Subscribe for notification

पीएम केयर्स फंड की ऑडिट करने वाले चार्टर्ड एकाउंटेंट के बीजेपी-संघ के साथ हैं नाभि-नाल के रिश्ते

नई दिल्ली। पीएम केयर्स फंड के सिलसिले में खुलासे दर खुलासे हो रहे हैं। ताजा मामला फंड की ऑडिट करने वाले चार्टर्ड एकाउंटेंट से जुड़ा है। अभी तक कहा जा रहा था कि फंड की भले ही सीएजी से ऑडिट न करायी जाए लेकिन उसकी ऑडिट का काम एक स्वतंत्र ऑडिटर करेगा। अब इस ‘स्वतंत्र ऑडिटर’ के तौर पर जो नाम सामने आ रहा है वह कितना स्वतंत्र है और कैसी ऑडिट करेगा इसका अंदाजा आप उसका प्रोफाइल देख कर लगा सकते हैं।

जाने-माने आरटीआई कार्यकर्ता साकेत गोखले ने अपने कई ट्वीट के जरिये न केवल पीएम केयर्स फंड के ऑडिटर के नाम का खुलासा किया है बल्कि उसके बीजेपी और आरएसएस रिश्ते कितने गहरे हैं उसके भी कुछ सबूत पेश किए हैं।

23 अप्रैल को एम/एस एसएआरसी एंड एसोसिएट्स को पीएम केयर्स का ऑडिटर नियुक्त किया गया। इस कंपनी के मुखिया का नाम है सुनील कुमार गुप्ता। वही इस कंपनी को संचालित करते हैं। गुप्ता पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं। इनका दफ्तर दिल्ली के तुगलकाबाद औद्योगिक इलाके में स्थित है। गुप्ता की दूसरी पहचान यह है कि उनके पीएम मोदी समेत बीजेपी के कई शीर्ष नेताओं से बेहद गहरे रिश्ते हैं।

साकेत गोखले ने एक तस्वीर साझा की जिसमें गुप्ता बीजेपी सांसद और दिल्ली के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी को किताब भेंट करते हुए दिख रहे हैं। इसी कड़ी में उनकी एक तस्वीर केंद्रीय मंत्री और पीएम मोदी के खासमखास तथा मंत्री बनने से पहले बीजेपी के खजांची रहे पीयूष गोयल के साथ है। इसमें वह उनके साथ किसी शो में बैठे हैं। दोनों साथ बैठकर मुस्कराते हुए देखे जा सकते हैं।

गुप्ता की पहुंच केवल इन नेताओं तक ही नहीं बल्कि देश के खजाने से जुड़े विभाग से भी सीधा है। एक तस्वीर में वह देश के गद्दारों को गोली मारो….वाले नेता और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ हैं। इसमें इन दोनों के अलावा देश के जाने-माने क्रिकेटर कपिल देव और जबलपुर से बीजेपी सांसद राकेश सिंह को भी देखा जा सकता है। चारों मिलकर किसी एक किताब का विमोचन कर रहे हैं।

सुनील गुप्ता का रिश्ता यहीं नहीं रुकता। बीजेपी के दूसरे कई कद्दावर नेताओं से भी उनका गहरा नाता है। एक तस्वीर पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के शीर्ष प्रवक्ताओं में शामिल राजीव प्रताप रूड़ी के साथ है जिसमें वह उनके साथ गहन विचार-विमर्श की मुद्रा में देखे जा सकते हैं। तस्वीर से ऐसा लगता है जैसे वह किसी गंभीर मामले पर मंत्रणा कर रहे हों। उनका यह रिश्ता केवल दिल्ली और उत्तर भारतीय नेताओं तक सीमित नहीं है। उनकी सरकार में किस कदर पैठ है उसका अंदाजा केंद्रीय मंत्री किरण रिजुजु के साथ उनके आए चित्र से लगाया जा सकता है जिसमें वह रिजुजु को उत्तर-पूर्व से जुड़ी कोई पेंटिंग भेंट करते देखे जा सकते हैं।

बीजेपी नेताओं और मंत्रियों के साथ इन तमाम किताबों, शो और पेंटिंग से इस बात को आसानी समझा जा सकता है कि गुप्ता का पीआर कितना मजबूत है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो गुप्ता पीआर के माहिर खिलाड़ी हैं।

रिश्तों का यह गठबंधन सिर्फ बीजेपी तक सीमित होता तो कोई बात नहीं थी। बीजेपी और उससे जुड़े संगठनों की मातृ संस्था आरएसएस से भी गुप्ता के रिश्ते बेहद खास हैं। उसका खुलासा उस समय होता है जब वह 2018 में अमेरिका में हुए वर्ल्ड हिंदू कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा सार्वजनिक रूप से करते हैं। 7 सितंबर, 2018 के एक ट्वीट में वह लिखते हैं, “मैं अमेरिका के शिकागो में 7 से 9 सितंबर, 2018 को होने वाली हिंदू कांग्रेस में शामिल हूं।”

यह सार्वजनिक ऐलान बताता है कि गुप्ता इसके जरिये क्या हासिल करना चाहते हैं। और आज वह शायद अपनी मंजिल के करीब हैं जब उन्हें न केवल पीएमओ का विश्वसनीय पात्र होने का गौरव हासिल हुआ है बल्कि उसके सबसे ‘गोपनीय फंड’ पीएम केयर्स का हिसाब-किताब करने का उनको जिम्मा मिल गया है।

आखिरी ट्वीट में साकेत गोखले लिखते हैं, “इसी तरह से पीएम केयर्स फंड की ‘स्वतंत्र’ रूप से जांच होने जा रही है। 10 हजार करोड़ रुपये की रकम पार लगाने के बाद उसकी आडिटिंग बीजेपी/ संघ का एक आदमी करेगा जो न केवल तमाम बीजेपी नेताओं का करीबी है बल्कि पीएम तक पहुंच रखता है।

महामारी का फायदा उठाकर की जाने वाली यह सार्वजनिक धन की खुली लूट है।”

इस पूरे प्रकरण में दिलचस्प बात यह है कि पिछले दस सालों से पीएमएनआरएफ यानी प्रधानमंत्री राहत कोष की आडिट ठाकुर, वैद्यनाथ अय्यर एंड कंपनी कर रही थी। 2009-10 से जो सिलसिला शुरू हुआ तो यह मोदी के शासन के काल में भी जारी रहा। यहां तक कि 2016, 2017 और 2018 तक यह बना रहा।

और ठाकुर, वैद्यनाथ, अय्यर एंड कंपनी के जिम्मे ही ऑडिट करने का काम था। लेकिन पीएम केयर्स के गठन से पहले एकाएक ऑडिट कंपनी बदल दी गयी। यह तब्दीली नयी संस्था बनने से ठीक दो महीने पहले की गयी। और फिर स्वाभाविक तौर पर सार्क एंड एसोसिएट्स को पीएम केयर्स फंड के आडिट का काम सौंप दिया गया।

This post was last modified on June 12, 2020 2:32 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

किसानों के पक्ष में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू हिरासत में, सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता नजरबंद

लखनऊ। यूपी में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को हिरासत में लेने के…

25 mins ago

कॉरपोरेट की गिलोटिन पर अब मजदूरों का गला, सैकड़ों अधिकार एक साथ हलाक

नयी श्रम संहिताओं में श्रमिकों के लिए कुछ भी नहीं है, बल्कि इसका ज्यादातर हिस्सा…

33 mins ago

अगर जसवंत सिंह की चली होती तो कश्मीर मसला शायद हल हो गया होता!

अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार में अलग-अलग समय में वित्त, विदेश और…

2 hours ago

लूट, शोषण और अन्याय की व्यवस्था के खिलाफ भगत सिंह बन गए हैं नई मशाल

आखिर ऐसी क्या बात है कि जब भी हम भगत सिंह को याद करते हैं…

3 hours ago

हरियाणा में और तेज हुआ किसान आंदोलन, गांवों में बहिष्कार के पोस्टर लगे

खेती-किसानी विरोधी तीनों बिलों को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद हरियाणा-पंजाब में किसान आंदोलन…

4 hours ago

कृषि विधेयक पर डिप्टी चेयरमैन ने दिया जवाब, कहा- सिवा अपनी सीट पर थे लेकिन सदन नहीं था आर्डर में

नई दिल्ली। राज्य सभा के डिप्टी चेयरमैन हरिवंश नारायण सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस द्वारा उठाए…

4 hours ago