Friday, December 2, 2022

पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के बीच टकराव का शिकार हो गया अटॉर्नी जनरल का ऑफिस    

Follow us:

ज़रूर पढ़े

 दिल्ली दरबार में खुला खेल फर्रुखाबादी चल रहा है,जो वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी के अटॉर्नी जनरल बनने से इनकार के कारण सतह पर आ गया है और मोदी सरकार के दो मुख्य स्तम्भों पीएम नरेन्द्र मोदी तथा गृहमंत्री अमित शाह के बीच मनभेद भी सामने आ गया है। दरअसल चर्चा है कि मुकुल रोहतगी प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की पसंद हैं, जो सालिसीटर जनरल तुषार मेहता पर भी लगाम लगाना चाहते थे, क्योंकि पीएम को लगता है कि वह बहुत शक्तिशाली हो रहे हैं। जबकि तुषार मेहता केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के करीबी माने जाते हैं।  

केंद्रीय कानून मंत्रालय द्वारा असामान्य सर्कुलर से अटॉर्नी जनरल के रूप में उनकी शक्तियों को कम करने का प्रयास किया गया और कार्य के बंटवारे के नाम पर उन्हें सॉलिसिटर जनरल के पास रखने का प्रावधान किया गया जिससे क्षुब्ध होकर सम्भवतः रोहतगी ने अटॉर्नी जनरल का अपना कार्यकाल शुरू करने से पहले ही इस पद को स्वीकारने से मना कर दिया।

रविवार, 25 सितंबर को वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने भारत के अटॉर्नी जनरल के पद को ठुकरा दिया। इस प्रस्ताव को उन्होंने कुछ दिन पहले स्वीकार कर लिया था। हालांकि रोहतगी ने यह नहीं बताया कि ऐसा उन्होंने क्यों किया लेकिन अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि वह शुरू करने से पहले ही उन पर हमला करने के प्रयासों से असहज थे। इसका एक उदाहरण कानून मंत्रालय का एक असामान्य सर्कुलर था जिसमें एजी और उनके नंबर दो के बीच काम के विभाजन को निर्धारित किया गया था।

13 सितंबर को, जिस दिन मुकुल रोहतगी ने एजी का पद लेने के सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, केंद्रीय कानून मंत्रालय के तहत कानूनी मामलों के विभाग, जो कानून अधिकारियों की नियुक्तियों से संबंधित है, ने एक कार्यालय ज्ञापन जारी किया।इसमें कहा गया था कि सुप्रीम कोर्ट के समक्ष मामलों के संबंध में, दैनिक आधार पर मामलों की सूची को पहले भारत के विद्वान अटॉर्नी जनरल के समक्ष रखा जाएगा ताकि उन मामलों का चयन किया जा सके जिनमें वह अपनी उपस्थिति को आवश्यक मानते हैं। इसके बाद सूची को भारत के विद्वान सॉलिसिटर जनरल के समक्ष रखा जाएगा।

सर्कुलर में जो कुछ नहीं कहा गया था वह यह था कि एसजी ही अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरलों सहित अन्य कानून अधिकारियों को मामलों को सौंपेंगे,न कि अटॉर्नी जनरल। एसजी तुषार मेहता अदालतों में सरकार के संकट प्रबंधक रहे हैं और के.के. वेणुगोपाल एजी के रूप में बैक बेंचर रहे हैं।

दरअसल एजी देश के सर्वोच्च कानून अधिकारी हैं और उनके दूसरे कमांड सॉलिसिटर जनरल हैं। यह हमेशा स्पष्ट रहा है कि कार्य आवंटन कैसे किया जाता है, यह पहली बार है जब इस तरह का कार्यालय ज्ञापन जारी किया गया था। ऐसा प्रतीत होता है कि यह अटॉर्नी जनरल के अधिकारों में कटौती करके उन्हें सिर्फ चेहरा या मुखौटा बनाये रखने का प्रयास था जिसके कारण रोहतगी ने शीर्ष पद को ठुकरा दिया।

रोहतागी वरिष्ठ वकील हैं और व्यावहारिक होने के साथ स्वाभिमानी व्यक्ति हैं जिनके लिए उनकी स्वतंत्रता प्रमुख महत्व रखती है। उन्हें सीधे प्रधान मंत्री कार्यालय द्वारा पद संभालने के लिए कहा गया था। उन्होंने संक्षिप्त चर्चा करते हुए, सरकार को यह कहते हुए एक चार्टर दिया था कि वह एक स्वतंत्र हाथ और वही नियंत्रण चाहते हैं जो पिछली बार 2014 से 2017 तक अटॉर्नी जनरल के रूप में था।

एक सरकारी सूत्र ने कहा कि कार्यालय ज्ञापन स्थिति को संतुलित करने के लिए जारी किया गया था क्योंकि अब तक तुषार मेहता प्रभारी थे। नए एजी के साथ, सरकार एसजी को नाराज नहीं करना चाहती थी।

वास्तव में सरकारी हलकों में यह संदेह पैदा हो गया था कि क्या रोहतगी, जिसे एक स्वतंत्र पक्षी माना जाता है और निश्चित रूप से कोई धक्का-मुक्की नहीं है, सरकार की इच्छाओं के लिए उतना ही उत्तरदायी होगा जितना कि तुषार मेहता थे।

यदि सब सामान्य रहा तो अगले मुख्य न्यायाधीश डी.वाई. चंद्रचूड़ होंगे जो  विशेष रूप से 2024 के लोकसभा चुनाव में अपने पद पर रहेंगे । यह देखते हुए कि अगला मुख्य न्यायाधीश सरकार के लिए असहज स्थिति पैदा कर सकता है इसलिए सरकार ऐसा अटॉर्नी जनरल चाहती है ,जो पूरी तरह से उसके पक्ष में हो। इसके अलावा, सरकार रोहतगी और न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ के बीच समीकरण के बारे में निश्चित नहीं है, इसलिए मुख्य सूत्रधार मेहता को बनाना चाहती है।

एजी के रूप में पहली बार रोहतगी के पास तत्कालीन कानून मंत्री और उनके पुराने दोस्त अरुण जेटली थे। दोनों के बीच तब स्थिति बदलने लगी जब जेटली केंद्रीय वित्त मंत्रालय में चले गए और रविशंकर प्रसाद कानून मंत्री बने। रोहतगी और उनके नंबर दो रंजीत कुमार ने 2017 में अचानक इस्तीफा दे दिया। अगले वर्ष, एएसजी मनिंदर सिंह,जिन्हें जेटली खेमे के करीबी के रूप में भी जाना जाता है और पी.एस. नरसिम्हा (अब सुप्रीम कोर्ट के जज) ने भी इस्तीफा दे दिया, जिससे के.के. वेणुगोपाल और तुषार मेहता क्रमशः एजी और एसजी के पद पर नियुक्त हुए। एएसजी की तुलना में मेहता अपेक्षाकृत जूनियर वकील थे।

दरअसल रोहतागी को बार और बेंच दोनों से उपस्थिति और सम्मान मिलता है जो अद्वितीय है। काश उन्होंने यह पद स्वीकार कर लिया होता क्योंकि वे देश के लिए सही एजी होते। दूसरी ओर तुषार मेहता अब तक के सबसे सफल एसजी में से एक रहे हैं। दोनों मिलकर एक बेहतरीन टीम बनाते।

यह भी कहा जा रहा है कि सरकार तुषार मेहता को एजी के रूप में नियुक्त करने की इच्छुक नहीं है क्योंकि वह अपनी वर्तमान स्थिति में उपयोगी हैं। मेहता वर्तमान में हर अदालत में सरकार और भाजपा नीत राज्य सरकारों की पैरवी करते दिखते हैं और किसी भी स्तर पर किसी भी अदालत में किसी भी मामले में बहस कर सकते हैं, जबकि एजी, एक संवैधानिक प्राधिकरण होने के नाते, अपनी स्थिति के साथ-साथ नीति और प्रक्रियाओं से भी बंधे हुए हैं।

एजी के.के. वेणुगोपाल 30 सितंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इस बात की संभावना कम ही है कि शीर्ष संवैधानिक पद को खाली रखा जा सकता है। लेकिन जब तक कोई उत्तराधिकारी नहीं मिल जाता, तब तक एसजी वास्तविक एजी होगा।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

डीयू कैंपस के पास कैंपेन कर रहे छात्र-छात्राओं पर परिषद के गुंडों का जानलेवा हमला

नई दिल्ली। जीएन साईबाबा की रिहाई के लिए अभियान चला रहे छात्र और छात्राओं पर दिल्ली विश्वविद्यालय के पास...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -