद दिलवाने के लिए कुछ पत्रकारों और राजनेताओं के साथ उनके सम्बंधों का इस्तेमाल किया था।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

प्रयागराज: एमएनएनआईटी की एमटेक की छात्रा की संदिग्ध मौत, पूरे मामले पर लीपापोती का प्रयास

प्रयागराज शहर के शिवकुटी स्थित मोतीलाल नेहरू राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्‍थान (एमएनएनआईटी) में एमटेक फाइनल की छात्रा जया पांडेय की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -