Monday, October 25, 2021

Add News

राजेश बिंदल इलाहाबाद और अकिल कुरैशी राजस्थान के नये चीफ जस्टिस

ज़रूर पढ़े

कलकत्ता हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिंदल इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किए गए हैं। साथ ही त्रिपुरा हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस एके कुरैशी को राजस्थान हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर ट्रांसफर किया गया है। देशभर के अलग-अलग हाई कोर्ट में आठ चीफ जस्टिस की नियुक्ति के लिए केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी है। सुप्रीम कोर्ट कॉलिजियम ने अलग-अलग हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की नियुक्ति के लिए नामों की सिफारिश केंद्र सरकार को भेजी थी। कानून मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि आठ चीफ जस्टिस की नियुक्ति के साथ-साथ पांच हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस का ट्रांसफर भी किया गया है।

कानून मंत्रालय के मुताबिक, कलकत्ता हाई कोर्ट के एक्टिंग चीफ जस्टिस राजेश बिंदल को इलाहाबाद हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया है। साथ ही मेघालय हाई कोर्ट के जस्टिस रंजीत वी मोरे को मेघालय हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस, कर्नाटक हाई कोर्ट के एक्टिंग चीफ जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा को तेलंगाना हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया है। साथ ही इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस रितु राज अवस्थी को कर्नाटक हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया है। वहीं, कर्नाटक हाई कोर्ट के जस्टिस अरविंद कुमार को गुजरात हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर नियुक्त किया गया है।

इसी तरह छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा को आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया है। मध्यप्रदेश हाई कोर्ट के जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव को कोलकाता हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस, हिमाचल प्रदेश के एक्टिंग चीफ जस्टिस आरवी मालिमथ को मध्यप्रदेश हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया है।

साथ ही त्रिपुरा हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस एके कुरैशी को राजस्थान हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर ट्रांसफर किया गया है। वहीं, राजस्थान हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस इंद्रजीत मोहंती को त्रिपुरा हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस, मध्यप्रदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक का हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर ट्रांसफर किया गया है।

मेघालय हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस विश्वनाथ सोमादर को सिक्किम हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस और आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस एके गोस्वामी को छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर ट्रांसफर किया गया है

वर्चुअल सुनवाई मानक नहीं हो सकती

उच्चतम न्यायालय के जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस बीआर गवई की पीठ ने शुक्रवार को मौखिक रूप से टिप्पणी की कि वर्चुअल सुनवाई मानक नहीं हो सकती, क्योंकि इसे महामारी के कारण सुनवाई को लेकर आए असाधारण संकट से निपटने के लिए अपनाया गया था। पीठ ने यह भी टिप्पणी की कि यह कहना कि जनता को लाइव स्ट्रीम के माध्यम से अदालत की सुनवाई देखने का अधिकार है और वहीं दूसरी ओर यह कहना कि उन्हें “आभासी सुनवाई” का अधिकार होना चाहिए, खुद में विरोधाभासी हैं।

पीठ एक रिट याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें अदालतों में फिजिकल और वर्चुअल सुनवाई के लिए हाइब्रिड विकल्पों को बनाए रखने की मांग करते हुए कहा गया था कि यह न्याय तक पहुंचने के अधिकार को बढ़ाता है। एक मौलिक अधिकार के रूप में “वर्चुअल सुनवाई” की मांग वाली रिट याचिका संयुक्त रूप से पूर्व आईपीएस अधिकारी जूलियो रिबेरो, आरटीआई कार्यकर्ता शैलेश आर गांधी और “नेशनल फेडरेशन ऑफ सोसाइटीज फॉर फास्ट जस्टिस” नामक एक संगठन द्वारा संयुक्त रूप से दायर की गई थी।

याचिकाकर्ताओं के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता मनोज स्वरूप ने अदालतों में फिजिकल और वर्चुअल सुनवाई के लिए हाइब्रिड विकल्पों को बनाए रखने के लिए तर्क दिया। न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव ने पूछा कि क्या वकील ने कल रात जारी एसओपी को देखा है जिसमें प्रति सप्ताह दो दिन फिजिकल सुनवाई अनिवार्य है और क्या यह दलील है कि एसओपी को निरस्त कर दिया जाये। वरिष्ठ अधिवक्ता स्वरूप ने दलील दी कि हाइब्रिड मोड को नागरिकों तक न्याय की पहुंच के एक हिस्से के रूप में रखा जाना चाहिए। उन्होंने दलील दी कि वर्तमान याचिका उन अन्य याचिकाओं के विपरीत औसत नागरिकों की ओर से थी जो न्यायविदों और वकीलों की ओर से दायर की गई थी।

जस्टिस राव ने जिस पर चुटकी लेते हुए कहा कि इन प्रतिष्ठित नागरिकों को खुली अदालतों और खुले न्याय के मूल सिद्धांतों के बारे में बताया जाना चाहिए। हम चाहते हैं कि अदालतें जनता के लिए खुली हों और न्याय खुला हो “यह कहना एक बात है कि कार्यवाही का प्रसारण होना चाहिए, न्यायमूर्ति राव ने जारी रखा, “यह कहना दूसरी बात है कि हम कोविड से छुटकारा पाने के बाद भी उम्मीद करते हैं कि यह संस्थान बंद हो जाना चाहिए, क्योंकि आभासी सुनवाई एक मौलिक अधिकार है।

पीठ ने इस याचिका को इसी तरह की राहत की मांग वाली पूर्व याचिका (ऑल इंडिया एसोसिएशन ऑफ ज्यूरिस्ट्स द्वारा दायर) के साथ टैग किया है। उस याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने बार काउंसिल ऑफ इंडिया और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन को उनकी राय सुनने के लिए नोटिस जारी किया था। उस याचिका पर सुनवाई करते हुए एससीबीए के अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा था कि एससीबीए का स्टैंड था कि पूर्ण रूपेण फीजिकल सुनवाई होनी चाहिए।

वरिष्ठ वकील को फटकार

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने यूनिटेक मामले की सुनवाई के दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह की दलीलों पर कड़ी आपत्ति जताई।आम्रपाली और सुपरटेक जैसी रियल एस्टेट कंपनियों के खिलाफ मामलों में अदालत के आदेशों के संदर्भ में सिंह के इस तर्क से न्यायाधीश स्पष्ट रूप से नाराज हो गए कि उच्चतम न्यायालय मामले को एकपक्षीय तरीके से चला रही थी।

विकास सिंह ने कहा कि आम्रपाली आप चला रहे हैं, यूनिटेक आप चला रहे हैं, सुपरटेक आप चला रहे हैं। आपने मेरे पिता, मेरी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है, मेरे बच्चों को भी गिरफ्तार कर लिया है। हम सबको सलाखों के पीछे डाल दो। कम से कम मुझे ग्रांट थॉर्नटन रिपोर्ट का बचाव करने दें। सिंह आरोपी यूनिटेक के प्रमोटर संजय चंद्रा और अजय चंद्रा की ओर से पेश हो रहे थे।

जस्टिस चंद्रचूड़ ने पूछा कि इस अदालत के खिलाफ आरोप लगाने से पहले, देखो यह भाषा क्या है? यह बाद में पछताना क्या है। मेरी बात सुनो, मेरी बात सुनो…क्या यह अदालत को संबोधित करने का तरीका है? सिंह ने अदालत से एक पक्षीय सुनवाई नहीं करने और इसके बजाय आरोपी को सुनने का आग्रह किया, जबकि कोर्ट से चंद्र बंधुओं को फोरेंसिक ऑडिटर ग्रांट थॉर्नटन रिपोर्ट की एक प्रति देने के लिए कहा ताकि वे अदालत में एक उचित बचाव का निर्माण कर सकें।

हालांकि, अपनी बात रखते हुए, वरिष्ठ वकील ने प्रस्तुतियाँ दीं कि कैसे अदालत प्रवर्तन निदेशालय से उच्चतम न्यायालय में कंपनियों के बाद कंपनियों को चलाने के लिए गुप्त नोट ले रही थी। सिंह ने आग्रह किया कि मैं नहीं चाहता कि लॉर्डशिप बाद में पछताए जावे कि आपने समय पर कार्रवाई नहीं की। मुझे यकीन है कि अदालत के पास चंद्राओं के खिलाफ कुछ भी व्यक्तिगत नहीं है। मुझे ग्रांट थॉर्नटन रिपोर्ट दी जानी चाहिए थी। मुझे यह दिखाने में सक्षम होना चाहिए था कि फंड का कोई डायवर्जन नहीं है। परीक्षण में यदि यह पाया जाता है कि धन का कोई विचलन नहीं है, तो क्या घड़ी को पीछे की ओर घुमाया जा सकता है और समय वापस मेरे हाथ में दिया जा सकता है। क्या ग्रांट थॉर्नटन की रिपोर्ट मुझे अभी नहीं दी जानी चाहिए।

पीठ ने दलीलों को हल्के में नहीं लिया और स्पष्ट रूप से नाराज जस्टिस चंद्रचूड़ ने सिंह को शीर्ष अदालत के खिलाफ आरोप नहीं लगाने की चेतावनी दी। पीठ के दूसरे जज जस्टिस एमआर शाह ने भी यह कहते हुए तुलना की कि ऐसे कई कारण थे जिनकी वजह से गिरफ्तारी के आधार आरोपी को नहीं बताए जा सकते थे और अदालत को सिंह से इसकी उम्मीद नहीं की थी।

यूनिटेक के प्रवर्तक संजय चंद्रा और अजय चंद्रा के घर खरीदारों को ठगने के आरोप में गिरफ्तार किए जाने के बाद फिलहाल जेल में हैं। चंद्रा को मार्च 2017 में दिल्ली पुलिस की आर्थिक कार्यालय शाखा ने गिरफ्तार किया था।

पीठ ने तिहाड़ जेल के उन अधिकारियों को तत्काल निलंबित करने और आपराधिक जांच का निर्देश दिया है जिन्होंने यूनिटेक के पूर्व प्रमोटरों संजय चंद्रा और अजय चंद्रा को जेल में रहने के दौरान अनुचित सहायता प्रदान की थी। दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना की रिपोर्ट पर गौर करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्देश दिया। पीठ ने आदेश दिया कि इस कार्यवाही के लंबित रहने तक तिहाड़ जेल के ये अधिकारी निलंबित रहेंगे।
(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

एक्टिविस्ट ओस्मान कवाला की रिहाई की मांग करने पर अमेरिका समेत 10 देशों के राजदूतों को तुर्की ने ‘अस्वीकार्य’ घोषित किया

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन ने संयुक्त राज्य अमेरिका, जर्मनी, फ़्रांस, फ़िनलैंड, कनाडा, डेनमार्क, न्यूजीलैंड , नीदरलैंड्स, नॉर्वे...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -