Friday, October 29, 2021

Add News

प्रशांत भूषण ने भगोड़े चोकसी का मामला फिर गरम कर दिया

ज़रूर पढ़े

भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस का दावा और न खाऊंगा न खाने दूंगा का दम्भ भरने वाली मोदी सरकार का एक कारनामा फिर सुर्ख़ियों में है। सुप्रीमकोर्ट के वकील प्रशांत भूषण के एक ट्विट ने 7000 करोड़ लेकर भारत से भागे हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के मामले में मोदी सरकार की मिलीभगत के आरोपों को एक बार फिर स्थान पर ला दिया है। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से जुड़े घोटाले में भारतीय एजेंसियों को मामा भांजे अर्थात मेहुल चोकसी की और उसके भांजे भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी की तलाश है।

केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार विदेशों में पड़े काले धन को भारत वापस लाने का वादा किया था। लेकिन इसके विपरीत भारत के कई बड़े कारोबारी देश में बड़े घोटाले कर विदेशों में पूरे रसूख के साथ रह रहे हैं। इन भगोड़े कारोबारियों में नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, विजय माल्या और ललित मोदी जैसे लोगों का नाम शुमार है।

प्रशांत भूषण ने भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी का जिक्र करते हुए एक ट्वीट के जरिए शनिवार (सात जुलाई, 2021) को कहा- मोदी सरकार ने “हमारे मेहुल भाई” को एंटीगुआ की नागरिकता हासिल करने के लिए क्लीन चिट दे दी, जबकि वह उसे प्रत्यर्पित करने का दिखावा करती है। साथ लेकर भागे सात हजार करोड़ में से कितना हिस्सा उसने इसके लिए दिया था ?” भूषण ने यह टिप्पणी अंग्रेजी अखबार “दि हिंदू” की उस खबर को शेयर करते हुए की थी, जो कि भारत की ओर से चोकसी को क्लीन चिट दिए जाने से संबंधित थी।

वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि ‘मोदी जी के मेहुल भाई द्वारा अब खुलासे किए जा रहे हैं। भागा नहीं, भगाया गया। इस ट्वीट में प्रशांत भूषण द्वारा एक स्क्रीनशॉट भी शेयर किया गया है। जिसमें एंटीगुआ द्वारा यह दावा किया गया है कि मेहुल चोकसी को इंडियन अथॉरिटीज द्वारा क्लीयरेंस दिए जाने के बाद ही एंटीगुआ की नागरिकता दी गई है। इन इंडियन अथॉरिटीज में पासपोर्ट ऑफिस, एमईए, सेबी आदि शामिल है।

अब इसे क्या कहेंगे कि 04 अगस्त 2018 को ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के एंटीगुआ की नागरिकता हासिल करने को लेकर दावा किया था कि पंजाब नेशनल बैंक के 13 हजार करोड़ रुपये की लूट करने वाले मेहुल चोकसी को इस सरकार ने ‘क्लीन चिट’ दी ताकि वह एंटीगुआ का नागरिक बन सके। राहुल गांधी ने एक वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया था ‘आज की बड़ी खबर: भारत ने श्रीमान 56 के ‘सूटबूट’ वाले मित्र मेहुल भाई चोकसी को 2017 में क्लीनचिट दी जिससे उसने एंटीगुआ की नागरिकता हासिल कर ली। राहुल गांधी ने कहा था कि मेहुल भाई ने पीएनबी के 13,000 करोड़ लूटे और फिर भारत से फरार हो गया।

इससे पहले कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा था  कि एंटीगुआ की ‘सिटिजनशिप इन्वेस्टमेंट यूनिट’ ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी किया था, जिसमें कहा गया है कि मई, 2017 में भारतीय विदेश मंत्रालय ने मेहुल चोकसी को नागरिकता देने के लिए ‘क्लीन चिट’ प्रमाणपत्र जारी किया था।

चोकसी भारतीय भगोड़ा कारोबारी है। वह गीतांजलि ग्रुप का मालिक है, जो कि एक रीटेल जूलरी कंपनी है। देश भर में इस कंपनी के करीब चार हजार स्टोर हैं। मौजूदा समय में चोकसी अंटीगुआ और बारबूडा में है, जहां की नागकिता भी पा चुका है।

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से जुड़े घोटाले में भारतीय एजेंसियों को उसकी और उसके भांजे नीरव मोदी की तलाश है। गुजरात के मेहुल चोकसी 14 हजार करोड़ से ज्यादा के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले का मुख्य आरोपी है। आरोप है कि दोनों की जोड़ी ने बैंक के साथ करीब 14 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की। चोकसी के खिलाफ अरेस्ट वारंट भी जारी किया जा चुका है। चोकसी फिलहाल आपराधिक साजिश रचने, धोखाधड़ी और बेइमानी, भ्रष्टाचार और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों का सामना कर रहा है।

बीते दिनों खबर सामने आई थी कि भारत का भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी डोमिनिका में जमानत मिलने के बाद अब एंटीगुआ पहुंच गया है। मेहुल चोकसी क्यूबा भागते वक्त रास्ते में ही डोमिनिका में पकड़ा गया था। भारत से फरार चल रहा मेहुल चोकसी साल 2018 से ही एंटीगुआ में रह रहा है और वहां पर उसे नागरिकता भी दी जा चुकी है।

मेहुल चोकसी का जन्म 5 मई 1959 को मुंबई में हुआ था। वह एक शाकाहारी जैन परिवार से है। उसने गुजरात के पालनपुर में स्थित जीडी मोदी कॉलेज में कॉमर्स से ग्रेजुएशन किया था। उसने साल 1975 में जेम्स एवं ज्वैलरी सेक्टर में अपने करियर की शुरुआत की और साल 1985 में अपने पिता से गीतांजलि जेम्स के कारोबार की लीडरशिप हासिल की। उसके तीन संतान हैं। एक बेटा और दो बेटियां।

उसने अपने कारोबार से करीब 70 ब्रैंड डेवलप किए थे, जिनमें से 20-30 तो काफी मशहूर हो गए थे। नक्षत्र, डी डमास जैसे सारे मशहूर ब्रैंड गीतांजलि से ही जुड़े थे। गीतांजलि के शंघाई और बीजिंग जैसे चीन के शहरों में भी 20 से ज्यादा स्टोर थे।

गीतांजलि ग्रुप अपने चरम दिनों में दुनिया के सबसे बड़े ब्रांडेड ज्वेलरी रिटेल में शामिल हो गया था। यह अपने करीब 4,000 शोरूम के द्वारा ज्वैलरी कारोबार करता था और भारत के संगठित ज्वैलरी बाजार में इसकी हिस्सेदारी 50 फीसदी से ज्यादा हो गई थी। मेहुल चोकसी इस ग्रुप का चेयरमैन है।

चोकसी न सिर्फ नीरव मोदी का मामा है, बल्कि वह ऐसी तीन कंपनियों में नीरव का साझेदार भी है, जिनकी कई मामलों में एजेंसियों के द्वारा जांच की जा रही है। मेहुल चोकसी ने हैदराबाद में एक स्पेशल इकोनॉमिक जोन भी डेवलप किया था।

मेहुल चोकसी और उसकी कंपनी गीतांजलि जेम्स पर यह आरोप है कि उन्होंने पंजाब नेशनल बैंक के कुछ अधिकारियों के साथ मिलकर 14 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का घोटाला किया। उन्होंने फर्जी तरीके से बार-बार बैंक से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LOU) हासिल की और फॉरेन लेटर ऑफ क्रेडिट में बढ़त भी कराते रहे। इसकी वजह से बैंक को 14 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हुआ।

इसके तहत पीएनबी के दो अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग हासिल की गई। यह अंडरटेकिंग इंडियन बैंक के नाम था। यह अंडरटेकिंग एक तरह से पीएनबी द्वारा दी जाने वाली गारंटी थी। इस अंडरटेकिंग का मतलब इतनी राशि का कर्ज देना था जिसका इस्तेमाल एक साल के लिए मोतियों के आयात के लिए किया जाना था। इसमें भी रिजर्व बैंक के नियम का उल्लंघन किया गया, क्योंकि नियम के मुताबिक इस एलओयू का इस्तेमाल सिर्फ तीन महीने तक के आयात के लिए किया जा सकता था। यह एलओयू ब्रिटिश आइलैंड और कई अन्य देशों की की फर्जी कंपनियों के नाम जारी किए जा रहे थे।

मार्च 2018 में एक स्पेशल पीएमएलए कोर्ट ने मेहुल चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया। इस सिलसिले में पंजाब नेशनल बैंक के 6 और चोकसी एवं नीरव की कंपनियों के छह अधिकारी-कर्मचारी भी गिरफ्तार किए जा चुके हैं। चोकसी को भारत सरकार ने भगोड़ा घोषित कर दिया है। उस पर मनी लॉन्ड्रिंग, धोखाधड़ी जैसे कई आपराधिक मामले दर्ज किए गए हैं।

मेहुल के साथ भारतीय बैंकों के साथ इस धोखाधड़ी में शामिल नीरव मोदी इन दिनों लंदन की जेल में है। उसके भारत प्रत्यर्पण का मुकदमा चल रहा है। मेहुल चोकसी और नीरव मोदी दोनों हीरा का कारोबार करते थे। मेहुल साल 2018 से ही कैरेबियाई द्वीप समूह के एंटीगुआ में था और कहने को केंद्रीय जांच ब्यूरो, प्रवर्तन निदेशायल जैसी एजेंसियां उसके प्रत्यर्पण की कोशिश में लगी हुई हैं। जब पहले ही मोदी सरकार अनापत्ति दे चुकी है तो उसका प्रत्यर्पण कैसे सम्भव है ?

सबसे पहले पंजाब नेशनल बैंक ने 29 जनवरी, 2018 को सीबीआई में एफआईआर दर्ज कर खुलासा किया कि उसके कुछ अधिकारियों ने 16 जनवरी को 280.7 करोड़ रुपये के फर्जी लेटर ऑफ़ अंडरस्टैंडिंग जारी किए हैं। हालांकि बाद में जब परतें खुलती गईं तो पता चला कि यह घोटाला तो 14 हजार करोड़ से भी ज्यादा रकम का है।

मेहुल चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने मार्च 2017 से मई 2017 के बीच पंजाब नेशनल बैंक से रकम निकाली थी।

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले का आरोपी और देश से फरार मेहुल चोकसी को एंटीगुआ की नागरिकता देने के मामले में वहां की सरकार ने सफाई दी है। एंटीगुआ सरकार का कहना है कि भारत सरकार की क्लीन चिट के आधार पर ही चोकसी को नागरिकता दी गई है। एंटीगुआ सरकार का यह भी कहना है कि भारत सरकार ने चोकसी के खिलाफ कोई सूचना नहीं दी थी, यहां तक कि सेबी ने भी चोकसी के नाम पर मंजूरी दी थी।

अब सवाल उठता है अगर मेहुल चोकसी भगोड़ा घोषित था उसके इस बयान को सरकार की तरफ चुनौती क्यों नहीं दी गई और उस पर कार्यवाही क्यों नहीं किया गया।

सुरजेवाला ने एक एंटीगुआ की ‘सिटिजनशिप इन्वेस्टमेंट यूनिट’ की प्रेस विज्ञप्ति की एक प्रति जारी करते हुए यह दावा किया कि ‘क्लीन चिट’ प्रमाणपत्र में स्पष्ट किया गया था कि चोकसी को लेकर कोई ‘प्रतिकूल सूचना’ नहीं है। 

चौकसी और नीरव मोदी देश के बड़े कारोबारी अंबानी और अडानी परिवार के रिश्तेदार हैं। जतिन मेहता की रिश्तेदारी जहाँ अडानी परिवार से रही है वही नीरव मोदी और मुकेश चौकसी की रिश्तेदारी अम्बानी परिवार से है। जतिन मेहता गौतम अडानी के भाई विनोद अडानी के समधी है। जतिन के बेटे सूरज की शादी कृपा अडानी से हुई है जो गौतम अडानी के भाई विनोद शांतिलाल अडानी की बेटी है। जबकि नीरव मोदी के भाई निशाल मोदी की शादी मुकेश और अनिल अंबानी की बहन की बेटी इशिता सलगांवकर से हुई है।

नीरव मोदी की बहन पूर्वी की शादी मयंक मेहता से हुई है। वह मोना मेहता के सगे भाई हैं जिनकी शादी रोजी ब्लू के मालिक रसेल मेहता से हुई है। मोना मेहता और रसेल मेहता की बेटी श्लोका मेहता मुकेश अम्बानी की बहू है और आकाश अम्बानी की पत्नी है।


(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ भवन पर यूपी मांगे रोजगार अभियान के तहत रोजगार अधिकार सम्मेलन संपन्न!

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश छात्र युवा रोजगार अधिकार मोर्चा द्वारा चलाए जा रहे यूपी मांगे रोजगार अभियान के तहत आज...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -